Thursday, June 26, 2014

A Complete Introduction to Gemstone - "Yellow Sapphire" (Pukhraj Ratna ka Sampoorna Parichay)


This is my fourth post as a part of the introductory series on Gemstones. The first three posts were about Pearl, Red Coral and Emerald. This post is about Yellow Sapphire. 



(Android users who are watching this post through my app (Astro Junction App) on their smartphones, should click on the title of the post above to see the complete post.)
What is Yellow Sapphire

Yellow sapphire is Jupiter's gemstone. Sapphire belongs to Corundum Mineral species. Corundum is the second hardest substance on earth after Diamond. Sapphire comes in many colors like blue, pink, yellow etc. Yellow color of Sapphire comes due to the iron content in it. Most natural sapphire is quite pale and light colored. There are very few sapphires which show brilliant dark yellow colors. If you do see such sapphire then you should be suspicious because it may either be a heated sapphire or a substitute of Sapphire like Citrine. 

Physical Properties of Coral:  

Mohs Scale: 9.0
Specific Gravity: 3.97 - 4.03
Birefringence: 0.008
Refractive Index: 1.76 - 1.77


Origin: The three most famous regions for sapphire are Kashmir, Burma and Srilanka. Other significant locations known for mining Sapphires are Madagascar, Australia, China, Montana USA, Tanzania and Thailand.    

Natural Vs Synthetic Yellow sapphire: Natural Yellow Sapphires are mined but Synthetic Sapphires are produced in lab. Synthetic Sapphires look almost the same as a natural Sapphire. Most fake Yellow Sapphires are made of glass. 

  • Look at the stone, if it is too big and too colorful then it may be a fake stone made of glass. 
  • Check for scratches on the surface of the Yellow Sapphire. If there are many scratches then it should invoke suspicion. Because Yellow Sapphire is one of the hardest substances and there are very few materials which can scratch a Sapphire. But if it is a glass, there might be many scratches. 
  • Dip the stone in cow's milk for 24 hours, if there isn't any difference in the brilliance and shine of the stone then it's an original Yellow Sapphire. 
These are some general checks which anyone can do but the measurement of optical properties of the stone gives the actual result about the originality of the stone. 


Synthetic Yellow Sapphire


Natural Yellow Sapphire

How to Identify a Genuine Yellow Sapphire: As I have mentioned for other stones, that their imitations exist in the market, the same is true for Yellow Sapphire as well. To identify a genuine Yellow Sapphire, its physical and optical properties like specific gravity, Moh's hardness, Refractive Index etc. are measured and compared against the properties of a genuine Yellow Sapphire and a conclusion is drawn if it is a natural or a synthetic Yellow Sapphire. All these parameters can be determined from tools like Refractometer (used to measure birefringence and refractive index), Polariscope, spectrometer etc.
For example, when seen under Spectroscope, there should be a dark line at the 450 and 460nm mark. The yellow sapphires which have more iron content in them show such kind of spectrum. If the stone does not show this kind of spectrum under Spectrometer then you have all the reasons in the world to be suspicious of the stone. 

Absorption Spectrum of Genuine Yellow Sapphire Under Spectroscope

Similarly the other tools divulge more details about the stone and help in determining the originality of stone. 
When you go to a gemstone dealer to buy a gemstone, most of the time they say that the stone is natural and genuine, never believe them and get the stone tested from a reliable source or lab. 
The worrying factor is that now a days some gem labs have nexus with some corrupt jewelers and the labs give genuine certificates for fake stones to the jewelers. And then these jewelers sell fake "certified gems" for high price to you.   

Spectroscope to See Absorption Spectrum

Gem Refractometer to Measure Refractive Index of a Stone
Polariscope for measuring Optic Character of Gemstones
Treatments on Yellow Sapphire: Mostly the following kinds of treatments are done on Yellow Sapphire:

1) Fracture Filling: In this kind of treatment, the fractures within the stone are filled with oil, wax or plastic to hide the deficiency of stone. 

2) Lead Glass Fillings: This filling is done in the Yellow Sapphire to hide the cracks and to increase the weight of the stone.   

3) Heat Treatment: Yellow Sapphire is heated at high temperature usually at 1900 degrees. This is done mainly to hide the impurities of the stone and to darken the yellow color of the stone. Most of the brilliant yellow colored sapphires that you see are heat treated. 

Heated Yellow Sapphire
4) Irradiation: In this type of treatment colorless stones are treated to give them yellow color. 

5) Beryllium Treatment: The stone is heated with Beryllium to give it yellow color.

The buyers should be careful to identify these treatments. Astrologically such treated stones are not considered suitable.


Who Should Wear it: Those who have Aries, Cancer, Leo, Scorpio, Sagittarius, Pisces in their Lagna (First House) can wear Yellow Sapphire. 








How to Energize: I have already written a post on how to energize the stones. The post can be accessed by clicking on this link

Mantra to Energize Red Coral:  

Om Gam Gurve Namaha
or 
Om Graam Greem Graum Sah Gurve Namaha
 
General Benefits: Yellow Sapphire is Jupiter's stone. Jupiter rules over Children, Marital happiness and harmony, wealth, wisdom etc. Wearing a Yellow Sapphire helps in delayed marriage as well as in marital issues. It helps where progeny is delayed. It improves health. Wearing a Yellow Sapphire gives benefit in diseases like Jaundice, cough, dental problems, bad breath, piles, lack of appetite, fever etc. But be warned, stones should not be worn without the suggestion of an expert astrologer. If the stone is inappropriate as per your horoscope then it may harm, if worn.

Contradictory Stones as per Vedic Astrology: Emerald, Diamond, Hessonite and Cat's Eye should not be worn along with Yellow Sapphire.

Substitute Stones: Yellow Tourmaline, Citrine, Yellow Garnet. 

Cheaper Lookalike Stones: There are some cheaper stones available which are not Yellow Sapphire but look quite similar to Yellow Sapphire. Sometimes sellers fool buyers by selling these cheaper stones as Yellow Sapphire
Synthetic Yellow Sapphire, Yellow Tourmaline, Citrine, Yellow Garnet etc. are some of the stones which look similar to Yellow Sapphire.



Citrine


Yellow Tourmaline


Yellow Garnet

Do's and Dont's: 1) Yellow Sapphire gives maximum benefit when worn with Jupiter Yantra.  

2) Yellow Sapphire gives complete benefit only when it is worn after energizing. 

3) After wearing Yellow Sapphire, it should not be removed even for a minute. Yellow Sapphire absorbs the rays of the sun and keeps on conserving the energy from the rays within your body. If Yellow Sapphire is removed even for a minute, the conserved energy gets immediately lost. If for some reason it needs to be removed, a new auspicious muhurta needs to be found and Yellow Sapphire needs to be charged again with mantras and then worn. 

4) Yellow Sapphire should be avoided to come in contact with harmful chemicals.

5) Wear only natural Yellow Sapphire. Synthetic Yellow Sapphire do not have any benefit.

6) An Yellow Sapphire which has crack or black dots in it, should not be worn. It may give negative and depressing thoughts to the wearer. 


रत्नों के ऊपर मेरी सीरीज़ में यह चौथी पोस्ट है पुखराज के ऊपर । मेरी पहली तीन ब्लॉग पोस्ट मोती, मूंगा और पन्ना के ऊपर थी ।

पुखराज: पुखराज जिसे पुष्कराज या पुष्पराज भी कहा जाता है ब्रहस्पति का रत्न है और यह पीले या हलके पीले रंग का होता है । पुखराज खनिज पदार्थों में कोरण्डम स्पीशीज़ में माना जाता है । कोरन्डम श्रेणी के रत्न हीरे के बाद सबसे कठोर रत्न माने जाते है । पुखराज पीले के अलावा कई रंगों में आता है जैसे नीला, गुलाबी, पीला आदि । नीले रंग के पुखराज को पुखराज  नहीं बल्कि नीलम कहा जाता है । इस तरह दोनों ही कोरण्डम श्रेणी के रत्न है लेकिन रंगों के  बदलने से उनके नाम भी बदल जाते है ।
पुखराज में पीला रंग लौह तत्त्व की वजह से आता है । एक अच्छा प्राकृतिक पुखराज हलके पीले रंग का होता है ।  बहुत कम प्राकृतिक पुखराज हैं जो चटख पीला रंग दिखाते है । इसलिए अगर आपको पुखराज चटख पीले रंग में दिखाए दे तो आपको शक़ हो जाना चाहिए की पुखराज या तो ट्रीटेड है और या फिर ये पुखराज की तरह दिखने वाला कोई सस्ता उपरत्न है जैसे सुनहला ।    

पुखराज के कुछ भौतिक गुण

मोह्स स्केल: 9.0
आपेक्षिक भार: 3.97 - 4.03
बायरफ्रिन्जेन्स: 0.008
अपवर्तनांक: 1.76 - 1.77

उत्पत्ति: पुखराज की उत्पत्ति के लिए 3 जगह जो सबसे प्रसिद्द हैं वो हैं कश्मीर, बर्मा और श्रीलंका । इनके अलावा पुखराज का खनन मैडागास्कर, ऑस्ट्रेलिया, चाइना, मोन्टाना अमेरिका, तंज़ानिया और थाईलैंड में भी किया जाता है । 

प्राकृतिक और कृत्रिम पुखराज : प्राकृतिक पुखराज खानों से खुदाई करके निकाला जाता है जबकि कृत्रिम पुखराज लैब में बनाया जाता है । कृत्रिम पुखराज दिखने में बहुत हद तक प्राकृतिक पुखराज जैसा लगता है । कृत्रिम पुखराज ज़्यादातर कांच से बनाया जाता है । 

  • रत्न को ध्यान से देखिये अगर यह कुछ ज्यादा ही बड़ा और ज्यादा ही रंगीन दिखे तो सावधान हो जाइए । यह नकली पुखराज हो सकता है । 
  • पुखराज को किसी मैग्नीफाइंग ग्लास से देखिये और ध्यान दीजिये की उसकी सतह पर झुर्रियां और खरोंचें तो नहीं है । पुखराज सबसे ठोस और मज़बूत पदार्थों में से एक है और उसे खरोंच लगाने वाले बहुत ही कम पदार्थ हैं । अगर सतह पर बहुत निशान  हैं तो यह नकली पुखराज या फिर कोई उपरत्न हो सकता है । 
  • पुखराज को 24 घंटे के लिए गाय के दूध में भिगो दीजिये अगर उसके रंग और चमक में कोई फर्क न पड़े तो वह असली पुखराज हो सकता  है । 
यह ऐसे परीक्षण हैं जो कोई भी कर सकता है । लेकिन पूरे निश्चय से रत्न की असलियत के बारे में तभी बताया जा सकता है जब उसके भौतिक और प्रकाशीय गुणों को कुछ उपकरणों से मापा जाता है । नकली और असली पुखराज की फोटो ऊपर दी गयी है ।

असली पुखराज की पहचान: जैसा की सभी रत्नों के साथ होता है, पुखराज का कृत्रिम रूप यानी की नकली पुखराज भी बाजार में मिलता है जोकि कांच और इसी तरह की चीज़ों से बनाया जाता है । रेफ्रक्टोमीटर, पोलरीस्कोप, डाइक्रोस्कोप (फोटो ऊपर दी गयी है),स्पेक्ट्रोस्कोप जैसे उपकरणों से पुखराज के भौतिक गुण मापे जाते हैं और पता लगा लिया जाता है की पुखराज असली है या नकली । उदाहरण के लिए स्पेक्ट्रोस्कोप उपकरण से अगर पुखराज को देखा जाता है तो स्पेक्ट्रम के 450 और 460 nm पर काले रंग की लाइन दिखती है (फोटो ऊपर दी गयी है) । लेकिन अगर ऐसा नहीं दिख रहा है तो यह नकली पुखराज हो सकता है । इसी तरह बाकी उपकरणों से हम और दूसरे भौतिक गुण पता कर सकते हैं और ये पता लगा सकते हैं की पुखराज असली है या नकली । 
आजकल कई रत्न बेचने वाले आपको कहेंगे की रत्न असली है मेरी आपको सलाह है की उनका विश्वास न करें और किसी अच्छी लैब में या फिर किसी विशेषज्ञ से जाकर रत्न की जांच ज़रूर करवाएं ।  
चिंता का विषय तो यह है की आजकल कई लैब भी पैसों के लालच में आकर नकली सर्टिफिकेट बनाकर दे देती हैं और फिर वही रत्न आपको ऊंचे दामों में बेचे जाते हैं । 

पुखराज की ट्रीटमेंट: शुद्ध और बिना ट्रीटमेंट किया हुआ प्राकृतिक पुखराज दुर्लभ है । आमतौर पर पुखराज पर निम्न पांच तरह की ट्रीटमेंट करी जाती है । 

1) फ्रैक्चर फिलिंग: पुखराज की सतह पर जो दाग या धब्बे होते हैं उन्हें मोम, तेल या प्लास्टिक से भर दिया जाता है ताकि वो दिखाई न दें । जिससे दिखने में पुखराज बिलकुल सही दिखता है और उसकी बाहरी सुंदरता की वजह से उसकी कीमत बढ़ जाती है ।

2) लैड और कांच की भराई: इस ट्रीटमेंट में लैड और कांच को पुखराज की दरारों और गड्ढो में भरा जाता है जिससे वह छिप जाते हैं और रत्न का भार भी बढ़ जाता है । 

3) हीट ट्रीटमेंट: यह ट्रीटमेंट बहुत सारे पुखराजों पर की जाती है । इसमें पुखराज को भट्ठी में डालकर बहुत ऊंचे तापमान पर गर्म किया जाता है जिससे उसकी अशुद्धियाँ गुम हो जाती हैं और उसका रंग काफी गहरा पीला हो जाता है । अगर आप कोई एकदम साफ़ पुखराज और गहरे पीले रंग का पुखराज देखें तो ऐसा हो सकता है की इस पर हीट ट्रीटमेंट की गयी हो । 

4) विकिरण: इस तरह की ट्रीटमेंट ऐसे रत्नों पर की जाती है जो रंगीन नहीं होते हैं और उनपर यह ट्रीटमेंट करके पीला रंग चढ़ा दिया जाता है । 

5) बैरीलियम ट्रीटमेंट: इस ट्रीटमेंट में रत्न को बैरीलियम के साथ उच्च तापमान पर गर्म किया जाता है ताकि रत्न पर पीला रंग और गहरा हो जाए ।

इसीलिए पुखराज खरीदते समय बहुत सावधान रहना चाहिए । ट्रीटमेंट किये हुए रत्न ज्योतिष की दृष्टि से अच्छे नहीं माने जाते ।   

पुखराज किसे डालना चाहिए: मेष, कर्क, सिंह, वृश्चिक, धनु और मीन लग्न (फोटो ऊपर दी गयी है) वालों के लिए पुखराज अच्छा रहता है । 

पुखराज को कैसे अभिमंत्रित करना चाहिए: मैंने इसके बारे में पहले से ही एक पोस्ट लिखी हुई है । पाठक इस लिंक पर क्लिक करके उस पोस्ट को पढ़ सकते हैं । 

पुखराज को अभिमंत्रित करने का मंत्र

ॐ गम गुरवे नमः  
या फिर 
ॐ ग्राम ग्रीम ग्रौम सह गुरवे नमः 

 पुखराज पहनने से लाभ: पुखराज ब्रहस्पति ग्रह का रत्न है । ब्रहस्पति (गुरु) का संतान, पुत्र, वैवाहिक सुख, धन, बुद्धि इत्यादि पर अधिकार है । पुखराज पहनने से विवाह सम्बंधित विषयों जैसे पति पत्नी के बीच अलगाव और विवाह होने में देरी होना इत्यादि में फायदा होता है । जिन्हे संतान नहीं होती या फिर जिनकी संतान को किसी तरह की मुश्किल हो रही है, जिनकी सेहत खराब रहती है ऐसे सभी लोगों को इससे फायदा होता है । इसके अलावा पुखराज पहनने से पीलिया, भूख कम लगना, मुख से दुर्गन्ध आना, बवासीर, बुखार, खांसी, दांतों सम्बंधित समस्याओं आदि में भी लाभ मिलता है ।

लेकिन ध्यान रहे कोई भी रत्न किसी विशेषज्ञ को अपनी कुंडली दिखाकर ही पहनना चाहिए । कुंडली के हिसाब से अनुपयुक्त रत्न डालने से फायदे के बजाये नुक्सान हो सकता है । 

पुखराज के विरोधी रत्न: पन्ना, हीरा, गोमेद और लहसुनिया पुखराज के साथ नहीं डालने चाहिए । 

पुखराज के उपरत्न: सुनहला, पीला टर्मलाइन, पीला गार्नेट । 

पुखराज से मिलते जुलते सस्ते रत्न कई ऐसे रत्न हैं जो दिखने में बिल्कुल पुखराज की तरह नज़र आते हैं लेकिन वो पुखराज नहीं होते बल्कि पुखराज कि तरह दिखने वाले सस्ते रत्न होते हैं । कई दुकानदार इन्ही रत्नों को पुखराज कहकर बेच देते हैं । ऐसे कुछ रत्न हैं नकली पुखराज, पीला टर्मलाइन, सुनहला, पीला गार्नेट (याकूत) आदि । (फोटो ऊपर दी गयी है ) । 


पथ्य और अपथ्य:  1) पुखराज को अगर ब्रहस्पति यंत्र के साथ पहना जाए तो बहुत फायदा होता है।

2) पुखराज पूरा फायदा तभी देता है जब इसे विधि अनुसार अभिमंत्रित करके पहना जाए। 

3) पुखराज डालने के बाद एक मिनट के लिए भी उतारना नहीं चाहिए । पुखराज सूर्य की किरणों को  आपके शरीर में संचित करता रहता है जिससे शरीर के ऊर्जा चक्र संचालित होते हैं । अगर पुखराज को उतार दिया जाए तो यह सारी संचित की हुई ऊर्जा समाप्त हो जाती है और रत्न डालने का फायदा नहीं रहता । अगर किसी वजह से इसे उतारना ही पड़े तो फिर से अच्छा मुहूर्त देखकर पूरे विधि विधान से अभिमंत्रित करके ही डालना चाहिए अन्यथा फायदा नहीं होता । 

4) कोशिश करें की नुकसानदायक केमिकल्स पुखराज के ऊपर न पड़ें अन्यथा इसका रंग फीका पड़ सकता है ।  

5) केवल प्राकृतिक पुखराज ही पहने । कृत्रिम पुखराज पहनने का कोई फायदा नहीं होता ।

6) ऐसा पुखराज जिसमे दरार पड़ी हो या काले धब्बे हों ऐसे पुखराज को नहीं पहनना चाहिए । इसके डालने से नुक्सान हो सकता है । 



Gaurav Malhotra

About the Author:

Gaurav Malhotra is a B Tech in Computer Engineering from National Institute of Technology (NIT, Kurukshetra) and a passionate follower of Astrology. He has widely traveled across the world and helped people with his skills. You can contact him on his email jyotishremedy@gmail.com. You can also read more about him on his page. His Facebook page is this.

14 comments:

  1. my name is nishit
    my dob 25-12-1989
    time 8:06 pm
    place junagadh gujarat
    which stone i wear ?

    ReplyDelete
    Replies
    1. You should wear a yellow sapphire and a rahu yantra.

      http://www.theastrojunction.com/2013/11/rahu-yantra.html

      Delete
  2. Dob 28/9/82
    Time 1:20 pm
    Place jammu(j&k)
    Name Avinash
    Respected Sir,should I wear yellow sapphire?
    If yes,please suggest the weight and auspicious time to wear the same

    ReplyDelete
    Replies
    1. Yes you should wear a yellow sapphire. It should be 7.25 ratti and should be worn on 29th June. You should also wear a Rahu yantra along with it http://www.theastrojunction.com/2013/11/rahu-yantra.html

      Delete
    2. Thank you,Gaurav Sir.I am going to wear the same but cannot wear on 29/6/14 as I am far away from home.please suggest the auspicious date in july/ august

      Delete
  3. Plz advise on shubh muhurt on 29th june for wearing gemstone , yantra or rudraksh

    ReplyDelete
  4. Gauravji plz suggest some remedy or mantra so that graduation final year certificate are published which have been held up by college authorities for filmsy grounds... whole career and life depends on this result. Plz advise sir.....

    ReplyDelete
    Replies
    1. Please recite "Om Gam Ganpataye Namaha" daily for as many times as you can.

      Please like my facebook page to get more remedies and tips

      https://www.facebook.com/AstrologyJunction

      Delete
  5. My Name Pankaj
    dob: 19/04/80
    time 8:05 a.m.
    place Akola Maharashtra
    im wearing Blue sapphire wt 4.17cts since 3yr .Plz advice is it right for me

    ReplyDelete
  6. Respected Sir,
    Please suggest the auspicious date to wear yellow sapphire in month of july and august

    ReplyDelete
  7. Gauaravji
    Happy Rathyatra!!!
    May lord Jagannath bless u always...

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank you and I wish the same for you.

      Delete

I get huge no. of comments everyday and it is not possible for me to reply to each and every comment due to scarcity of time. I will try my best to reply at least a few comments everyday.

ShareThis