Tuesday, July 11, 2017

Vishnu Sahasranaam in Hindi and English



Dear Readers

I am going to write Vishnu Sahasranaam in this post which is one of the most effective remedies for almost all the problems of life. Based on my personal experience, I would say that Vishnu Sahasranaam is a miraculous remedy for any and every problem of life. The main push behind writing this post was when I tried to find the hindi meanings of 1000 names of Lord Vishnu, I could find them no where on the internet. In fact I browsed through various books but I could not find the hindi meanings of the 1000 names. For me it is necessary because when you are reciting the names you should know the meaning and then only you can have the inner feeling and devotion. It is quite long and it took me a long time and lot of effort to create this post. It may still have some small errors in it and I apologize for those mistakes.

Procedure: The procedure is quite straightforward. One should have complete faith and devotion in Lord Vishnu while reciting it. It should preferably be recited in the morning everyday facing east direction. 

Benefits of Reciting Vishnu Sahasranaama:

1) Those who chant these names daily are blessed by good luck and fortune

2) It helps in relieving one from fears and worries. 

3) It protects one from evil energies as well as enemies. 

4) All obstacles and problems are removed. 

5) It brings one closer to Lord Vishnu and all the sins are absolved. 

6) One gets released from the birth and death cycle and gets moksha.

7) All wishes are fulfilled. 

There are many other benefits which can be seen below under Phal Shruti

Note: If one can not recite the complete sanskrit shlokas below then one can recite only the 1000 names as well. That will work too.

प्रिय पाठकों 

कई पाठकों ने मुझे विष्णु सहस्रनाम लिखने के  लिए प्रेरित किया था। इसलिए इस पोस्ट में मैं विष्णु सहस्रनाम लिखने जा रहा हूँ। विष्णु सहस्रनाम जीवन की सभी समस्याओं के लिए एक बेहद प्रभावी उपाय है। मैं अपने व्यक्तिगत अनुभव के आधार पर कहूंगा की ये एक चमत्कारिक उपाय है अगर इसे पूरी श्रद्धा और विशवास के साथ किया जाए। इस पोस्ट को लिखने के पीछे ख़ास कारण ये था की मैं विष्णु जी के 1000 नामों के हिंदी में मतलब ढूंढ रहा था लेकिन मुझे इंटरनेट पर कहीं भी नहीं मिला। तब मैंने इस पोस्ट को लिखना शुरू किया। इसमें मैंने सभी 1000 नामों के हिंदी और अंग्रेजी में मतलब लिखे हैं। मतलब देखने से उस नाम का जप करते हुए मन में श्रद्धा आती है इसलिए मैंने मतलब भी लिखे हैं। ये पोस्ट काफी लम्बी हो गयी है और इसलिए इसमें कई त्रुटियां भी रह गयी हो सकती हैं जिसके लिए मैं क्षमाप्रार्थी हूँ।

विधि: इसे करने की विधि बिलकुल सीधी है। इसे करते हुए मन में विष्णु जी के लिए अगाध प्रेम और श्रद्धा होनी चाहिए। इसे करने का सबसे अच्छा समय सुबह है और पूर्व दिशा की ओर मुख करके करना चाहिए।

विष्णु सहस्रनाम के फायदे :

1) इसका पाठ रोज़ करने वालों को सफलता और सौभाग्य की प्राप्ति होती है। 

2) भय और चिंताओं से मुक्ति मिलती है। 

3) इसे करने वाला काले जादू और अन्य नकारात्मक शक्तियों से बचा रहता है। 

4) सभी अड़चनें और समस्याएँ समाप्त हो जाती हैं। 

5) यह प्रभु विष्णु के करीब लेकर आता है एवं इससे पाप कटते हैं। 

6) इसे नित्य श्रद्धा से करने वाला जन्म मरण के चक्कर से छूट कर मोक्ष प्राप्त कर लेता है। 

7) सभी इच्छाएं पूरी होती हैं।

इसे करने के और भी कई फायदे हैं जो नीचे फल श्रुति के अंतर्गत दिए गए हैं  

नोट: अगर कोई नीचे दिए पूरे संस्कृत के श्लोक न पढ़ पाए तो केवल 1000 नाम भी पढ़ सकता है।  


                                       Meditate on Lord Vishnu

                                                      ध्यान 


 
śuklāṁbaradharaṁ viṣṇuṁ śaśivarṇaṁ caturbhujam |
prasannavadanaṁ dhyāyet sarvavighnōpaśāṁtaye || 1 ||

Dressed in white you are,
Oh, all pervading one,
And glowing with the colour of moon.
With four arms, you are, the all knowing one
I meditate on your ever-smiling face,
And pray, Remove all obstacles on my way.


आप चन्द्रमा जैसे श्वेत रंग में रंगे हुए हैं और उसी रंग में आपकी आभा चमक रही है। आप अन्तर्यामी हैं एवं चार भुजाओं वाले हैं। मैं आपके सदा मुस्कुराने वाले चेहरे पर ध्यान लगा रहा हूँ और प्रार्थना कर रहा हूँ की मेरे पथ की सारी समस्याएँ दूर हो जाएँ।
 


 

yasya dviradavaktrādyāḥ pāriṣadyāḥ paraḥ śatam |
vighnaṁ nighnanti satataṁ viṣvakasenaṁ tamāśraye || 2 ||

The elephant faced one along with his innumerable attendants,
Would always remove obstacles as we depend on Vishvaksena.


बहुत सारे सेवकों वाले हाथी समान चेहरे वाले विश्वक्सेना हमारे सभी कष्ट दूर करेंगे अगर हम उन पर पूरी तरह समर्पित हो जाएंगे।


 

vyāsaṁ vasiṣṭhanaptāraṁ śakteḥ pautramakalmaṣam |
parāśarātmajaṁ vaṁde śukatātaṁ tapōnidhim || 3 ||

I bow before you Vyasa,
The treasure house of penance,
The great grand son of Vasishta.
The grand son of Shakthi,
The son of Parasara.
And the father of Shuka.


मैं व्यास को प्रणाम करता हूँ जो तपस्या की मूर्ति हैं, वसिष्ठ ऋषि के परपोते हैं। शक्ति के पोते हैं। पराशर के पुत्र हैं। और शुक के पिता है।

 

vyāsāya viṣṇurūpāya vyāsarūpāya viṣṇave |
namō vai brahmanidhaye vāsiṣṭhāya namō namaḥ || 4 ||

Bow I before,
Vyasa who is Vishnu,
Vishnu who is Vyasa,
And again and again bow before,
He, who is born,
In the family of Vasishta.


व्यास ही विष्णु हैं और विष्णु ही व्यास हैं और मैं उन्हें प्रणाम करता हूँ। वो जो वशिष्ठ के परिवार में जन्मा है उसे मेरा बारम्बार प्रणाम है।  

 

avikārāya śuddhāya nityāya paramātmane |
sadaikarūparūpāya viṣṇave sarvajiṣṇave || 5 ||

Bow I before Vishnu
Who is pure,
Who is not affected,
Who is permanent,
Who is the ultimate truth.
And He who wins over,
All the mortals in this world.


वो जो पवित्र है, जो परम है, जो सदा सत्य है जो संसार की सब नश्वर वस्तुओं से ऊपर है उस विष्णु को मेरा प्रणाम है।


 

yasya smaraṇamātreṇa janmasaṁsārabaṁdhanāt |
vimucyate namastasmai viṣṇave prabhaviṣṇave || 6 ||
ōṁ namō viṣṇave prabhaviṣṇave ||

Bow I before Him,
The all-powerful Vishnu,
The mere thought of whom.
Releases one forever,
Of the ties of birth and life.
Bow I before the all powerful Vishnu. 


मैं उस सर्वशक्तिमान विष्णु को प्रणाम करता हूँ जिसके बारे में सिर्फ एक बार सोचने से ही जन्म और मृत्यु  बंधन कट जाते हैं। उस सर्वशक्तिमान विष्णु को बारम्बार प्रणाम है।

 
 

śrī vaiśaṁpāyana uvāca
śrutvā dharmānaśeṣeṇa pāvanāni ca sarvaśaḥ |
yudhiṣṭhiraḥ śāṁtanavaṁ punarevābhyabhyāṣata || 7 ||

Sri Vaisampayana said:
After hearing a lot,
About Dharma that carries life,
And of those methods great,
That removes sins from ones life,
For ever and to cleanse,
Yudhishtra asked again,
Bhishma, the abode of everlasting peace. 


श्री वैशम्पायन ने कहा सब प्रकार सुनकर और यह समझकर सब प्रकार सुनकर और यह समझ कर कि अभी तक ऐसा कोई धर्म नहीं कहा गया जो सकल पुरुषार्थ का साधक और अल्प प्रयास से ही सिद्ध होने वाला होकर भी महान फलवाला हो शांतनु के पुत्र भीष्म से फिर पूछा।



 
 

śrī yudhiṣṭhira uvāca
kimekaṁ daivataṁ lōke kiṁ vāpyekaṁ parāyaṇaṁ |
stuvaṁtaḥ kaṁ kamarcaṁtaḥ prāpnuyurmānavāḥ śubham || 8 ||
kō dharmaḥ sarvadharmāṇāṁ bhavataḥ paramō mataḥ |
kiṁ japanmucyate jaṁturjanmasaṁsārabaṁdhanāt || 9 ||

Yudhishthira asked:
In this wide world, Oh Grandpa,
Which is that one God,
Who is the only shelter?
Who is He whom,
Beings worship and pray,
And get salvation great?
Who is He who should oft,
Be worshiped with love?
Which Dharma is so great,
There is none greater?
And which is to be oft chanted,
To get free.
From these bondage of life, cruel? 


युधिष्ठर बोले समस्त विद्याओं के स्थान प्रकाश के हेतु स्वरूप लोक में एक ही देव कौन है जिसके विषय में कहा है कि जिस की आज्ञा से सब प्राणी प्रवृत्त होते हैं तथा एक ही परायण कौन है जिसका साक्षात्कार कर लेने पर सब संशय नष्ट हो जाते हैं तथा संपूर्ण कर्म क्षीण हो जाते हैं जिसके ज्ञान मात्र से ही आनंद स्वरूप मोक्ष प्राप्त होता है जिसका जानने वाला किसी से भय नहीं करता जिसमें प्रवेश करने वाले का फिर जन्म नहीं होता और कौन से देव की स्तुति गुण कीर्तन करने से तथा किस देव का नाना प्रकार अर्चन और आंतरिक पूजा करने से मनुष्य कल्याण की प्राप्ति कर सकते हैं। आप सब धर्मों समस्त धर्मों में पूर्वोक्त लक्षणों से युक्त किस धर्म को परम श्रेष्ठ मानते हैं तथा किस जपने का उच्च उपांशु और मानस जप करने से जीव जन्म संसार बंधन से मुक्त हो जाता है। 


 

śrī bhīṣma uvāca
jagatprabhuṁ devadevamanaṁtaṁ puruṣōttamam |
stuvannāmasahasreṇa puruṣaḥ satatōtthitaḥ || 10 ||
tameva cārcayannityaṁ bhaktyā puruṣamavyayam |
dhyāyan stuvannamasyaṁśca yajamānastameva ca || 11 ||
anādi nidhanaṁ viṣṇuṁ sarvalōkamaheśvaram |
lōkādhyakṣaṁ stuvannityaṁ sarvaduḥkhātigō bhavet || 12 ||
brahmaṇyaṁ sarvadharmajñaṁ lōkānāṁ kīrtivardhanam |
lōkanāthaṁ mahadbhūtaṁ sarvabhūtabhavōdhbhavam || 13 ||
eṣa me sarvadharmāṇāṁ dharmōdhikatamō mataḥ
yadbhaktyā puṁḍarīkākṣaṁ stavairarcennaraḥ sadā || 14 ||
paramaṁ yō mahattejaḥ paramaṁ yō mahattapaḥ |
paramaṁ yō mahadbrahma paramaṁ yaḥ parāyaṇam || 15 ||
pavitrāṇāṁ pavitraṁ yō maṁgalānāṁ ca maṁgalam |
daivataṁ devatānāṁ ca bhūtānāṁ yōvyayaḥ pitā || 16 ||
yataḥ sarvāṇi bhūtāni bhavaṁtyādiyugāgame |
yasmiṁśca pralayaṁ yāṁti punareva yugakṣaye || 17 ||
tasya lōkapradhānasya jagannāthasya bhūpate |
viṣṇōrnāmasahasraṁ me śruṇu pāpabhayāpaham || 18 ||
yāni nāmāni gauṇāni vikhyātāni mahātmanaḥ |
ṛṣibhiḥ parigītāni tāni vakṣyāmi bhūtaye || 19 ||
r̥ṣirnāmnāṁ sahasrasya vedavyāsō mahāmuniḥ |
chaṁdōnuṣṭup tathā devō bhagavān devakīsutaḥ || 20 ||
amr̥tāṁśūdbhavō bījaṁ śaktirdevakinaṁdana: |
trisāmā hr̥dayaṁ tasya śāṁtyarthe viniyujyate || 21 ||
viṣṇuṁ jiṣṇuṁ mahāviṣṇuṁ prabhaviṣṇuṁ maheśvaram |
anekarūpadaityāṁtaṁ namāmi puruṣōttamam || 22 ||

Bhishma replied:
That purusha with endless devotion,
Who chants the thousand names,
Of He who is the lord of the Universe,
Of He who is the God of Gods,
Of He who is limitless,
Would get free,
From these bondage of life, cruel
He who also worships and prays,
Daily without break,
That Purusha who does not change,
That Vishnu who does not end or begin,
That God who is the lord of all worlds,
And Him, who presides over the universe,
Would loose without fail,
All the miseries in this life.
Chanting the praises,
Worshiping and singing,
With devotion great,
Of the lotus eyed one,
Who is partial to the Vedas,
Who is the only one, who knows the dharma,
Who increases the fame,
Of those who live in this world,
Who is the master of the universe,
Who is the truth among all those who has life,
And who decides the life of all living,
Is the dharma that is great.
That which is the greatest light,
That which is the greatest penance,
That which is the greatest brahmam,
Is the greatest shelter that I know.
Please hear from me,
The thousand holy names,
Which wash away all sins,
Of Him who is purest of the pure,
Of That which is holiest of holies,
Of Him who is God among Gods,
Of That father who lives Without death,
Among all that lives in this world,
Of Him whom all the souls,
Were born at the start of the world,
Of Him in whom, all that lives,
Will disappear at the end of the world,
And of that the chief of all this world,
Who bears the burden of this world. 


भीष्म जी ने उत्तर दिया थावर जंगम रूप जो संसार है उसके प्रभु स्वामी जो देश काल और वस्तु से परे हैं उस पुरुषोत्तम का सहस्त्रनाम के द्वारा निरंतर तत्पर रहकर गुण संकीर्तन करने से पुरुष सब दुखों से पार हो जाता है तथा उसी अविनाशी विनाश क्रिया रहित पुरुष का नृत्य भजन और भक्ति से युक्त होकर पूजन करने से जीव सब दुखों से छूट जाता है अनादि निधन अर्थात होना जन्म लेना बढ़ना बदलना सीन होना और नष्ट होना इन 6 भाग विकारों से रहित विष्णु जो ब्रहमा आदि के भी स्वामी होने से सर्व लोक महेश्वर और सारे दृश्य वर्ग को अपने स्वाभाविक ज्ञान से साक्षात देखने के कारण लोक अध्यक्ष हैं उस देवकी निरंतर स्तुति करने से मनुष्य सब दुखों के पार हो जाता है जो ब्रह्मण्य अर्थात जगत की रचना करने वाले ब्रह्मा के तथा ब्राह्मण तप  और श्रुति के हितकारी हैं सब धर्मों को जानते हैं। और प्राणियों के यश को उनमें अपनी शक्ति से प्रविष्ट होकर बढ़ाते हैं जो लोकनाथ अर्थात लोगों से प्रार्थना अथवा शासित करने वाले तथा उन पर सत्ता चलाने वाले हैं जो अपने समस्त उत्कर्ष से वर्तमान होने के कारण महद अर्थात ब्रह्म यानी परमार्थ सत्य हैं और जिनकी सन्निधि मात्र से समस्त भूतों का उत्पत्ति स्थान संसार उत्पन्न होता है इसलिए जो समस्त भूतों के उद्भव स्थान हैं उन परमेश्वर का स्तवन करने से मनुष्य सब दुखों से छूट जाता है।  संपूर्ण विधि रूप धर्मों में मैं आगे बतलाए जाने वाले किसी धर्म को सबसे बड़ा मानता हूं कि मनुष्य श्री पुंडरीकाक्ष का अर्थात अपने हृदय कमल में विराजमान भगवान वासुदेव का भक्ति पूर्वक तत्परता सहित गुण संकीर्तन रूप स्तुतियों से सदा अर्चन करें यानी मनुष्य आदरपूर्वक पूजन करें यह धर्म ही मुझे सबसे अधिक मान्य है इस स्तुति रूप अर्चन की अधिक मान्यता का कारण क्या है सो बतलाते हैं, हिंसा आदि पापकर्म का अभाव तथा पुरुष एवं द्रव्य, देश और काल आदि के नियम की अनावश्यकता ही इसकी अधिक मान्यता का कारण है। विष्णु पुराण में कहा गया है कि सतयुग में ध्यान से, त्रेता में यज्ञ-अनुष्ठान से, द्वापर में पूजा करने से मनुष्य जो कुछ पाता है वह कलयुग में भगवान कृष्ण का नाम संकीर्तन करने से ही पा लेता है। महाभारत में कहा है कि संपूर्ण धर्मों में जप सर्वश्रेष्ठ धर्म कहा जाता है क्योंकि जप यज्ञ प्राणियों की हिंसा किए बिना ही संपन्न हो जाता है। भगवान का भी वचन है कि यज्ञों में मैं जप यज्ञ हूं। जो सब का प्रकाशक परम अर्थात उत्तम और महान चिन्मय प्रकाश है जो परम तप अर्थात तपने वाला यानी आज्ञा देने वाला है उसका ऐश्वर्य अपरिमित है इस कारण वह महान है। जो पवित्रो में पवित्र है उनका ध्यान दर्शन कीर्तन स्तुति पूजा स्मरण तथा प्रणाम किए जाने पर समस्त पापों को जड़ से उखाड़ डालते हैं इसलिए वह परम पवित्र हैं। जिससे यह भूत उत्पन्न होते हैं जिससे उत्पन्न होने पर जीवित रहते हैं और फिर मर कर जिस में प्रवेश करते हैं। हे पृथ्वीपति ! ऐसे लक्षणों से बतलाए हुए उस एक देव के जो लोक प्रधान, संसार के स्वामी, निर्लेप परमात्मा तथा व्यापन शील हैं उनके अशुभ कर्म जनित पाप और संसार रूप भय को दूर करने वाले सहस्त्र हजार नाम मुझसे सुनो अर्थात मन को एकाग्र करके ग्रहण करो |

                          1000 Names of Vishnu Start from Here
                          यहाँ से 1000 नाम शुरू होते हैं 

 
viśvaṁ viṣṇurvaṣaṭkārō bhūtabhavyabhavatprabhuḥ |
bhūtakṛdbhūtabhṛdbhāvō bhūtātmā bhūtabhāvanaḥ || 1 ||



1  vishwam:    Who is the universe himself
2  vishnuh:      He who pervades everywhere
3  vashatkaarah: He who is invoked for oblations
4  bhoota-bhavya-bhavat-prabhuh:  The Lord of past, present and future
5  bhoota-krit:     The creator of all creatures
6  bhoota-bhrit:   He who nourishes all creatures
7  bhaavah:        He who becomes all moving and non-moving things
8  bhootaatmaa: The aatman of all beings
9  bhoota-bhaavanah: The cause of the growth and birth of all creatures


1    विश्वम् :     जो स्वयं में ब्रह्मांड हो जो हर जगह विद्यमान हो
2    विष्णुः       जो हर जगह विद्यमान हो
3    वषट्कारः  जिसका यज्ञ और आहुतियों के समय आवाहन किया जाता हो
4    भूतभव्यभवत्प्रभुः भूत, वर्तमान और भविष्य का स्वामी
5    भूतकृत् : सब जीवों का निर्माता
6    भूतभृत् : सब जीवों का पालनकर्ता
7    भावः      भावना
8    भूतात्मा:  सब जीवों का परमात्मा
9    भूतभावनःसब जीवों  उत्पत्ति और पालना का आधार


 
pūtātmā paramātmā ca muktānāṁ paramā gatiḥ |
avyayaḥ puruṣaḥ sākṣī kṣetrajñōkṣara eva ca || 2 ||



10   pootaatmaa:      He with an extremely pure essence
11   paramaatmaa:   The Supersoul
12   muktaanaam paramaa gatih:  The final goal, reached by liberated souls
13   avyayah:            Without destruction
14   purushah:          He who is manifestation of A soul with strong masculinity
15   saakshee:         The witness
16   kshetrajnah:      The knower of the field
17   aksharah:          Indestructible


10   पूतात्मा:  अत्यंत पवित्र सुगंधियों वाला
11   परमात्मा:  परम आत्मा
12   मुक्तानां परमा गतिः: सभी आत्माओं के लिए पहुँचने वाला अंतिम लक्ष्य
13   अव्ययः   अविनाशी
14   पुरुषः     पुरुषोत्तम
15   साक्षी      बिना किसी व्यवधान के अपने स्वरुपभूत ज्ञान से सब कुछ देखने वाला
16   क्षेत्रज्ञः     क्षेत्र अर्थात शरीर; शरीर को जानने वाला 

17   अक्षरः     कभी क्षीण न होने वाला


 
yōgō yōgavidāṁ netā pradhānapuruṣeśvaraḥ |
nārasiṁhavapuḥ śrīmān keśavaḥ puruṣōttamaḥ || 3 ||  


18   yogah:                         He who is realized through yoga
19   yoga-vidaam netaa:    The guide of those who know yoga
20   pradhaana-purusheshvarah:    Lord of pradhaana and purusha
21   naarasimha-vapuh:     He whose form is man-lion
22   shreemaan:                 He who is always with shree
23   keshavah:                 He who has beautiful locks of hair, slayer of Keshi   and one who is himself the three

24   purushottamah:           The Supreme Controller

18    योगः                जिसे योग द्वारा पाया जा सके
19    योगविदां नेता    योग को जानने वाले योगवेत्ताओं का नेता
20    प्रधानपुरुषेश्वरः  प्रधान अर्थात प्रकृति; पुरुष अर्थात जीव; इन दोनों का स्वामी
21    नारसिंहवपुः      नर और सिंह दोनों के अवयव जिसमे दिखाई दें ऐसे शरीर वाला
22    श्रीमान्             जिसके वक्ष स्थल में सदा श्री बसती हैं
23    केशवः             जिसके केश सुन्दर हों
24    पुरुषोत्तमः        पुरुषों में उत्तम


 

sarvaḥ śarvaḥ śivaḥ sthāṇurbhūtādirnidhiravyayaḥ |
saṁbhavō bhāvanō bhartā prabhavaḥ prabhurīśvaraḥ || 4 ||  


25    sarvah:        He who is everything
26    sharvas:      The auspicious
27    shivah:         He who is eternally pure
28    sthaanuh:    The pillar, the immovable truth
29    bhootaadih: The cause of the five great elements
30    nidhir-avyayah: The imperishable treasure
31    sambhavah: He who descends of His own free will
32    bhaavanah:  He who gives everything to his devotees
33    bhartaa:        He who governs the entire living world
34    prabhavah:   The womb of the five great elements
35    prabhuh:       The Almighty Lord
36    eeshvarah:    He who can do anything without any help


25    सर्वः     सर्वदा सब कुछ जानने वाला
26    शर्वः     विनाशकारी या पवित्र
27    शिवः    सदा शुद्ध 

28    स्थाणुः  स्थिर सत्य
29    भूतादिः पंच तत्वों के आधार
30    निधिरव्ययः अविनाशी निधि
31    सम्भवः  अपनी इच्छा से उत्पन्न होने वाले
32    भावनः   समस्त भोक्ताओं  के फलों को उत्पन्न करने वाले

33    भर्ता      समस्त संसार का पालन करने वाले
34    प्रभवः    पंच महाभूतों को उत्पन्न करने वाले
35    प्रभुः      सर्वशक्तिमान भगवान्
36    ईश्वरः     जो बिना किसी के सहायता के कुछ भी कर पाए


 

svayaṁbhūḥ śaṁbhurādityaḥ puṣkarākṣō mahāsvanaḥ |
anādinidhanō dhātā vidhātā dhāturuttamaḥ || 5 ||  


37    svayambhooh    He who manifests from Himself
38    shambhuh          He who brings auspiciousness
39    aadityah            The son of Aditi (Vaamana)

40    pushkaraakshah    He who has eyes like the lotus
41    mahaasvanah        He who has a thundering voice
42    anaadi-nidhanah    He without origin or end
43    dhaataa                  He who supports all fields of experience
44    vidhaataa               The dispenser of fruits of action
45    dhaaturuttamah     The subtlest atom


37    स्वयम्भूः            जो सबके ऊपर है और स्वयं होते हैं
38    शम्भुः               भक्तों के लिए सुख की भावना की उत्पत्ति करने वाले हैं
39    आदित्यः           अदिति के पुत्र (वामन)
40    पुष्कराक्षः          जिनके नेत्र पुष्कर (कमल) समान हैं
41    महास्वनः          अति महान स्वर या घोष वाले
42    अनादि-निधनः    जिनका आदि और निधन दोनों ही नहीं हैं
43    धाता                 शेषनाग के रूप में विश्व को धारण करने वाले
44    विधाता              कर्म और उसके फलों की रचना करने वाले
45    धातुरुत्तमः          अनंतादि अथवा सबको धारण करने वाले हैं
 



 
aprameyō hṛṣīkeśaḥ padmanābhōmaraprabhuḥ |
viśvakarmā manusvtaṣṭā sthaviṣṭhassthavirō dhruvaḥ || 6 ||


46    aprameyah          He who cannot be perceived
47    hrisheekeshah    The Lord of the senses
48    padmanaabhah   He from whose navel comes the lotus
49    amaraprabhuh    The Lord of the devas
50    vishvakarmaa     The creator of the universe
51    manuh                 He who has manifested as the Vedic mantras
52    tvashtaa              He who makes huge things small
53    sthavishtah         The supremely gross
54    sthaviro dhruvah The ancient, motionless one


46    अप्रमेयः           जिन्हे जाना न जा सके 
47    हृषीकेशः         इन्द्रियों के स्वामी
48    पद्मनाभः          जिसकी नाभि में जगत का कारण रूप पद्म स्थित है
49    अमरप्रभुः         देवता जो अमर हैं उनके स्वामी
50    विश्वकर्मा          विश्व जिसका कर्म अर्थात क्रिया है
51    मनुः                मनन करने वाले
52    त्वष्टा               संहार के समय सब प्राणियों को क्षीण करने वाले
53    स्थविष्ठः           अतिशय स्थूल
54    स्थविरो ध्रुवः      प्राचीन एवं स्थिर


 
agrāhyaḥ śāśvataḥ kṛṣṇō lōhitākṣaḥ pratardanaḥ |
prabhūtastrikakubdhāma pavitraṁ maṁgalaṁ param || 7 ||  


55    agraahyah       He who is not perceived sensually
56    shaashvatah    He who always remains the same
57    krishnah           He whose complexion is dark
58    lohitaakshah    Red-eyed
59    pratardanah    The Supreme destruction
60    prabhootas      Ever-full
61    trikakub-dhaama    The support of the three quarters
62    pavitram                 He who gives purity to the heart
63    mangalam param   The Supreme auspiciousness


55    अग्राह्यः          जो कर्मेन्द्रियों द्वारा ग्रहण नहीं किये जा सकते
56    शाश्वतः           जो सब काल में हो
57    कृष्णः             जिसका वर्ण श्याम हो
58    लोहिताक्षः       जिनके नेत्र लाल हों
59    प्रतर्दनः          जो प्रलयकाल में प्राणियों का संहार करते हैं
60    प्रभूतस्          जो ज्ञान, ऐश्वर्य आदि गुणों से संपन्न हैं 

61    त्रिकाकुब्धाम   ऊपर, नीचे और मध्य तीनो दिशाओं के धाम हैं 
62    पवित्रम्          जो पवित्र करे
63    मंगलं-परम्     जो सबसे उत्तम है और समस्त अशुभों को दूर करता है


 
īśānaḥ prāṇadaḥ prāṇō jyeṣṭhaḥ śreṣṭhaḥ prajāpatiḥ |
hiraṇyagarbhō bhūgarbhō mādhavō madhusūdanaḥ || 8 ||  


64    eeshanah     The controller of the five great elements
65    praanadah    He who gives life
66    praanah        He who ever lives
67    jyeshthah      Older than all
68    shreshthah   The most glorious
69    prajaapatih   The Lord of all creatures
70    hiranyagarbhah    He who dwells in the womb of the world
71    bhoogarbhah        He who is the womb of the world
72    maadhavah          Husband of Lakshmi
73    madhusoodanah  Destroyer of the Madhu demon


64    ईशानः       सर्वभूतों के नियंता
65    प्राणदः       प्राणो को देने वाले
66    प्राणः         जो सदा जीवित है
67    ज्येष्ठः         सबसे अधिक वृद्ध या या बड़ा

68    श्रेष्ठः           सबसे प्रशंसनीय
69    प्रजापतिः    ईश्वररूप से सब प्रजाओं के पति
70    हिरण्यगर्भः  ब्रह्माण्डरूप अंडे के भीतर व्याप्त होने वाले
71    भूगर्भः        पृश्वी जिनके गर्भ में स्थित है
72    माधवः        माँ अर्थात लक्ष्मी के धव अर्थात पति 

73    मधुसूदनः    मधु नामक दैत्य को मारने वाले


 
īśvarō vikramī dhanvī medhāvī vikramaḥ kramaḥ |
anuttamō durādharṣaḥ kṛtajñaḥ kṛtirātmavān || 9 ||


74    eeshvarah    The controller
75    vikramee      He who is full of prowess
76    dhanvee       He who always has a divine bow
77    medhaavee  Supremely intelligent
78    vikramah      Valorous
79    kramah         All-pervading
80    anuttamah    Incomparably great
81    duraadharshah    He who cannot be attacked successfully
82    kritagyah              He who knows all that is
83    kritih                     He who rewards all our actions
84    aatmavaan          The self in all beings


74    ईश्वरः         सर्वशक्तिमान
75    विक्रमः       शूरवीर
76    धन्वी         धनुष धारण करने वाला
77    मेधावी       बहुत से ग्रंथों को धारण करने के सामर्थ्य वाला
78    विक्रमः      जगत को लांघ जाने वाला या गरुड़ पक्षी द्वारा गमन करने वाला
79    क्रमः         क्रमण (लांघना, दौड़ना ) करने वाला या क्रम (विस्तार) वाला
80    अनुत्तमः     जिससे उत्तम और कोई न हो
81    दुराधर्षः     जो दैत्यादिकों से दबाया न जा सके
82    कृतज्ञः       प्राणियों के किये हुए पाप पुण्यों को जानने वाले
83    कृतिः        सर्वात्मक
84    आत्मवान्   अपनी ही महिमा में स्थित होने वाले


 

sureśaḥ śaraṇaṁ śarma viśvaretāḥ prajābhavaḥ |
ahaḥ saṁvatsarō vyālaḥ pratyayassarvadarśanaḥ || 10 |


85    sureshah        The Lord of the demigods
86    sharanam       The refuge
87    sharma            He who is Himself infinite bliss
88    visva-retaah    The seed of the universe
89    prajaa-bhavah He from whom all praja comes
90    ahah                He who is the nature of time
91    samvatsarah   He from whom the concept of time comes
92    vyaalah           The serpent (vyaalah) to atheists
93    pratyayah        He whose nature is knowledge
94    sarvadarshanah    All-seeing


85    सुरेशः      देवताओं के ईश
86    शरणम्    दीनों का दुःख दूर करने वाले
87    शर्म         परमानन्दस्वरूप 
88    विश्वरेताः   विश्व के कारण
89    प्रजाभवः   जिनसे सम्पूर्ण प्रजा उत्पन्न होती है
90    अहः        प्रकाशस्वरूप
91    संवत्सरः   कालस्वरूप से स्थित हुए
92    व्यालः      व्याल (सर्प) के समान ग्रहण करने में न आ सकने वाले
93    प्रत्ययः      प्रतीति रूप होने के कारण
94    सर्वदर्शनः  सर्वरूप होने के कारण सभी के नेत्र हैं


 
ajaḥ sarveśvaraḥ siddhaḥ siddhiḥ sarvādiracyutaḥ |
vṛṣākapirameyātmā sarvayōgaviniḥsṛtaḥ || 11 || 


95     ajah                   Unborn
96     sarveshvarah    Controller of all
97     siddhah             The most famous
98     siddhih              He who gives moksha
99     sarvaadih          The beginning of all
100   achyutah           Infallible
101   vrishaakapih      He who lifts the world to dharma
102   ameyaatmaa     He who manifests in infinite varieties
103   sarva-yoga-vinissritah    He who is free from all attachments


95    अजः            अजन्मा
96    सर्वेश्वरः         ईश्वरों का भी ईश्वर
97    सिद्धः           नित्य सिद्ध
98    सिद्धिः          सबसे श्रेष्ठ
99    सर्वादिः        सर्व भूतों के आदि कारण
100    अच्युतः      अपनी स्वरुप शक्ति से च्युत न होने वाले
101    वृषाकपिः    वृष (धर्म) रूप और कपि (वराह) रूप
102    अमेयात्मा    जिनके आत्मा का माप परिच्छेद न किया जा सके
103    सर्वयोगविनिसृतः  सम्पूर्ण संबंधों से रहित



 
vasurvasumanāḥ satyaḥ samātmā sammitaḥ samaḥ |
amōghaḥ puṇḍarīkākṣō vṛṣakarmā vṛṣākṛtiḥ || 12 ||


104    vasuh              The support of all elements
105    vasumanaah   He whose mind is supremely pure
106    satyah             The truth
107    samaatmaa     He who is the same in all
108    sammitah        He who has been accepted by authorities
109    samah             Equal
110    amoghah         Ever useful
111    pundareekaakshah    He who dwells in the heart
112    vrishakarmaa             He whose every act is righteous
113    vrishaakritih               The form of dharma


104    वसुः         जो सब भूतों में बसते हैं और जिनमे सब भूत बसते हैं
105    वसुमनाः    जिनका मन प्रशस्त (श्रेष्ठ) है
106    सत्यः        सत्य स्वरुप
107    समात्मा     जो राग द्वेषादि से दूर हैं
108    सम्मितः    समस्त पदार्थों से परिच्छिन्न
109    समः         सदा समस्त विकारों से रहित
110    अमोघः      जो स्मरण किये जाने पर सदा फल देते हैं
111    पुण्डरीकाक्षः हृदयस्थ कमल में व्याप्त होते हैं
112    वृषकर्मा       जिनके कर्म धर्मरूप हैं
113    वृषाकृतिः     जिन्होंने धर्म के लिए ही शरीर धारण किया है



 
rudrō bahuśirā babhrurviśvayōniḥ śuciśravāḥ |
amṛtaḥ śāśvataḥ sthāṇurvarārōhō mahātapāḥ || 13 ||


114   rudrah             He who is mightiest of the mighty or He who is "fierce"
115   bahu-shiraah  He who has many heads
116   babhrur           He who rules over all the worlds
117   vishvayonih    The womb of the universe
118   shuchi-shravaah              He who listens only the good and pure
119   amritah                            Immortal
120   shaashvatah-sthaanur    Permanent and immovable
121   varaaroho                       The most glorious destination
122   mahaatapaah                 He of great tapas


114   रुद्रः                 दुःख को दूर भगाने वाले
115   बहुशिरः            बहुत से सिरों वाले
116   बभ्रुः                 लोकों का भरण करने वाले
117   विश्वयोनिः          विश्व के कारण
118   शुचिश्रवाः          जिनके नाम सुनने योग्य हैं
119   अमृतः              जिनका मृत अर्थात मरण नहीं होता
120   शाश्वतः-स्थाणुः   शाश्वत (नित्य) और स्थाणु (स्थिर)
121   वरारोहः           जिनका आरोह (गोद) वर (श्रेष्ठ) है
122   महातपः           जिनका तप महान है


 
sarvagaḥ sarvavidbhānurviṣvaksenō janārdanaḥ |
vedō vedavidavyaṅgō vedāṅgō vedavit kaviḥ || 14 ||


123        sarvagah                All-pervading
124        sarvavid-bhaanuh  All-knowing and effulgent
125        vishvaksenah  He against whom no army can stand
126        janaardanah    He who gives joy to good people
127        vedah              He who is the Vedas
128        vedavid           The knower of the Vedas
129        avyangah        Without imperfections
130        vedaangah      He whose limbs are the Vedas
131        vedavit            He who contemplates upon the Vedas
132        kavih               The seer


123    सर्वगः          जो सर्वत्र व्याप्त है
124    सर्वविद्भानुः   जो सर्ववित् है और भानु भी है
125    विष्वक्सेनः    जिनके सामने कोई सेना नहीं टिक सकती
126    जनार्दनः      दुष्टजनों को नरकादि लोकों में भेजने वाले 

127    वेदः            वेद रूप
128    वेदविद्        वेद जानने वाले
129    अव्यंगः        जो किसी प्रकार ज्ञान से अधूरा न हो
130    वेदांगः         वेद जिनके अंगरूप हैं
131    वेदविद्        वेदों को विचारने वाले
132    कविः           सबको देखने वाले


 
lōkādhyakṣaḥ surādhyakṣō dharmādhyakṣaḥ kṛtākṛta: |
caturātmā caturvyūhaścaturdaṁṣṭraścaturbhujaḥ || 15 ||  


133   lokaadhyakshah   He who presides over all lokas
134   suraadhyaksho     He who presides over all devas
135   dharmaadhyakshah  He who presides over dharma
136   krita-akritah          All that is created and not created
137   chaturaatmaa       The four-fold self
138   chaturvyoohah     Vasudeva, Sankarshan etc.
139   chaturdamstrah    He who has four canines (Narsimha)
140   chaturbhujah        Four-handed


133   लोकाध्यक्षः   समस्त लोकों का निरीक्षण करने वाले
134   सुराध्यक्षः     सुरों (देवताओं) के अध्यक्ष
135   धर्माध्यक्षः     धर्म और अधर्म को साक्षात देखने वाले
136   कृताकृतः     कार्य रूप से कृत और कारणरूप से अकृत
137   चतुरात्मा      चार पृथक विभूतियों वाले
138   चतुर्व्यूहः      चार व्यूहों वाले
139   चतुर्दंष्ट्रः        चार दाढ़ों या सींगों वाले
140   चतुर्भुजः       चार भुजाओं वाले


 
bhrājiṣṇurbhōjanaṁ bhōktā sahiṣṇurjagadādijaḥ |
anaghō vijayō jetā viśvayōniḥ punarvasuḥ || 16 ||


141   bhraajishnuh Self-effulgent consciousness
142   bhojanam      He who is the sense-objects
143   bhoktaa         The enjoyer
144   sahishnuh      He who can suffer patiently
145   jagadaadijah  Born at the beginning of the world
146   anaghah        Sinless
147   vijayah           Victorious
148   jetaa               Ever-successful
149   vishvayonih    He who incarnates because of the world
150   punarvasuh    He who lives repeatedly in different bodies


141   भ्राजिष्णुः     एकरस प्रकाशस्वरूप
142   भोजनम्      प्रकृति रूप भोज्य माया
143   भोक्ता        पुरुष रूप से प्रकृति को भोगने वाले
144   सहिष्णुः      दैत्यों को भी सहन करने वाले
145   जगदादिजः  जगत के आदि में उत्पन्न होने वाले
146   अनघः        जिनमे अघ (पाप) न हो
147   विजयः       ज्ञान, वैराग्य व् ऐश्वर्य से विश्व को जीतने वाले
148   जेता          समस्त भूतों को जीतने वाले
149   विश्वयोनिः   विश्व और योनि दोनों वही हैं
150   पुनर्वसुः      बार बार शरीरों में बसने वाले


 
upendrō vāmanaḥ prāṁśuramōghaḥ śucirūrjitaḥ |
atīndraḥ saṅgrahaḥ sargō dhṛtātmā niyamō yama || 17 ||


151   upendra       The younger brother of Indra (Vamana)
152   vaamanah    He with a dwarf body
153   praamshuh   He with a huge body
154   amoghah      He whose acts are for a great purpose
155   shuchih         He who is spotlessly clean
156   oorjitah          He who has infinite vitality
157   ateendrah      He who surpasses Indra
158   samgrahah    He who holds everything together
159   sargah           He who creates the world from Himself
160   dhritaatmaa   Established in Himself
161   niyamah        The appointing authority
162   yamah           The administrator


151   उपेन्द्रः    अनुजरूप से इंद्र के पास रहने वाले
152   वामनः     भली प्रकार भजने योग्य हैं
153   प्रांशुः       तीनो लोकों को लांघने के कारण प्रांशु (ऊंचे) हो गए
154   अमोघः    जिनकी चेष्टा मोघ (व्यर्थ) नहीं होती 

155   शुचिः      स्मरण करने वालों को पवित्र करने वाले
156   ऊर्जितः   अत्यंत बलशाली
157   अतीन्द्रः   जो बल और ऐश्वर्य में इंद्र से भी आगे हो 

158   संग्रहः      प्रलय के समय सबका संग्रह करने वाले
159   सर्गः        जगत रूप और जगत का कारण
160   धृतात्मा    अपने स्वरुप को एक रूप से धारण करने वाले 

161   नियमः     प्रजा को नियमित करने वाले
162   यमः        अन्तः करण  में स्थित होकर नियमन करने वाले


 
vedyō vaidyaḥ sadāyōgī vīrahā mādhavō madhuḥ |
atīndriyō mahāmāyō mahōtsāhō mahābalaḥ ||18 ||


163   vedyah           That which is to be known
164   vaidyah          The Supreme doctor
165   sadaa-yogee  Always in yoga
166   veerahaa        He who destroys the mighty heroes
167   maadhavah    The Lord of all knowledge
168   madhuh          Sweet
169   ateendriyah    Beyond the sense organs
170   mahaamayah The Supreme Master of all Maya
171   mahotsaahah The great enthusiast
172   mahaabalah   He who has supreme strength


163    वेद्यः           कल्याण की इच्छा वालों द्वारा जानने योग्य
164    वैद्यः           सब विद्याओं के जानने वाले
165    सदायोगी     सदा प्रत्यक्ष रूप होने के कारण
166    वीरहा         धर्म की रक्षा के लिए असुर योद्धाओं को मारते हैं

167    माधवः        विद्या के पति
168    मधुः           मधु (शहद) के समान प्रसन्नता उत्पन्न करने वाले
169    अतीन्द्रियः   इन्द्रियों से परे
170    महामायः    मायावियों के भी स्वामी
171    महोत्साहः   जगत की उत्पत्ति, स्थिति और प्रलय के लिए तत्पर रहने वाले
172    महाबलः     सर्वशक्तिमान


 
mahābuddhirmahāvīryō mahāśaktirmahādyutiḥ |
anirdeśyavapuḥ śrīmānameyātmā mahādridhṛk || 19 ||


173   mahaabuddhir    He who has supreme intelligence
174   mahaa-veeryah  The supreme essence
175   mahaa-shaktih   All-powerful
176   mahaa-dyutih     Greatly luminous
177   anirdeshya-vapuh  He whose form is indescribable
178   shreemaan         He who is always courted by glories
179   ameyaatmaa      He whose essence is immeasurable
180   mahaadri-dhrik   He who supports the great mountain


173   महाबुद्धिः      सर्वबुद्धिमान
174   महावीर्यः       संसार के उत्पत्ति की कारणरूप
175   महाशक्तिः     अति महान शक्ति और सामर्थ्य के स्वामी
176   महाद्युतिः     जिनकी बाह्य और अंतर दयुति (ज्योति) महान है
177   अनिर्देश्यवपुः जिसे बताया न जा सके
178   श्रीमान्          जिनमे श्री है
179   अमेयात्मा      जिनकी आत्मा समस्त प्राणियों से अमेय(अनुमान न की जा सकने योग्य) है
180   महाद्रिधृक्    मंदराचल और गोवर्धन पर्वतों को धारण करने वाले  


 
maheṣvāsō mahībhartā śrīnivāsaḥ satāṁ gatiḥ |
aniruddhaḥ surānandō gōvindō gōvidāṁ patiḥ || 20 ||


181   maheshvaasah  He who wields shaarnga
182   maheebhartaa   The husband of mother earth
183   shreenivaasah   The permanent abode of Shree
184   sataam gatih      The goal for all virtuous people
185   aniruddhah         He who cannot be obstructed
186   suraanandah      He who gives out happiness
187   govindah            The protector of the 'Go' - means Veda not Cow.
188   govidaam-patih  The Lord of all men of wisdom 


181   महेष्वासः      जिनका धनुष महान है
182   महीभर्ता       प्रलयकालीन जल में डूबी हुई पृथ्वी को धारण करने वाले
183   श्रीनिवासः     श्री के निवास स्थान 
184   सतां गतिः     संतजनों के पुरुषार्थसाधन हेतु
185   अनिरुद्धः     प्रादुर्भाव के समय किसी से निरुद्ध न होने वाले
186   सुरानन्दः      सुरों (देवताओं) को आनंदित करने वाले
187   गोविन्दः       वाणी (गौ) को प्राप्त कराने वाले
188   गोविदां-पतिः गौ (वाणी) पति


 
marīcirdamanō haṁsaḥ suparṇō bhujagōttamaḥ |
hiraṇyanābhaḥ sutapāḥ padmanābhaḥ prajāpati: || 21 ||  


189   mareechih            Effulgence
190   damanah              He who controls rakshasas
191   hamsah                The swan
192   suparnah              Beautiful-winged (Two birds analogy)
193   bhujagottamah    The serpent Ananta
194   hiranyanaabhah   He who has a golden navel
195   sutapaah              He who has glorious tapas
196   padmanaabhah    He whose navel is like a lotus
197   prajaapatih           He from whom all creatures emerge


189  मरीचिः        तेजस्वियों के परम तेज
190  दमनः          राक्षसों का दमन करने वाले
191  हंसः            संसार भय को नष्ट करने वाले
192  सुपर्णः         धर्म और अधर्मरूप सुन्दर पंखों वाले
193  भुजगोत्तमः   भुजाओं से चलने वालों में उत्तम
194  हिरण्यनाभः  हिरण्य (स्वर्ण) के समान नाभि वाले
195  सुतपाः         सुन्दर तप करने वाले
196  पद्मनाभः      पद्म के समान सुन्दर नाभि वाले
197  प्रजापतिः      प्रजाओं के पिता


 
amṛtyuḥ sarvadṛk siṁhaḥ sandhātā sandhimān sthiraḥ |
ajō durmarṣaṇaḥ śāstā viśrutātmā surārihā || 22 ||


198   amrityuh        He who knows no death
199   sarva-drik      The seer of everything
200   simhah          He who destroys
201   sandhaataa   The regulator
202   sandhimaan  He who seems to be conditioned
203   sthirah           Steady
204   ajah               He who takes the form of Aja, Brahma
205   durmarshanah   He who cannot be vanquished
206   shaastaa            He who rules over the universe
207  vishrutaatmaa    He who is celebrated, most famous and heard about by one and all.

208   suraarihaa         Destroyer of the enemies of the devas

198  अमृत्युः      जिसकी मृत्यु न हो
199  सर्वदृक्      प्राणियों के सब कर्म-अकर्मादि को देखने वाले
200  सिंहः         हनन करने वाले हैं
201  सन्धाता      मनुष्यों को उनके कर्मों के फल देते हैं
202  सन्धिमान्    फलों के भोगनेवाले हैं   
203  स्थिरः         सदा एकरूप हैं
204  अजः          भक्तों के ह्रदय में रहने वाले और असुरों का संहार करने वाले
205  दुर्मषणः      दानवादिकों से सहन नहीं किये जा सकते
206  शास्ता        श्रुति स्मृति से सबका अनुशासन करते हैं
207  विश्रुतात्मा    सत्यज्ञानादि रूप आत्मा का विशेषरूप से श्रवण करने वाले
208  सुरारिहा      सुरों (देवताओं) के शत्रुओं को मारने वाले


 
gururgurutamō dhāmaḥ satyaḥ satyaparākramaḥ |
nimiṣō nimiṣaḥ sragvī vācaspatirudāradhīḥ || 23 ||


209  guruh            The teacher
210  gurutamah    The greatest teacher
211  dhaama        The goal
212  satyah           He who is Himself the truth
213  satya-paraakramah    Dynamic Truth
214  nimishah                     He who has closed eyes in contemplation
215  animishah                   He who remains unwinking; ever knowing
216  sragvee                 He who always wears a garland of undecaying flowers
217 vaachaspatir-udaara-dheeh   He who is eloquent in championing the Supreme law of life; He with a large-hearted intelligence


209  गुरुः             सब विद्याओं के उपदेष्टा और सबके जन्मदाता
210  गुरुतमः        ब्रह्मा आदिको भी ब्रह्मविद्या प्रदान करने वाले
211  धाम             परम ज्योति
212  सत्यः            सत्य-भाषणरूप, धर्मस्वरूप 

213  सत्यपराक्रमः  जिनका पराक्रम सत्य अर्थात अमोघ है
214  निमिषः         जिनके नेत्र योगनिद्रा में मूंदे हुए हैं
215  अनिमिषः      मत्स्यरूप या आत्मारूप
216  स्रग्वी            वैजयंती माला धारण करने वाले
217  वाचस्पतिः-उदारधीः  विद्या के पति,सर्व पदार्थों को प्रत्यक्ष करने वाले 


 
agraṇīrgrāmaṇīḥ śrīmān nyāyō netā samīraṇaḥ |
sahasramūrdhā viśvātmā sahasrākṣaḥ sahasrapāt || 24 ||


218  agraneeh         He who guides us to the peak
219  graamaneeh    He who leads the flock
220  shreemaan      The possessor of light, effulgence, glory
221  nyaayah          Justice
222  netaa               The leader
223  sameeranah   He who sufficiently administers all movements of all living creatures
224  sahasra-moordhaa   He who has endless heads
225  vishvaatmaa             The soul of the universe
226  sahasraakshah         Thousands of eyes
227  sahasrapaat             Thousand-footed


218   अग्रणीः      मुमुक्षुओं को उत्तम पद पर ले जाने वाले
219   ग्रामणीः     भूतग्राम का नेतृत्व करने वाले
220   श्रीमान्       जिनकी श्री अर्थात कांति सबसे बढ़ी चढ़ी है
221   न्यायः        न्यायस्वरूप
222   नेता          जगतरूप यन्त्र को चलाने वाले
223   समीरणः    श्वासरूप से प्राणियों से चेष्टा करवाने वाले
224   सहस्रमूर्धा  सहस्र मूर्धा (सिर) वाले 

225   विश्वात्मा     विश्व के आत्मा
226   सहस्राक्षः    सहस्र आँखों या इन्द्रियों वाले
227   सहस्रपात्   सहस्र पाद (चरण) वाले


 
āvartanō nivṛttātmā saṁvṛtaḥ saṁpramardanaḥ |
ahaḥ saṁvartakō vahniranilō dharaṇīdharaḥ || 25 ||


228   aavartanah              The unseen dynamism
229   nivritaatmaa             The soul retreated from matter
230   samvritah                 He who is veiled from the jiva
231   sam-pramardanah   He who persecutes evil men
232 ahassamvartakah   He who thrills the day and makes it function vigorously
233  vahnih                       Fire
234  anilah                        Air
235  dharaneedharah       He who supports the earth 


228  आवर्तनः          संसार चक्र का आवर्तन करने वाले हैं
229  निवृत्तात्मा        संसार बंधन से निवृत्त (छूटे हुए) हैं
230  संवृतः             आच्छादन करनेवाली अविद्या से संवृत्त (ढके हुए) हैं
231  संप्रमर्दनः        अपने रूद्र और काल रूपों से सबका मर्दन करने वाले हैं
232  अहः संवर्तकः   दिन के प्रवर्तक हैं
233  वह्निः               हविका वहन करने वाले हैं
234  अनिलः            अनादि
235  धरणीधरः         वराहरूप से पृथ्वी को धारण करने वाले हैं


 
suprasādaḥ prasannātmā viśvadhṛgviśvabhugvibhuḥ |
satkartā satkṛtaḥ sādhurjahnurnārāyaṇō naraḥ || 26 ||


236  suprasaadah    Fully satisfied
237  prasanaatmaa  Ever pure and all-blissful self
238  vishva-dhrik      Supporter of the world
239  vishvabhuk       He who enjoys all experiences
240  vibhuh              He who manifests in endless forms
241  satkartaa          He who adores good and wise people
242  satkritah           He who is adored by all good people
243  saadhur            He who lives by the righteous codes
244  jahnuh              Leader of men
245  naaraayanah    He who resides on the waters
246  narah               The guide


236  सुप्रसादः    जिनकी कृपा अति सुन्दर है
237  प्रसन्नात्मा   जिनका अन्तः करण रज और तम से दूषित नहीं है
238  विश्वधृक्    विश्व को धारण करने वाले हैं
239  विश्वभुक्    विश्व का पालन करने वाले हैं
240  विभुः        हिरण्यगर्भादिरूप से विविध होते हैं
241  सत्कर्ता     सत्कार करते अर्थात पूजते हैं
242  सत्कृतः     पूजितों से भी पूजित
243  साधुः        साध्यमात्र के साधक हैं
244  जह्नुः      अज्ञानियों को त्यागते और भक्तो को परमपद पर ले जाने वाले
245  नारायणः   नर से उत्पन्न हुए तत्व नार हैं जो भगवान् के अयन (घर) थे
246  नरः          नयन कर्ता है इसलिए सनातन परमात्मा नर कहलाता है


 
asaṅkhyeyō prameyātmā viśiṣṭaḥ śiṣṭakṛcchuciḥ |
siddhārthaḥ siddhasaṅkalpaḥ siddhidaḥ siddhisādhanaḥ || 27 ||


247  asankhyeyah        He who has numberless names and forms
248  aprameyaatmaa   A soul not known through the pramanas
249  vishishtah             He who transcends all in His glory
250  shishta-krit           The law-maker
251  shuchih                 He who is pure
252  siddhaarthah        He who has all arthas
253  siddhasankalpah  He who gets all He wishes for
254  siddhidah             The giver of benedictions
255  siddhisaadhanah The power behind our sadhana


247  असंख्येयः       जिनमे संख्या अर्थात नाम रूप भेदादि नहीं हो
248  अप्रमेयात्मा     जिनका आत्मा अर्थात स्वरुप अप्रमेय है
249  विशिष्टः          जो सबसे अतिशय (बढे चढ़े) हैं
250  शिष्टकृत्         जो शासन करते हैं
251  शुचिः             जो मलहीन है
252  सिद्धार्थः         जिनका अर्थ सिद्ध हो
253  सिद्धसंकल्पः   जिनका संकल्प सिद्ध हो
254  सिद्धिदः         कर्ताओं को अधिकारानुसार फल देने वाले
255  सिद्धिसाधनः    सिद्धि के साधक


 
vṛṣāhī vṛṣabhō viṣṇurvṛṣaparvā vṛṣōdaraḥ |
vardhanō vardhamānaśca viviktaḥ śrutisāgaraḥ || 28 ||


256  vrishaahee        Controller of all actions
257  vrishabhah        He who showers all dharmas
258  vishnuh             Long-striding
259  vrishaparvaa     The ladder leading to dharma (As well as dharma itself)
260  vrishodarah       He from whose belly life showers forth
261  vardhanah        The nurturer and nourisher
262  vardhamaanah  He who can grow into any dimension
263  viviktah              Separate
264  shruti-saagarah The ocean for all scripture


256  वृषाही    जिनमे वृष(धर्म) जोकि अहः (दिन) है वो स्थित है
257  वृषभः     जो भक्तों के लिए इच्छित वस्तुओं की वर्षा करते हैं
258  विष्णुः     सब और व्याप्त रहने वाले
259  वृषपर्वा   धर्म की तरफ जाने वाली सीढ़ी
260  वृषोदरः  जिनका उदर मानो प्रजा की वर्षा करता है
261  वर्धनः     बढ़ाने और पालना करने वाले
262  वर्धमानः  जो प्रपंचरूप से बढ़ते हैं
263  विविक्तः  बढ़ते हुए भी पृथक ही रहते हैं
264  श्रुतिसागरः जिनमे समुद्र के सामान श्रुतियाँ रखी हुई हैं


 
subhujō durdharō vāgmī mahendrō vasudō vasuḥ |
naikarūpō bṛhadrūpaḥ śipiviṣṭaḥ prakāśanaḥ || 29 ||


265  subhujah          He who has graceful arms
266  durdharah        He who cannot be known by great yogis
267  vaagmee          He who is eloquent in speech
268  mahendrah      The lord of Indra
269  vasudah           He who gives all wealth
270  vasuh               He who is Wealth
271  naika-roopo     He who has unlimited forms
272  brihad-roopah  Vast, of infinite dimensions
273  shipivishtah      The presiding deity of the sun
274  prakaashanah  He who illuminates


265  सुभुजः      जिनकी जगत की रक्षा करने वाली भुजाएं अति सुन्दर हैं
266  दुर्धरः       जो मुमुक्षुओं के ह्रदय में अति कठिनता से धारण किये जाते हैं
267  वाग्मी       जिनसे वेदमयी वाणी का प्रादुर्भाव हुआ है

268  महेन्द्रः      ईश्वरों के भी इश्वर 
269  वसुदः       वसु अर्थात धन देते हैं
270  वसुः         दिया जाने वाला वसु (धन) भी वही हैं
271  नैकरूपः   जिनके अनेक रूप हों
272  बृहद्रूपः     जिनके वराह आदि बृहत् (बड़े-बड़े) रूप हैं
273  शिपिविष्टः  जो शिपि (पशु) में यञरूप में स्थित होते हैं
274  प्रकाशनः   सबको प्रकाशित करने वाले


 
ōjastejōdyutidharaḥ prakāśātmā pratāpanaḥ |
ṛddhaḥ spaṣṭākṣarō mantraścandrāṁśurbhāskaradyutiḥ || 30 ||


275  ojas-tejo-dyutidharah   The possessor of vitality, effulgence and beauty
276  prakaashaatmaa         The effulgent self
277  prataapanah                Thermal energy; one who heats
278  riddhah                        Full of prosperity
279  spashtaaksharah         One who is indicated by OM
280  mantrah                       The nature of the Vedic mantras
281  chandraamshuh          The rays of the moon
282  bhaaskara-dyutih        The effulgence of the sun


275  ओजस्तेजोद्युतिधरः ओज, प्राण और बल को धारण करने वाले
276  प्रकाशात्मा              जिनकी आत्मा  प्रकाश स्वरुप है
277  प्रतापनः                  जो अपनी किरणों से धरती को तप्त करते हैं
278  ऋद्धः                     जो धर्म, ज्ञान और वैराग्य से संपन्न हैं 

279  स्पष्टाक्षरः                जिनका ओंकाररूप अक्षर स्पष्ट है
280  मन्त्रः                      मन्त्रों से जानने योग्य
281  चन्द्रांशुः                  मनुष्यों को चन्द्रमा की किरणों के समान आल्हादित करने वाले
282  भास्करद्युतिः          सूर्य के तेज के समान धर्म वाले


 
amṛtāṁśūdbhavō bhānuḥ śaśabinduḥ sureśvaraḥ |
auṣadhaṁ jagataḥ setuḥ satyadharmaparākramaḥ || 31 ||


283 amritaamshoodbhavah  The Paramatman from whom Amrutamshu or the Moon originated at the time of the churning of the Milk-ocean.
284  bhaanuh                        Self-effulgent
285  shashabindhuh             The moon who has a rabbit-like spot
286  sureshvarah                  A person of extreme charity
287  aushadham                   Medicine
288  jagatas-setuh                A bridge across the material energy
289  satya-dharma-paraakramah    One who champions heroically for truth and righteousness


283  अमृतांशोद्भवः  समुद्र मंथन के समय जिनके कारण चन्द्रमा की उत्पत्ति हुई 
284  भानुः              भासित होने वाले
285  शशबिन्दुः        चन्द्रमा के समान प्रजा का पालन करने वाले
286  सुरेश्वरः           देवताओं के इश्वर
287  औषधम्          संसार रोग के औषध
288  जगतः सेतुः      लोकों के पारस्परिक असंभेद के लिए इनको धारण करने वाला सेतु
289  सत्यधर्मपराक्रमःजिनके धर्म-ज्ञान और पराक्रमादि गुण सत्य है


 
bhūtabhavyabhavannāthaḥ pavanaḥ pāvanōnalaḥ |
kāmahā kāmakṛt kāmtaḥ kānaḥ kāmapradaḥ prabhuḥ || 32 ||


290  bhoota-bhavya-bhavan-naathah    The Lord of past, present and future
291  pavanah          The air that fills the universe
292  paavanah        He who gives life-sustaining power to air
293  analah             Fire
294  kaamahaa       He who destroys all desires
295  kaamakrit        He who fulfills all desires
296  kaantah           He who is of enchanting form
297  kaamah           The beloved
298  kaamapradah  He who supplies desired objects
299  prabhuh          The Lord


290    भूतभव्यभवन्नाथः भूत, भव्य (भविष्य) और भवत (वर्तमान) प्राणियों के नाथ है
291    पवनः       पवित्र करने वाले हैं
292    पावनः      चलाने वाले हैं
293    अनलः      प्राणों को आत्मभाव से ग्रहण करने वाले हैं
294    कामहा     मोक्षकामी भक्तों और हिंसकों की कामनाओं को नष्ट करने वाले
295    कामकृत्   सात्विक भक्तों की कामनाओं को पूरा करने वाले हैं
296    कान्तः      अत्यंत रूपवान हैं
297    कामः       पुरुषार्थ की आकांक्षा वालों से कामना किये जाते हैं 
298    कामप्रदः   भक्तों की कामनाओं को पूरा करने वाले हैं
299    प्रभुः         प्रकर्ष


 
yugādikṛdyugāvartō naikamāyō mahāśanaḥ |
adṛśyō vyaktarūpaśca sahasrajidanantajit || 33 ||


300  yugaadi-krit     The creator of the yugas
301  yugaavartah    The law behind time
302  naikamaayah   He whose forms are endless and varied
303  mahaashanah  He who eats up everything
304  adrishyah         Imperceptible
305  vyaktaroopah   He who is perceptible to the yogi
306  sahasrajit         He who vanquishes thousands
307  anantajit           Ever-victorious


300  युगादिकृत्    युगादि का आरम्भ करने वाले हैं 
301  युगावर्तः       सतयुग आदि युगों का आवर्तन करने वाले हैं
302  नैकमायः      अनेकों मायाओं को धारण करने वाले हैं
303  महाशनः      कल्पांत में संसार रुपी अशन (भोजन) को ग्रसने वाले
304  अदृश्यः        समस्त ज्ञानेन्द्रियों के अविषय हैं
305  व्यक्तरूपः    स्थूल रूप से जिनका स्वरुप व्यक्त है
306  सहस्रजित्     युद्ध में सहस्रों देवशत्रुओं को जीतने वाले
307  अनन्तजित्    अचिन्त्य शक्ति से समस्त भूतों को जीतने वाले


 
iṣṭō’viśiṣṭaḥ śiṣṭeṣṭaḥ śikhaṇḍī nahuṣō vṛṣaḥ |
krōdhahā krōdhakṛtkartā viśvabāhurmahīdharaḥ || 34 ||


308  ishtah          He who is invoked through Vedic rituals
309  visishtah     The noblest and most sacred
310  sishteshtah The greatest beloved
311  shikhandee  He who wears a peacock feather
312  nahushah    He who binds all with maya
313  vrishah        He who is dharma
314  krodhahaa   He who destroys anger
315  krodhakrit-kartaa    He who generates anger against the lower tendency
316  visvabaahuh           He whose hand is in everything
317  maheedharah         The support of the earth


308  इष्टः        यज्ञ द्वारा पूजे जाने वाले
309  विशिष्टः   अन्तर्यामी
310  शिष्टेष्टः    विद्वानों के ईष्ट
311  शिखण्डी शिखण्ड (मयूरपिच्छ) जिनका शिरोभूषण है 

312  नहुषः     भूतों को माया से बाँधने वाले
313  वृषः       कामनाओं की वर्षा करने वाले
314  क्रोधहा   साधुओं का क्रोध नष्ट करने वाले
315  क्रोधकृत्कर्ता  क्रोध करने वाले दैत्यादिकों के कर्तन करने वाले हैं
316  विश्वबाहुः जिनके बाहु सब और हैं
317  महीधरः  महि (पृथ्वी) को धारण करते हैं


 
acyutaḥ prathitaḥ prāṇaḥ prāṇadō vāsavānujaḥ |
apāṁnidhiradhiṣṭhānamapramattaḥ pratiṣṭhitaḥ || 35 ||


318  achyutah    He who undergoes no changes
319  prathitah     He who exists pervading all
320  praanah     The prana in all living creatures

321  praanadah  He who gives prana
322  vaasavaanujah  The brother of Indra
323  apaam-nidhih    Treasure of waters (the ocean)
324  adhishthaanam  The substratum of the entire universe
325  apramattah        He who never makes a wrong judgement
326  pratishthitah       He who has no cause


318  अच्युतः      छः भावविकारों से रहित रहने वाले
319  प्रथितः       जगत की उत्पत्ति आदि कर्मो से प्रसिद्ध 

320  प्राणः         हिरण्यगर्भ रूप से प्रजा को जीवन देने वाले
321  प्राणदः       देवताओं और दैत्यों को प्राण देने या नष्ट करने वाले हैं
322  वासवानुजः वासव (इंद्र) के अनुज (वामन अवतार)
323  अपां-निधिः जिसमे अप (जल) एकत्रित रहता है वो सागर हैं 

324  अधिष्ठानम्  जिनमे सब भूत स्थित हैं
325  अप्रमत्तः     कर्मानुसार फल देते हुए कभी चूकते नहीं हैं
326  प्रतिष्ठितः     जो अपनी महिमा में स्थित हैं


 
skandaḥ skandadharō dhuryō varadō vāyuvāhanaḥ |
vāsudevō bṛhadbhānurādidevaḥ purandaraḥ || 36 ||  


327  skandah            He whose glory is expressed through Subrahmanya
328  skanda-dharah  Upholder of withering righteousness
329  dhuryah             Who carries out creation etc. without hitch
330  varadah             He who fulfills boons
331  vaayuvaahanah Controller of winds
332 vaasudevah     Dwelling in all creatures although not affected by that condition
333  brihat-bhaanuh  He who illumines the world with the rays of the sun and moon
334  aadidevah          The primary source of everything
335  purandarah         Destroyer of cities


327  स्कन्दः       स्कंदन करने वाले हैं
328  स्कन्दधरः   स्कन्द अर्थात धर्ममार्ग को धारण करने वाले हैं
329  धूर्यः          समस्त भूतों के जन्मादिरूप धुर (बोझे) को धारण करने वाले हैं
330  वरदः         इच्छित वर देने वाले हैं
331  वायुवाहनः  आवह आदि सात वायुओं को चलाने वाले हैं
332  वासुदेवः     जो वासु हैं और देव भी हैं
333  बृहद्भानुः    अति बृहत् किरणों से संसार को प्रकाशित करने वाले 

334  आदिदेवः    सबके आदि हैं और देव भी हैं
335  पुरन्दरः       देवशत्रुओं के पूरों (नगर)का ध्वंस करने वाले हैं


 
aśōkastāraṇastāraḥ śūraḥ śaurirjaneśvaraḥ |
anukūlaḥ śatāvartaḥ padmī padmanibhekṣaṇaḥ || 37 ||  


336  ashokah              He who has no sorrow
337  taaranah             He who enables others to cross
338  taarah                 He who saves
339  shoorah              The valiant
340  shaurih               He who incarnated in the dynasty of Shoora
341  janeshvarah       The Lord of the people
342  anukoolah          Well-wisher of everyone
343  shataavarttah     He who takes infinite forms
344  padmee              He who holds a lotus
345  padmanibhekshanah    Lotus-eyed


336  अशोकः    शोकादि छः उर्मियों से रहित हैं
337  तारणः      संसार सागर से तारने वाले हैं
338  तारः         भय से तारने वाले हैं
339  शूरः         पुरुषार्थ करने वाले हैं
340  शौरिः       वासुदेव की संतान
341  जनेश्वरः     जन अर्थात जीवों के इश्वर
342  अनुकूलः   सबके आत्मारूप हैं
343  शतावर्तः   जिनके धर्म रक्षा  के लिए सैंकड़ों अवतार हुए हैं 

344  पद्मी         जिनके हाथ में पद्म है
345  पद्मनिभेक्षणः जिनके नेत्र पद्म समान हैं


 
padmanābhōravindākṣaḥ padmagarbhaḥ śarīrabhṛt |
maharddhir ṛddhō vṛddhātmā mahākṣō garuḍadhvajaḥ || 38 ||  


346  padmanaabhah    He who has a lotus-navel
347  aravindaakshah    He who has eyes as beautiful as the lotus
348  padmagarbhah    He who is being meditated upon in the lotus of the heart
349  shareerabhrit       He who sustains all bodies
350  maharddhi           One who has great prosperity
351  riddhah                 He who has expanded Himself as the universe
352  Vriddhaatmaa      The ancient self
353  mahaakshah        The great-eyed
354  garudadhvajah     One who has Garuda on His flag


346  पद्मनाभः      हृदयरूप पद्म की नाभि के बीच में स्थित हैं
347  अरविन्दाक्षः  जिनकी आँख अरविन्द (कमल) के समान है
348  पद्मगर्भः       हृदयरूप पद्म में मध्य में उपासना करने वाले हैं 

349  शरीरभृत्     अपनी माया से शरीर धारण करने वाले हैं
350  महर्द्धिः        जिनकी विभूति महान है
351  ऋद्धः          प्रपंचरूप
352  वृद्धात्मा       जिनकी देह वृद्ध या पुरातन है
353  महाक्षः        जिनकी अनेको महान आँखें (अक्षि) हैं 

354  गरुडध्वजः   जिनकी ध्वजा गरुड़ के चिन्ह वाली है

 
atulaḥ śarabhō bhīmaḥ samayajñō havirhariḥ |
sarvalakṣaṇalakṣaṇyō lakṣmīvān samitiñjayaḥ || 39 ||  


355  atulah            Incomparable
356  sharabhah     One who dwells and shines forth through the bodies
357  bheemah       The terrible
358  samayajnah  One whose worship is nothing more than keeping an equal vision of the mind by the devotee
359  havirharih      The receiver of all oblation
360  sarva-lakshana-lakshanyah   Known through all proofs
361  lakshmeevaan                       The consort of Laksmi
362  samitinjayah                           Ever-victorious


355  अतुलः       जिनकी कोई तुलना नहीं है
356  शरभः       जो नाशवान शरीर में प्रयगात्मा रूप से भासते हैं
357  भीमः         जिनसे सब डरते हैं
358  समयज्ञः     समस्त भूतों में जो समभाव रखते हैं
359  हविर्हरिः     यज्ञों में हवि का भाग हरण करते हैं
360  सर्वलक्षणलक्षण्यः  परमार्थस्वरूप
361  लक्ष्मीवान्   जिनके वक्ष स्थल में लक्ष्मी जी निवास करती हैं
362  समितिञ्जयः समिति अर्थात युद्ध को जीतते हैं


 
vikṣarō rōhitō mārgō heturdamodarassahaḥ |
mahīdharō mahābhāgō vegavānamitāśanaḥ || 40 ||


363  viksharah    Imperishable
364  rohitah        The fish incarnation
365  maargah     The path
366  hetuh          The cause
367  daamodarah     Who has a rope around his stomach
368  sahah                All-enduring
369  maheedharah   The bearer of the earth
370  mahaabhaagah He who gets the greatest share in every Yajna
371  vegavaan          He who is swift
372  amitaashanah   Of endless appetite 


363  विक्षरः      जिनका क्षर अर्थात नाश नहीं है
364  रोहितः     अपनी इच्छा से रोहितवर्ण मूर्ति का स्वरुप धारण करने वाले
365  मार्गः        जिनसे परमानंद प्राप्त होता है
366  हेतुः         संसार के निमित्त और उपादान कारण हैं
367  दामोदरः   दाम लोकों का नाम है जिसके वे उदर में हैं
368  सहः         सबको सहन करने वाले हैं
369  महीधरः    पर्वतरूप होकर मही को धारण करते हैं 

370  महाभागः  हर यज्ञ में जिन्हे सबसे बड़ा भाग मिले
371  वेगवान्     तीव्र गति वाले हैं
372  अमिताशनः संहार के समय सारे विश्व को खा जाने वाले हैं


 
udbhavaḥ, kṣōbhaṇō devaḥ śrīgarbhaḥ parameśvaraḥ |
karaṇaṁ kāraṇaṁ kartā vikartā gahanō guhaḥ || 41 ||  


373  udbhavah        The originator
374  kshobhanah    The agitator
375  devah              He who revels
376  shreegarbhah  He in whom are all glories
377 parameshvarah Parama + Ishvara = Supreme Lord, Parama (MahaLakshmi i.e. above all the shaktis) + Ishvara (Lord) = Lord of MahaLakshmi
378  karanam    The instrument
379  kaaranam  The cause
380  kartaa        The doer
381  vikartaa     Creator of the endless varieties that make up the universe
382  gahanah    The unknowable
383  guhah         He who dwells in the cave of the heart


373  उद्भवः      भव यानी संसार से ऊपर हैं
374  क्षोभणः     जगत की उत्पत्ति के समय प्रकृति और पुरुष में प्रविष्ट होकर क्षुब्ध करने वाले
375  देवः         जो स्तुत्य पुरुषों से स्तवन किये जाते हैं और सर्वत्र जाते हैं
376  श्रीगर्भः     जिनके उदर में संसार रुपी श्री स्थित है
377  परमेश्वरः   जो परम है और ईशनशील हैं
378  करणम्    संसार की उत्पत्ति के सबसे बड़े साधन हैं 

379  कारणम्   जगत के उपादान और निमित्त
380  कर्ता        स्वतन्त्र 

381  विकर्ता     विचित्र भुवनों की रचना करने वाले हैं
382  गहनः       जिनका स्वरुप, सामर्थ्य या कृत्य नहीं जाना जा सकता
383  गुहः         अपनी माया से स्वरुप को ढक लेने वाले


 
vyavasāyō vyavasthānaḥ saṁsthānaḥ sthānadō dhruvaḥ |
pararddhiḥ paramaspaṣṭastuṣṭaḥ puṣṭaḥ śubhekṣaṇaḥ || 42 ||


384  vyavasaayah       Resolute
385  vyavasthaanah    The substratum
386  samsthaanah       The ultimate authority
387  sthaanadah          He who confers the right abode
388  dhruvah                The changeless in the midst of changes
389  pararddhih            He who has supreme manifestations
390  paramaspashtah  The extremely vivid
391  tushtah                 One who is contented with a very simple offering
392  pushtah                One who is ever-full
393  shubhekshanah   All-auspicious gaze


384  व्यवसायः      ज्ञानमात्रस्वरूप
385  व्यवस्थानः     जिनमे सबकी व्यवस्था है
386  संस्थानः        परम सत्ता
387  स्थानदः        ध्रुवादिकों  को उनके कर्मों के अनुसार स्थान देते हैं
388  ध्रुवः             अविनाशी
389  परर्धिः          जिनकी विभूति श्रेष्ठ है
390  परमस्पष्टः     परम और स्पष्ट हैं
391  तुष्टः             परमानन्दस्वरूप
392  पुष्टः             सर्वत्र परिपूर्ण
393  शुभेक्षणः       जिनका दर्शन सर्वदा शुभ है


 
rāmō virāmō virajō mārgō neyō nayōnayaḥ |
vīraḥ śaktimatāṁ śreṣṭhō dharmō dharmaviduttamaḥ || 43 ||


394  raamah     One who is most handsome
395  viraamah   The abode of perfect-rest
396  virajo         Passionless
397  maargah   The path
398  neyah       The guide
399  nayah       One who leads
400  anayah     One who has no leader
401  veerah      The valiant
402  shaktimataam-shresthah   The best among the powerful
403  dharmah                            The law of being
404  dharmaviduttamah            The highest among men of realisation


394  रामः     अपनी इच्छा से रमणीय शरीर धारण करने वाले 
395  विरामः  जिनमे प्राणियों का विराम (अंत) होता है
396  विरजः   विषय सेवन में जिनका राग नहीं रहा है
397  मार्गः     जिन्हे जानकार मुमुक्षुजन अमर हो जाते हैं
398  नेयः      ज्ञान से जीव को परमात्वभाव की तरफ ले जाने वाले
399  नयः      नेता
400  अनयः   जिनका कोई और नेता नहीं है
401  वीरः      विक्रमशाली
402  शक्तिमतां श्रेष्ठः  सभी शक्तिमानों में श्रेष्ठ
403  धर्मः      समस्त भूतों को धारण करने वाले
404  धर्मविदुत्तमः      श्रुतियाँ और स्मृतियाँ जिनकी आज्ञास्वरूप है


 
vaikuṇṭhaḥ puruṣaḥ prāṇaḥ prāṇadaḥ praṇavaḥ pṛthuḥ |
hiraṇyagarbhaḥ śatrughnō vyāptō vāyuradhōkṣajaḥ || 44 || 


405  vaikunthah    Lord of supreme abode, Vaikuntha
406  purushah      One who dwells in all bodies
407  praanah        Life
408  praanadah    Giver of life
409  pranavah      He who is praised by the gods
410  prituh            The expanded
411  hiranyagarbhah    The creator
412  shatrughnah         The destroyer of enemies
413  vyaaptah              The pervader
414  vaayuh                 The air
415  adhokshajah        One whose vitality never flows downwards


405  वैकुण्ठः जगत के आरम्भ में बिखरे हुए भूतों को परस्पर मिलाकर उनकी गति रोकने वाले
406  पुरुषः    सबसे पहले होने वाले
407  प्राणः     प्राणवायुरूप होकर चेष्टा करने वाले हैं
408  प्राणदः   प्रलय के समय प्राणियों के प्राणों का खंडन करते हैं
409  प्रणवः    जिन्हे वेद प्रणाम करते हैं
410  पृथुः       प्रपंचरूप से विस्तृत हैं
411  हिरण्यगर्भः  ब्रह्मा की उत्पत्ति के कारण
412  शत्रुघ्नः        देवताओं के शत्रुओं को मारने वाले हैं
413  व्याप्तः       सब कार्यों को व्याप्त करने वाले हैं
414  वायुः          गंध वाले हैं
415  अधोक्षजः    जो कभी अपने स्वरुप से नीचे न हो


 
ṛtuḥ sudarśanaḥ kālaḥ parameṣṭhī parigrahaḥ |
ugraḥ saṁvatsarō dakṣō viśrāmō viśvadakṣiṇaḥ || 45 ||  


416  rituh                 The seasons
417  sudarshanah    He whose meeting is auspicious
418  kaalah              He who judges and punishes beings
419  parameshthee  One who is readily available for experience within heart
420  parigrahah       The receiver
421  ugrah               The terrible
422  samvatsarah    The year
423  dakshah           The smart
424  vishraamah      The resting place
425  vishva-dakshinah    The most skilful and efficient


416  ऋतुः       ऋतु शब्द द्वारा कालरूप से लक्षित होते हैं
417  सुदर्शनः   उनके नेत्र अति सुन्दर हैं
418  कालः      सबकी गणना करने वाले हैं
419  परमेष्ठी    हृदयाकाश के भीतर परम महिमा में स्थित रहने के स्वभाव वाले
420  परिग्रहः   भक्तों के अर्पण किये जाने वाले पुष्पादि को ग्रहण करने वाले
421  उग्रः        जिनके भय से सूर्य भी निकलता है
422  संवत्सरः   जिनमे सब भूत बसते हैं
423  दक्षः        जो सब कार्य बड़ी शीघ्रता से करते हैं
424  विश्रामः    मोक्ष देने वाले हैं
425  विश्वदक्षिणः जो समस्त कार्यों में कुशल हैं


 
vistāraḥ sthāvaraḥsthāṇuḥ pramāṇaṁ bījamavyayam |
arthōnarthō mahākōśō mahābhōgō mahādhanaḥ|| 46 ||  


426  vistaarah               The extension
427  sthaavarah-sthaanuh    The firm and motionless
428  pramaanam          The proof
429  beejamavyayam   The Immutable Seed
430  arthah                   He who is worshiped by all
431  anarthah               One to whom there is nothing yet to be fulfilled
432  mahaakoshah       He who has got around him great sheaths
433  mahaabhogah      He who is of the nature of enjoyment
434  mahaadhanah      He who is supremely rich


426  विस्तारः          जिनमे समस्त लोक विस्तार पाते हैं
427  स्थावरस्स्थाणुः  स्थावर और स्थाणु हैं
428  प्रमाणम्          संवितस्वरूप
429  बीजमव्ययम्    बिना अन्यथाभाव के ही संसार के कारण हैं
430  अर्थः              सबसे प्रार्थना किये जाने वाले हैं
431  अनर्थः            जिनका कोई प्रयोजन नहीं है

432  महाकोशः       जिन्हे महान कोष ढकने वाले हैं
433  महाभोगः        जिनका सुखरूप महान भोग है
434  महाधनः         जिनका भोगसाधनरूप महान धन है
 


 
anirviṇṇaḥ sthaviṣṭhōbhūrdharmayūpō mahāmakhaḥ |
nakṣatranemirnakṣatrī kṣamaḥ, kṣāmaḥ samīhanaḥ || 47 ||


435  anirvinnah          He who has no discontent
436  sthavishthah      One who is supremely huge
437  a-bhooh             One who has no birth
438  dharma-yoopah The post to which all dharma is tied
439  mahaa-makhah The great sacrificer
440  nakshatranemir The nave of the stars
441  nakshatree        The Lord of the stars (the moon)
442  kshamah            He who is supremely efficient in all undertakings
443  kshaamah          He who ever remains without any scarcity
444  sameehanah      One whose desires are auspicious


435  अनिर्विण्णः    जिन्हे कोई निर्वेद (उदासीनता) नहीं है
436  स्थविष्ठः        वैराजरूप से स्थित होने वाले हैं  
437  अभूः            अजन्मा
438  धर्मयूपः        धर्म स्वरुप यूप में जिन्हे बाँधा जाता है
439  महामखः      जिनको अर्पित किये हुए मख (यज्ञ) महान हो जाते हैं
440  नक्षत्रनेमिः     सम्पूर्ण नक्षत्रमण्डल के केंद्र हैं
441  नक्षत्री          चन्द्ररूप
442  क्षमः            समस्त कार्यों में समर्थ
443  क्षामः           जो समस्त विकारों के क्षीण हो जाने पर आत्मभाव से स्थित रहते हैं
444  समीहनः      सृष्टि आदि के लिए सम्यक चेष्टा करते हैं


 
yajña ijyō mahejyaśca kratuḥ satraṁ satāṁ gatiḥ |
sarvadarśī vimuktātmā sarvajñō jñānamuttamam || 48 ||


445  yajnah             One who is of the nature of yajna
446  ijyah                He who is fit to be invoked through yajna
447  mahejyah        One who is to be most worshiped
448  kratuh             The animal-sacrifice
449  satram            Protector of the good
450  sataam-gatih  Refuge of the good
451  sarvadarshee        All-knower
452  vimuktaatmaa       The ever-liberated self
453  sarvajno                Omniscient
454  jnaanamuttamam  The Supreme Knowledge


445  यज्ञः            सर्वयज्ञस्वरूप
446  इज्यः          जो पूज्य हैं
447  महेज्यः        मोक्षरूप फल देने वाले सबसे अधिक पूजनीय
448  क्रतुः           तद्रूप
449  सत्रम्          जो विधिरूप धर्म को प्राप्त करता है
450  सतां-गतिः    जिनके अलावा कोई और गति नहीं है
451  सर्वदर्शी      जो  प्राणियों के सम्पूर्ण कर्मों को देखते हैं
452  विमुक्तात्मा  स्वभाव से ही जिनकी आत्मा मुक्त है
453  सर्वज्ञः         जो सर्व है और ज्ञानरूप है
454  ज्ञानमुत्तमम्  जो प्रकृष्ट, अजन्य, और सबसे बड़ा साधक ज्ञान है


 
suvrataḥ sumukhaḥ sūkṣmaḥ sughōṣaḥ sukhadaḥ suhṛt |
manōharō jitakrōdhō vīrabāhurvidāraṇaḥ || 49 ||


455  suvratah       He who ever-perfoeming the pure vow
456  sumukhah    One who has a charming face
457  sookshmah  The subtlest
458  sughoshah   Of auspicious sound
459  sukhadah     Giver of happiness
460  suhrit            Friend of all creatures
461  manoharah  The stealer of the mind
462  jita-krodhah  One who has conquered anger
463  veerabaahur Having mighty arms
464  vidaaranah   One who splits asunder


455  सुव्रतः        जिन्होंने अशुभ व्रत लिया है 
456  सुमुखः       जिनका मुख सुन्दर है
457  सूक्ष्मः        शब्दादि स्थूल कारणों से रहित हैं
458  सुघोषः       मेघ के समान गंभीर घोष वाले हैं
459  सुखदः       सदाचारियों को सुख देने वाले हैं
460  सुहृत्         बिना प्रत्युपकार की इच्छा के ही उपकार करने वाले हैं
461  मनोहरः      मन का हरण करने वाले हैं
462  जितक्रोधः   क्रोध को जीतने वाले
463  वीरबाहुः     अति विक्रमशालिनी बाहु के स्वामी
464  विदारणः    अधार्मिकों को विदीर्ण करने वाले हैं


 
svāpanassvavaśō vyāpī naikātmā naikakarmakṛt |
vatsarō vatsalō vatsī ratnagarbhō dhaneśvaraḥ || 50 ||


465  svaapanah        One who puts people to sleep
466  svavashah         He who has everything under His control
467  vyaapee             All-pervading
468  naikaatmaa        Many souled
469  naikakarmakrit   One who does many actions
470  vatsarah            The abode
471  vatsalah            The supremely affectionate
472  vatsee               The father
473  ratnagarbhah    The jewel-wombed
474  dhaneshvarah   The Lord of wealth


465  स्वापनः        जीवों को माया से आत्मज्ञानरूप जाग्रति से रहित करने वाले हैं
466  स्ववशः        जगत की उत्पत्ति, स्थिति और लय के कारण हैं
467  व्यापी          सर्वव्यापी
468  नैकात्मा       जो विभिन्न विभूतियों के द्वारा नाना प्रकार से स्थित हैं
469  नैककर्मकृत्  जो संसार की उत्पत्ति, उन्नति और विपत्ति आदि अनेक कर्म करते हैं
470  वत्सरः          जिनमे सब कुछ बसा हुआ है
471  वत्सलः         भक्तों के स्नेही
472  वत्सी            वत्सों का पालन करने वाले
473  रत्नगर्भः         रत्न जिनके गर्भरूप हैं
474  धनेश्वरः         जो धनों के स्वामी हैं


 
dharmagubdharmakṛddharmī sadasatkṣaramakṣaram |
avijñātā sahasrāṁśurvidhātā kṛtalakṣaṇaḥ || 51 ||


475  dharmagub     One who protects dharma
476  dharmakrit      One who acts according to dharma
477  dharmee         The supporter of dharma
478  sat                  existence
479  asat                illusion
480  ksharam         He who appears to perish
481  aksharam       Imperishable
482 avigyaataa    The non-knower (The knower being the conditioned soul within the body)
483  sahasraamshur    The thousand-rayed
484  vidhaataa             All supporter
485  kritalakshanah     One who is famous for His qualities


475  धर्मगुब्          धर्म का गोपन(रक्षा) करने वाले हैं
476  धर्मकृत्         धर्म की मर्यादा के अनुसार आचरण वाले हैं
477  धर्मी             धर्मों को धारण करने वाले हैं
478  सत्              सत्यस्वरूप परब्रह्म
479  असत्           प्रपंचरूप अपर ब्रह्म
480  क्षरम्            सर्व भूत
481  अक्षरम्         कूटस्थ
482  अविज्ञाता      वासना को न जानने वाला
483  सहस्रांशुः      जिनके तेज से प्रज्वल्लित होकर सूर्य तपता है 
484  विधाता         समस्त भूतों और पर्वतों को धारण करने वाले
485  कृतलक्षणः    नित्यसिद्ध चैतन्यस्वरूप


 
gabhastinemiḥ sattvasthaḥ siṁhō bhūtamaheśvaraḥ |
ādidevō mahādevō deveśō devabhṛdguruḥ || 52 ||  


486  gabhastinemih    The hub of the universal wheel
487  sattvasthah         Situated in sattva
488  simhah                The lion
489  bhoota-maheshvarah    The great lord of beings
490  aadidevah                     The first deity
491  mahaadevah                 The great deity
492  deveshah                      The Lord of all devas
493  devabhrit-guruh            Advisor of Indra


486  गभस्तिनेमिः     जो गभस्तियों (किरणों) के बीच में सूर्यरूप से स्थित हैं
487  सत्त्वस्थः          जो समस्त प्राणियों में स्थित हैं
488  सिंहः              जो सिंह के समान पराक्रमी हैं
489  भूतमहेश्वरः      भूतों के महान इश्वर हैं
490  आदिदेवः        जो सब भूतों का ग्रहण करते हैं और देव भी हैं
491  महादेवः          जो अपने महान ज्ञानयोग और ऐश्वर्य से महिमान्वित हैं
492  देवेशः            देवों के ईश हैं
493  देवभृद्गुरुः     देंताओं के पालक इन्द्र के भी शासक हैं


 
uttarō gōpatirgōptā jñānagamyaḥ purātanaḥ |
śarīrabhūtabhṛdbhōktā kapīndrō bhūridakṣiṇaḥ || 53 ||


494  uttarah     He who lifts us from the ocean of samsara
495  gopatih    The shepherd
496  goptaa     The protector
497  jnaanagamyah    One who is experienced through pure knowledge
498  puraatanah         He who was even before time
499 shareera-bhootabhrit  One who nourishes the nature from which the bodies came
500  bhoktaa                        The enjoyer
501  kapeendrah                  Lord of the monkeys (Rama)
502  bhooridakshinah          He who gives away large gifts


494  उत्तरः       जो संसारबंधन से मुक्त हैं
495  गोपतिः     गौओं के पालक
496  गोप्ता       समस्त भूतों के पालक और जगत के रक्षक
497  ज्ञानगम्यः  जो केवल ज्ञान से ही जाने जाते हैं
498  पुरातनः    जो काल से भी पहले रहते हैं
499  शरीरभूतभृत्  शरीर की रचना करने वाले भूतों के पालक
500  भोक्ता           पालन करने वाले
501  कपीन्द्रः         वानरों के स्वामी
502  भूरिदक्षिणः     जिनकी बहुत सी दक्षिणाएँ रहती हैं


 
sōmapōmṛtapaḥ sōmaḥ purujit purusattamaḥ |
vinayō jayaḥ satyasandhō dāśārhassātvatāṁ patiḥ || 54 ||


503  somapah          One who takes Soma in the yajnas
504  amritapah         One who drinks the nectar
505  somah              One who as the moon nourishes plants
506  purujit               One who has conquered numerous enemies
507  purusattamah   The greatest of the great
508  vinayah             He who humiliates those who are unrighteous
509  jayah                The victorious
510  satyasandhah  Of truthful resolution
511  daashaarhah    One who was born in the Dasarha race
512  saatvataam-patih    The Lord of the Satvatas


503  सोमपः             जो समस्त यज्ञों में देवतारूप से सोमपान करते हैं
504  अमृतपः           आत्मारूप अमृतरस का पान करने वाले 

505  सोमः               चन्द्रमा (सोम) रूप से औषधियों का पोषण करने वाले
506  पुरुजित्            पुरु अर्थात बहुतों को जीतने वाले
507  पुरुसत्तमः         विश्वरूप अर्थात पुरु और उत्कृष्ट अर्थात सत्तम हैं
508  विनयः              दुष्ट प्रजा को विनय अर्थात दंड देने वाले हैं
509  जयः                 सब भूतों को जीतने वाले हैं
510  सत्यसन्धः          जिनकी संधा अर्थात संकल्प सत्य हैं
511  दाशार्हः             जो दशार्ह कुल में उत्पन्न हुए
512  सात्त्वतां पतिः     सात्वतों (वैष्णवों) के स्वामी


 
jīvō vinayitāsākṣī mukundōmitavikramaḥ |
ambhōnidhiranantātmā mahōdadhiśayōntakaḥ || 55 ||


513  jeevah                        One who functions as the ksetrajna
514  vinayitaa-saakshee    The witness of modesty
515  mukundah                  The giver of liberation
516  amitavikramah           Of immeasurable prowess
517  ambho-nidhir             The substratum of the four types of beings
518  anantaatmaa             The infinite self
519  mahodadhishayah     One who rests on the great ocean
520  antakah                     The death 


513  जीवः               क्षेत्रज्ञरूप से प्राण धारण करने वाले
514  विनयितासाक्षी   प्रजा की विनयिता को साक्षात देखने वाले
515  मुकुन्दः            मुक्ति देने वाले हैं
516  अमितविक्रमः    जिनका विक्रम (शूरवीरता) अतुलित है
517  अम्भोनिधिः       जिनमे अम्भ (देवता) रहते हैं
518  अनन्तात्मा        जो देश, काल और वस्तु से अपरिच्छिन्न हैं
519  महोदधिशयः    जो महोदधि (समुद्र) में शयन करते हैं 

520  अन्तकः           भूतों का अंत करने वाले

 
ajō mahārhaḥ svābhāvyō jitāmitraḥ pramōdanaḥ |
ānandō nandanō nandaḥ satyadharmā trivikramaḥ || 56 ||


521  ajah                  Unborn
522  mahaarhah      One who deserves the highest worship
523  svaabhaavyah Ever rooted in the nature of His own self
524  jitaamitrah       One who has conquered all enemies
525  pramodanah    Ever-blissful
526  aanandah        A mass of pure bliss
527  nandanah       One who makes others blissful
528  nandah           Free from all worldly pleasures
529  satyadharmaa    One who has in Himself all true dharmas
530  trivikramah         One who took three steps


521  अजः            अजन्मा
522  महार्हः          मह (पूजा) के योग्य
523  स्वाभाव्यः      नित्यसिद्ध होने के कारण स्वभाव से ही उत्पन्न नहीं होते
524  जितामित्रः     जिन्होंने शत्रुओं को जीता है
525  प्रमोदनः       जो अपने ध्यानमात्र से ध्यानियों को प्रमुदित करते हैं
526  आनन्दः       आनंदस्वरूप
527  नन्दनः         आनंदित करने वाले हैं
528  नन्दः           सब प्रकार की सिद्धियों से संपन्न
529  सत्यधर्मा      जिनके धर्म ज्ञानादि गुण सत्य हैं
530  त्रिविक्रमः     जिनके तीन विक्रम (डग) तीनों लोकों में क्रान्त (व्याप्त) हो गए


 
maharṣiḥ kapilācāryaḥ kṛtajñō medinīpatiḥ |
tripadastridaśādhyakṣō mahāśṛṅgaḥ kṛtāntakṛt || 57 ||  


531  maharshih kapilaachaaryah   He who incarnated as Kapila, the great sage
532  kritajnah            The knower of the creation
533  medineepatih    The Lord of the earth
534  tripadah            One who has taken three steps
535  tridashaadhyaksho     The Lord of the three states of consciousness
536  mahaashringah          Great-horned (Matsya)
537  kritaantakrit                Destroyer of the creation


531  महर्षिः कपिलाचार्यः   जो ऋषि रूप से उत्पन्न हुए कपिल हैं
532  कृतज्ञः                    कृत (जगत) और ज्ञ (आत्मा) हैं
533  मेदिनीपतिः              मेदिनी (पृथ्वी) के पति
534  त्रिपदः                    जिनके तीन पद हैं
535  त्रिदशाध्यक्षः            जागृत , स्वप्न और सुषुप्ति इन तीन अवस्थाओं के अध्यक्ष
536  महाशृंगः                 मत्स्य अवतार
537  कृतान्तकृत्             कृत (जगत) का अंत करने वाले हैं


 

mahāvarāhō gōvindaḥ suṣeṇaḥ kanakāṅgadī |
guhyō gabhīrō gahanō guptaścakragadādharaḥ || 58 ||  


538  mahaavaraaho    The great boar
539  govindah             One who is known through Vedanta
540  sushenah            He who has a charming army
541  kanakaangadee  Wearer of bright-as-gold armlets
542  guhyo                  The mysterious
543  gabheerah          The unfathomable
544  gahano               Impenetrable
545  guptah                The well-concealed
546  chakra-gadaadharah    Bearer of the disc and mace


538  महावराहः    महान हैं और वराह हैं
539  गोविन्दः       गो अर्थात वाणी से प्राप्त होने वाले हैं
540  सुषेणः         जिनकी पार्षदरूप सुन्दर सेना है
541  कनकांगदी   जिनके कनकमय (सोने के) अंगद(भुजबन्द) हैं
542  गुह्यः           गुहा यानि हृदयाकाश में छिपे हुए हैं
543  गभीरः        जो गंभीर हैं
544  गहनः         कठिनता से प्रवेश किये जाने योग्य हैं
545  गुप्तः          जो वाणी और मन के अविषय हैं
546  चक्रगदाधरः मन रुपी चक्र और बुद्धि रुपी गदा को लोक रक्षा हेतु धारण करने वाले


 
vedhāḥ svāṅgo’jitaḥ kṛṣṇo dṛḍhaḥ saṅkarṣaṇo’cyutaḥ |
varuṇo vāruṇo vṛukṣaḥ puṣkarākṣo mahāmanāḥ || 59 ||


547  vedhaah                     Creator of the universe
548  svaangah                   One with well-proportioned limbs
549  ajitah                          Vanquished by none
550  krishnah                     Dark-complexioned
551  dridhah                      The firm
552  sankarshanochyutah He who absorbs the whole creation into His nature and never falls away from that nature
553  varunah                     One who sets on the horizon (Sun)
554  vaarunah                   The son of Varuna (Vasistha or Agastya)
555  vrikshah                     The tree
556  pushkaraakshah        Lotus eyed
557  mahaamanaah          Great-minded


547  वेधाः       विधान करने वाले हैं
548  स्वांगः      कार्य करने में स्वयं ही अंग हैं
549  अजितः    अपने अवतारों में किसी से नहीं जीते गए
550  कृष्णः      कृष्णद्वैपायन
551  दृढः         जिनके स्वरुप सामर्थ्यादि की कभी च्युति नहीं होती
552  संकर्षणोऽच्युतः जो एक साथ ही आकर्षण  करते हैं और पद च्युत नहीं होते 

553  वरुणः      अपनी किरणों का संवरण करने वाले सूर्य हैं
554  वारुणः     वरुण के पुत्र वसिष्ठ या अगस्त्य
555  वृक्षः        वृक्ष के समान अचल भाव से स्थित
556  पुष्कराक्षः हृदय कमल में चिंतन किये जाते हैं
557  महामनः   सृष्टि,स्थिति और अंत ये तीनों कर्म मन से करने वाले


 
bhagavān bhagahānandī vanamālī halāyudhaḥ |
ādityō jyōtirādityaḥ sahiṣṇurgatisattamaḥ || 60 ||  


558  bhagavaan     One who possesses six opulences
559  bhagahaa       One who destroys the six opulences during pralaya
560  aanandee       One who gives delight
561  vanamaalee   One who wears a garland of forest flowers
562  halaayudhah  One who has a plough as His weapon
563  aadityah         Son of Aditi
564  jyotiraadityah  The resplendence of the sun
565  sahishnuh      One who calmly endures duality
566  gatisattamah  The ultimate refuge for all devotees


558  भगवान्          सम्पूर्ण ऐश्वर्य, धर्म, यश, श्री, ज्ञान और वैराग्य जिनमें है 
559  भगहा            संहार के समय ऐश्वर्यादि का हनन करने वाले हैं
560  आनन्दी          सुखस्वरूप
561  वनमाली         वैजयंती नाम की वनमाला धारण करने वाले हैं
562  हलायुधः         जिनका आयुध (शस्त्र) ही हल है 

563  आदित्यः         अदिति के गर्भ से उत्पन्न होने वाले
564  ज्योतिरादित्यः  सूर्यमण्डलान्तर्गत ज्योति में स्थित
565  सहिष्णुः          शीतोष्णादि द्वंद्वों को सहन करने वाले

566  गतिसत्तमः      गति हैं और सर्वश्रेष्ठ हैं

 
sudhanvā khaṇḍaparaśurdāruṇō draviṇapradaḥ |
divaspṛk sarvadṛgvyāsō vācaspatirayōnijaḥ || 61 ||  


567  sudhanvaa             One who has Shaarnga
568  khanda-parashur    One who holds an axe
569  daarunah                Merciless towards the unrighteous
570  dravinapradah        One who lavishly gives wealth
571  divah-sprik              Sky-reaching
572  sarvadrik-vyaaso    One who creates many men of wisdom
573  vaachaspatir-ayonijah        One who is the master of all vidyas and who is unborn through a womb


567  सुधन्वा                 जिनका इन्द्रियादिमय सुन्दर शारंग धनुष है
568  खण्डपरशु:           जिनका परशु अखंड है
569  दारुणः                 सन्मार्ग के विरोधियों के लिए दारुण (कठोर) हैं
570  द्रविणप्रदः             भक्तों को द्रविण (इच्छित धन) देने वाले हैं
571  दिवःस्पृक्             दिव (स्वर्ग) का स्पर्श करने वाले हैं
572  सर्वदृग्व्यासः          सम्पूर्ण ज्ञानों का विस्तार करने वाले हैं
573  वाचस्पतिरयोनिजः  विद्या के पति और जननी से जन्म न लेने वाले हैं


 
trisāmā sāmagaḥ sāma nirvāṇaṁ bheṣajaṁ bhiṣak |
saṁnyāsakṛcchamaśyāntō niṣṭhā śāntiḥ parāyaṇam || 62 ||


574  trisaamaa             One who is glorified by Devas, Vratas and Saamans
575  saamagah            The singer of the sama songs
576  saama                  The Sama Veda
577  nirvaanam            All-bliss
578  bheshajam           Medicine
579  bhishak                Physician
580  samnyaasa-krit    Institutor of sannyasa
581  samah                 Calm
582  shaantah             Peaceful within
583  nishthaa              Abode of all beings
584  shaantih              One whose very nature is peace
585  paraayanam       The way to liberation


574  त्रिसामा           तीन सामों द्वारा सामगान करने वालों से स्तुति किये जाने वाले हैं
575  सामगः            सामगान करने वाले हैं 

576  साम               सामवेद
577  निर्वाणम्          परमानंदस्वरूप ब्रह्म
578  भेषजम्           संसार रूप रोग की औषध
579  भृषक्             संसाररूप रोग से छुड़ाने वाली विद्या का उपदेश देने वाले हैं
580  संन्यासकृत्      मोक्ष के लिए संन्यास की रचना करने वाले हैं
581  समः               सन्यासियों को ज्ञान के साधन शम का उपदेश देने वाले

582  शान्तः             विषयसुखों में अनासक्त रहने वाले
583  निष्ठा               प्रलयकाल में प्राणी सर्वथा जिनमे वास करते हैं
584  शान्तिः            सम्पूर्ण अविद्या की निवृत्ति
585  परायणम्         पुनरावृत्ति की शंका से रहित परम उत्कृष्ट स्थान हैं


 
śubhāṅgaḥ śāntidaḥ sraṣṭā kumudaḥ kuvaleśayaḥ |
gōhitō gōpatirgōptā vṛṣabhākṣō vṛṣapriyaḥ || 63 ||  


586  shubhaangah    One who has the most beautiful form
587  shaantidah        Giver of peace
588  srashtaa            Creator of all beings
589  kumudah           He who delights in the earth
590  kuvaleshayah    He who reclines in the waters
591  gohitah              One who does welfare for cows
592  gopatih              Husband of the earth
593  goptaa               Protector of the universe
594  vrishabhaaksho One whose eyes rain fulfilment of desires
595  vrishapriyah       One who delights in dharma


586  शुभांगः      सुन्दर शरीर धारण करने वाले हैं
587  शान्तिदः    शान्ति देने वाले हैं
588  स्रष्टा         आरम्भ में सब भूतों को रचने वाले हैं
589  कुमुदः       कु अर्थात पृथ्वी में मुदित होने वाले हैं
590  कुवलेशयः  कु अर्थात पृथ्वी के वलन करने से जल कुवल कहलाता है उसमे शयन करने  वाले हैं 

591  गोहितः      गौओं के हितकारी हैं
592  गोपतिः      गो अर्थात भूमि के पति हैं
593  गोप्ता        जगत के रक्षक हैं
594  वृषभाक्षः    वृष अर्थात धर्म जिनकी दृष्टि है
595  वृषप्रियः     जिन्हे वृष अर्थात धर्म प्रिय है


 
anivartī nivṛttātmā saṁkṣeptā kṣemakṛcchivaḥ |
śrīvatsavakṣāḥ śrīvāsaḥ śrīpatiḥ śrīmatāṁ varaḥ || 64 ||  


596  anivartee          One who never retreats
597  nivrittaatmaa    One who is fully restrained from all sense indulgences
598  samksheptaa   The involver
599  kshemakrit       Doer of good
600  shivah              Auspiciousness
601  shreevatsa-vakshaah    One who has sreevatsa on His chest
602  shrevaasah                    Abode of Sree
603  shreepatih                      Lord of Laksmi
604  shreemataam varah      The best among glorious


596  अनिवर्ती        देवासुरसंग्राम से पीछे न हटने वाले हैं
597  निवृतात्मा       जिनकी आत्मा स्वभाव से ही विषयों से निवृत्त है
598  संक्षेप्ता          संहार के समय विस्तृत जगत को सूक्ष्मरूप से संक्षिप्त करने वाले हैं
599  क्षेमकृत्         प्राप्त हुए पदार्थ की रक्षा करने वाले हैं
600  शिवः             अपने नामस्मरणमात्र से पवित्र करने वाले हैं
601  श्रीवत्सवक्षाः    जिनके वक्षस्थल में श्रीवत्स नामक चिन्ह है
602  श्रीवासः          जिनके वक्षस्थल में कभी नष्ट न होने वाली श्री वास करती हैं
603  श्रीपतिः          श्री के पति
604  श्रीमतां वरः     ब्रह्मादि श्रीमानों में प्रधान हैं


 
śrīdaḥ śrīśaḥ śrīnivāsaḥ śrīnidhiḥ śrīvibhāvanaḥ |
śrīdharaḥ śrīkaraḥ śreyaḥ śrīmān lōkatrayāśrayaḥ || 65 ||


605  shreedah                  Giver of opulence
606  shreeshah                The Lord of Sree
607  shreenivaasah         One who dwells in the good people
608  shreenidhih              The treasure of Sree
609  shreevibhaavanah   Distributor of Sree
610  shreedharah            Holder of Sree
611  shreekarah              One who gives Sree
612  shreyah                   Liberation
613  shreemaan              Possessor of Sree
614  loka-trayaashrayah Shelter of the three worlds


605  श्रीदः            भक्तों को श्री देते हैं इसलिए श्रीद हैं
606  श्रीशः           जो श्री के ईश हैं
607  श्रीनिवासः     जो श्रीमानों में निवास करते हैं
608  श्रीनिधिः        जिनमे सम्पूर्ण श्रियां एकत्रित हैं
609  श्रीविभावनः   जो समस्त भूतों को विविध प्रकार की श्रियां देते हैं
610  श्रीधरः          जिन्होंने श्री को छाती में धारण किया हुआ हैं
611  श्रीकरः         भक्तों को श्रीयुक्त करने वाले हैं
612  श्रेयः             जिनका स्वरुप कभी न नष्ट होने वाले सुख को प्राप्त कराता है
613  श्रीमान्          जिनमे श्रियां हैं
614  लोकत्रयाश्रयः जो तीनों लोकों के आश्रय हैं


 
svakṣaḥ svaṅgaḥ śatānaṅdō naṅdirjyōtirgaṇeśvaraḥ |
vijitātmā vidheyātmā satkīrtiśchinnasaṁśayaḥ || 66 ||


615  svakshah                  Beautiful-eyed
616  svangah                    Beautiful-limbed
617  shataanandah          Of infinite varieties and joys
618  nandih                      Infinite bliss
619  jyotir-ganeshvarah   Lord of the luminaries in the cosmos
620  vijitaatmaa               One who has conquered the sense organs
621  vidheyaatmaa    One who is ever available for the devotees to command in love
622  sat-keertih               One of pure fame
623  chinnasamshayah   One whose doubts are ever at rest


615  स्वक्षः                 जिनकी आँखें कमल के समान सुन्दर हैं 
616  स्वङ्गः                 जिनके अंग सुन्दर हैं
617  शतानन्दः            जो परमानंद स्वरुप उपाधि भेद से सैंकड़ों प्रकार के हो जाते हैं
618  नन्दिः                 परमानन्दस्वरूप
619  ज्योतिर्गणेश्वरः      ज्योतिर्गणों के इश्वर
620  विजितात्मा          जिन्होंने आत्मा अर्थात मन को जीत लिया है
621  विधेयात्मा           जिनका स्वरुप किसीके द्वारा विधिरूप से नहीं कहा जा सकता
622  सत्कीर्तिः            जिनकी कीर्ति सत्य है
623  छिन्नसंशयः         जिन्हे कोई संशय नहीं है


 
udīrṇaḥ sarvataścakṣuranīśaḥ śāśvatasthiraḥ |
bhūśayō bhūṣaṇō bhūtirviśōkaḥ śōkanāśanaḥ || 67 ||


624  udeernah                  The great transcendent
625  sarvatah-chakshuh   One who has eyes everywhere
626  aneeshah                  One who has none to Lord over Him
627  shaashvata-sthirah   One who is eternal and stable
628  bhooshayah              One who rested on the ocean shore (Rama)
629  bhooshanah              One who adorns the world
630  bhootih                      One who is pure existence
631  vishokah                    Sorrowless
632  shoka-naashanah     Destroyer of sorrows


624  उदीर्णः               जो सब प्राणीओं से उत्तीर्ण है
625  सर्वतश्चक्षुः           जो अपने चैतन्यरूप से सबको देखते हैं 

626  अनीशः              जिनका कोई ईश नहीं है
627  शाश्वतः-स्थिरः      जो नित्य होने पर भी कभी विकार को प्राप्त नहीं होते
628  भूशयः               लंका जाते समय समुद्रतट पर भूमि पर सोये थे
629  भूषणः               जो अपने अवतारों से पृथ्वी को भूषित करते रहे हैं
630  भूतिः                 समस्त विभूतियों के कारण हैं
631  विशोकः             जो शोक से परे हैं
632  शोकनाशनः        जो स्मरणमात्र  से भक्तों का शोक नष्ट कर दे


 
arciṣmānarcitaḥ kuṁbhō viśuddhātmā viśōdhanaḥ |
aniruddhōpratirathaḥ pradyumnōmitavikramaḥ || 68 ||


633  archishmaan        The effulgent
634  architah                One who is constantly worshipped by His devotees
635  kumbhah              The pot within whom everything is contained
636  vishuddhaatmaa  One who has the purest soul
637  vishodhanah        The great purifier
638  aniruddhah           He who is invincible by any enemy
639  apratirathah         One who has no enemies to threaten Him
640  pradyumnah        Very rich
641  amitavikramah     Of immeasurable prowess


633  अर्चिष्मान्      जिनकी अर्चियों (किरणों) से सूर्य, चन्द्रादि अर्चिष्मान हो रहे हैं 
634  अर्चितः         जो सम्पूर्ण लोकों से अर्चित (पूजित) हैं
635  कुम्भः           कुम्भ(घड़े) के समान जिनमे सब वस्तुएं स्थित हैं
636  विशुद्धात्मा     तीनों गुणों से अतीत होने के कारण विशुद्ध आत्मा हैं
637  विशोधनः      अपने स्मरण मात्र से पापों का नाश करने वाले हैं
638  अनिरुद्धः      शत्रुओं द्वारा कभी रोके न जाने वाले
639  अप्रतिरथः     जिनका कोई विरुद्ध पक्ष नहीं है
640  प्रद्युम्नः        जिनका दयुम्न (धन) श्रेष्ठ है
641  अमितविक्रमःजिनका विक्रम अपरिमित है 


 
kālaneminihā vīraḥ śauriḥ śūrajaneśvaraḥ |
trilōkātmā trilōkeśaḥ keśavaḥ keśihā hariḥ || 69 ||


642  kaalanemi-nihaa         Slayer of Kalanemi
643  veerah                        The heroic victor
644  shauri                         One who always has invincible prowess
645  shoora-janeshvarah   Lord of the valiant
646  trilokaatmaa               The self of the three worlds
647  trilokeshah                 The Lord of the three worlds
648  keshavah                   One whose rays illumine the cosmos
649  keshihaa                    Killer of Kesi
650  harih                          The destroyer


642  कालनेमीनिहा         कालनेमि नामक असुर का हनन करने वाले
643  वीरः                      जो शूर हैं 
644  शौरी                     जो शूरकुल में उत्पन्न हुए हैं
645  शूरजनेश्वरः             इंद्र आदि शूरवीरों के भी शासक
646  त्रिलोकात्मा             तीनों लोकों की आत्मा हैं
647  त्रिलोकेशः              जिनकी आज्ञा से तीनों लोक अपना कार्य करते हैं
648  केशवः                  ब्रह्मा,विष्णु और शिव नाम की शक्तियां केश हैं उनसे युक्त होने वाले
649  केशिहा                 केशी नामक असुर को मारने वाले
650  हरिः                     अविद्यारूप कारण सहित संसार को हर लेते हैं


 
kāmadevaḥ kāmapālaḥ kāmī kāntaḥ kṛtāgamaḥ |
anirdeśyavapurviṣṇurvīrōnantō dhanañjayaḥ || 70 ||


651  kaamadevah           The beloved Lord
652  kaamapaalah          The fulfiller of desires
653  kaamee                  One who has fulfilled all His desires
654  kaantah                  Of enchanting form
655  kritaagamah           The author of the agama scriptures
656  anirdeshya-vapuh  Of Indescribable form
657  vishnuh                  All-pervading
658  veerah                   The courageous
659  anantah                 Endless
660  dhananjayah         One who gained wealth through conquest


651  कामदेवः         कामना किये जाते हैं इसलिए काम हैं और देव भी हैं
652  कामपालः       कामियों की कामनाओं का पालन करने वाले हैं
653  कामी             पूर्णकाम हैं 

654  कान्तः            परम सुन्दर देह वाले हैं
655  कृतागमः        जिन्होंने श्रुति,स्मृति आदि आगम(शास्त्र) रचे हैं 

656  अनिर्देश्यवपुः  जिनका रूप निर्दिष्ट नहीं किया जा सकता
657  विष्णुः            जिनकी प्रचुर कांति पृथ्वी और आकाश को व्याप्त करके स्थित है
658  वीरः              गति आदि से युक्त हैं
659  अनन्तः          देश, काल, वस्तु, सर्वात्मा आदि से अपरिच्छिन्न 

660  धनञ्जयः         अर्जुन के रूप में जिन्होंने दिग्विजय के समय बहुत सा धन जीता था

 
brahmaṇyō brahmakṛdbrahmā brahma brahmavivardhanaḥ |
brahmavidbrāhmaṇō brahmī brahmajñō brāhmaṇapriyaḥ || 71 ||  


661  brahmanyah    Protector of Brahman (anything related to Narayana)
662  brahmakrit      One who acts in Brahman
663  brahmaa         Creator
664  brahma           Biggest
665  brahma-vivardhanah    One who increases the Brahman
666  brahmavid                    One who knows Brahman
667  braahmanah                One who has realised Brahman
668  brahmee                      One who is with Brahma
669  brahmajno                   One who knows the nature of Brahman
670  braahmana-priyah       Dear to the brahmanas


661  ब्रह्मण्यः         जो तप,वेद,ब्राह्मण और ज्ञान के हितकारी हैं
662  ब्रह्मकृत्         तपादि के करने वाले हैं
663  ब्रह्मा             ब्रह्मरूप से सबकी रचना करने वाले हैं
664  ब्रहम            बड़े तथा बढ़ानेवाले हैं
665  ब्रह्मविवर्धनः   तपादि को बढ़ाने वाले हैं
666  ब्रह्मविद्        वेद तथा वेद के अर्थ को यथावत जानने वाले हैं
667  ब्राह्मणः         ब्राह्मण रूप
668  ब्रह्मी             ब्रह्म के शेषभूत जिनमे हैं
669  ब्रह्मज्ञः          जो अपने आत्मभूत वेदों को जानते हैं
670  ब्राह्मणप्रियः   जो ब्राह्मणों को प्रिय हैं


 
mahākramō mahākarmā mahātejā mahōragaḥ |
mahākraturmahāyajvā mahāyajñō mahāhaviḥ || 72 ||


671  mahaakramo    Of great step
672  mahaakarmaa  One who performs great deeds
673  mahaatejaah    One of great resplendence
674  mahoragah       The great serpent
675  mahaakratuh    The great sacrifice
676  mahaayajvaa    One who performed great yajnas
677  mahaayajnah    The great yajna
678  mahaahavih      The great offering


671  महाक्रमः     जिनका डग महान है    
672  महाकर्मा     जगत की उत्पत्ति जैसे जिनके कर्म महान हैं
673  महातेजा      जिनका तेज महान है
674  महोरगः      जो महान उरग (वासुकि सर्परूप) है
675  महाक्रतुः     जो महान क्रतु (यज्ञ) है
676  महायज्वा    महान हैं और लोक संग्रह के लिए यज्ञानुष्ठान करने से यज्वा भी हैं
677  महायज्ञः      महान हैं और यज्ञ हैं
678  महाहविः     महान हैं और हवि हैं


 
stavyaḥ stavapriyaḥ stōtraṁ stutiḥ stōtā raṇapriyaḥ |
pūrṇaḥ pūrayitā puṇyaḥ puṇyakīrtiranāmayaḥ || 73 ||


679  stavyah            One who is the object of all praise
680  stavapriyah      One who is invoked through prayer
681  stotram             The hymn
682  stutih                The act of praise
683  stotaa               One who adores or praises
684  ranapriyah        Lover of battles
685  poornah           The complete
686  poorayitaa        The fulfiller
687  punyah             The truly holy
688  punya-keertir    Of Holy fame
689  anaamayah      One who has no diseases


679  स्तव्यः         जिनकी सब स्तुति करते हैं लेकिन स्वयं किसीकी स्तुति नहीं करते
680  स्तवप्रियः     जिनकी सभी स्तुति करते हैं
681  स्तोत्रम्        वह गुण कीर्तन हैं जिससे उन्ही की स्तुति की जाती है
682  स्तुतिः         स्तवन क्रिया
683  स्तोता         सर्वरूप होने के कारण स्तुति करने वाले भी स्वयं हैं 

684  रणप्रियः      जिन्हे रण प्रिय है
685  पूर्णः           जो समस्त कामनाओं और शक्तियों से संपन्न हैं
686  पूरयिता      जो केवल पूर्ण ही नहीं हैं बल्कि सबको संपत्ति से पूर्ण करने भी वाले हैं
687  पुण्यः         स्मरण मात्र से पापों का क्षय करने वाले हैं
688  पुण्यकीर्तिः  जिनकी कीर्ति मनुष्यों को पुण्य प्रदान करने वाली है
689  अनामयः    जो व्याधियों से पीड़ित नहीं होते


 
manōjavastīrthakarō vasuretā vasupradaḥ |
vasupradō vāsudevō vasurvasumanā haviḥ || 74 ||  


690  manojavah     Swift as the mind
691  teerthakaro    The teacher of the tirthas
692  vasuretaah     He whose essence is golden
693  vasupradah    The free-giver of wealth
694  vasupradah    The giver of salvation, the greatest wealth
695  vaasudevo     The son of Vasudeva
696  vasuh             The refuge for all
697  vasumanaa    One who is attentive to everything
698  havih              The oblation


690  मनोजवः    जिनका मन वेग समान तीव्र है 
691  तीर्थकरः    जो चौदह विद्याओं  और वेद विद्याओं के कर्ता तथा वक्ता हैं
692  वसुरेताः     स्वर्ण जिनका वीर्य है
693  वसुप्रदः     जो खुले हाथ से धन देते हैं
694  वसुप्रदः     जो भक्तों को मोक्षरूप उत्कृष्ट फल देते हैं
695  वासुदेवः    वासुदेवजी के पुत्र
696  वसुः         जिनमे सब भूत बसते हैं
697  वसुमना    जो समस्त पदार्थों में सामान्य भाव से बसते हैं
698  हविः        जो ब्रह्म को अर्पण किया जाता है


 
sadgatiḥ satkṛtiḥ sattā sadbhūtiḥ satparāyaṇaḥ |
śūrasenō yaduśreṣṭhaḥ sannivāsaḥ suyāmunaḥ || 75 ||


699  sadgatih              The goal of good people
700  satkritih               One who is full of Good actions
701  satta                    One without a second
702  sadbhootih          One who has rich glories
703  satparaayanah   The Supreme goal for the good
704  shoorasenah      One who has heroic and valiant armies
705  yadu-shresthah  The best among the Yadava clan
706  sannivaasah      The abode of the good
707  suyaamunah     One who attended by the people dwelling on the banks of Yamuna


699  सद्गतिः       जिनकी गति यानी बुद्धि श्रेष्ठ है
700  सत्कृतिः     जिनकी जगत की उत्पत्ति आदि कृति श्रेष्ठ है
701  सत्ता          सजातीय, विजातीय भेद से रहित अनुभूति हैं
702  सद्भूतिः    जो अबाधित और बहुत प्रकार से भासित हैं
703  सत्परायणः सत्पुरुषों के श्रेष्ठ स्थान हैं
704  शूरसेनः     जिनकी सेना शूरवीर है और हनुमान जैसे शूरवीर उनकी सेना में हैं
705  यदुश्रेष्ठः     यदुवंशियों में प्रधान हैं
706  सन्निवासः   विद्वानों के आश्रय है
707  सुयामुनः    जिनके यामुन अर्थात यमुना सम्बन्धी सुन्दर हैं


 
bhūtāvāsō vāsudevaḥ sarvāsunilayōnalaḥ |
darpahā darpadō dṛptō durdharōthāparājitaḥ || 76 ||  


708  bhootaavaaso    The dwelling place of the elements
709  vaasudevah       One who envelops the world with Maya
710  sarvaasunilayah The abode of all life energies
711  analah                One of unlimited wealth, power and glory
712  darpahaa            The destroyer of pride in evil-minded people
713  darpadah           One who creates pride, or an urge to be the best, among the righteous
714  driptah                One who is drunk with Infinite bliss
715  durdharah           The object of contemplation
716  athaaparaajitah   The unvanquished


708  भूतावासः        जिनमे सर्व भूत मुख्य रूप से निवास करते हैं
709  वासुदेवः         जगत को माया से आच्छादित करते हैं और देव भी हैं
710  सर्वासुनिलयः   सम्पूर्ण प्राण जिस जीवरूप आश्रय में लीन हो जाते हैं
711  अनलः            जिनकी शक्ति और संपत्ति की समाप्ति नहीं है
712  दर्पहा             धर्मविरुद्ध मार्ग में रहने वालों का दर्प नष्ट करते हैं
713  दर्पदः             धर्म मार्ग में रहने वालों को दर्प(गर्व) देते हैं
714  दृप्तः           अपने आत्मारूप अमृत का आखादन करने के कारण नित्य प्रमुदित रहते हैं 

715  दुर्धरः              जिन्हे बड़ी कठिनता से धारण किया जा सकता है
716  अथापराजितः   जो किसी से पराजित नहीं होते


 
viśvamūrtirmahāmūrtirdīptamūrtiramūrtimān |
anekamūrtiravyaktaḥ śatamūrtiḥ śatānanaḥ || 77 ||  


717  vishvamoortih    Of the form of the entire Universe
718  mahaamortir      The great form
719  deeptamoortir    Of resplendent form
720  a-moortirmaan   Having no form
721  anekamoortih     Multi-formed
722  avyaktah            Unmanifeset
723  shatamoortih     Of many forms
724  shataananah     Many-faced


717  विश्वमूर्तिः    विश्व जिनकी मूर्ति है
718  महामूर्तिः    जिनकी मूर्ति बहुत बड़ी है
719  दीप्तमूर्तिः   जिनकी मूर्ति दीप्तमति है 
720  अमूर्तिमान्  जिनकी कोई कर्मजन्य मूर्ति नहीं है
721  अनेकमूर्तिः अवतारों में लोकों का उपकार करने वाली अनेकों मूर्तियां धारण करते हैं
722  अव्यक्तः     जो व्यक्त नहीं होते
723  शतमूर्तिः     जिनकी विकल्पजन्य अनेक मूर्तियां हैं
724  शताननः     जो सैंकड़ों मुख वाले है


 
ekō naikaḥ savaḥ kaḥ kiṁ yattatpadamanuttamam |
lōkabandhurlōkanāthō mādhavō bhaktavatsalaḥ || 78 ||  


725  ekah       The one
726  naikah    The many
727  savah     The nature of the sacrifice
728  kah         One who is of the nature of bliss
729  kim         What (the one to be inquired into)
730  yat          Which
731  tat          That
732  padam-anuttamam   The unequalled state of perfection
733  lokabandhur              Friend of the world
734  lokanaathah              Lord of the world
735  maadhavah               Born in the family of Madhu
736  bhaktavatsalah         One who loves His devotees


725  एकः  जो सजातीय, विजातीय और बाकी भेदों से शून्य हैं 
726  नैकः  जिनके माया से अनेक रूप हैं 
727  सवः   वो यज्ञ हैं जिससे सोम निकाला जाता है
728  कः    सुखस्वरूप
729  किम्  जो विचार करने योग्य है
730  यत्    जिनसे सब भूत उत्पन्न होते हैं
731  तत्    जो विस्तार करता है
732  पदमनुत्तमम्  वह पद हैं और उनसे श्रेष्ठ कोई नहीं है इसलिए अनुत्तम भी हैं
733  लोकबन्धुः     जिनमे सब लोक बंधे रहते हैं
734  लोकनाथः     जो लोकों से याचना किये जाते हैं और उनपर शासन करते हैं
735  माधवः         मधुवंश में उत्पन्न होने वाले हैं
736  भक्तवत्सलः  जो भक्तों के प्रति स्नेहयुक्त हैं


 
suvarṇavarṇō hemāṅgō varāṅgaścandanāṅgadī |
vīrahā viṣamaḥ śūnyō ghṛtāśīracalaścalaḥ || 79 ||


737  suvarna-varnah        Golden-coloured
738  hemaangah              One who has limbs of gold
739  varaangah                With beautiful limbs
740  chandanaangadee   One who has attractive armlets
741  veerahaa                  Destroyer of valiant heroes
742  vishama                    Unequalled
743  shoonyah                 The void
744  ghritaaseeh              One who has no need for good wishes
745  acalah                      Non-moving
746  chalah                      Moving


737  सुवर्णवर्णः      जिनका वर्ण सुवर्ण के समान है
738  हेमांगः          जिनका शरीर हेम(सुवर्ण) के समान है 
739  वरांगः           जिनके अंग वर (सुन्दर) हैं
740  चन्दनांगदी     जो चंदनों और अंगदों(भुजबन्द) से विभूषित हैं
741  वीरहा           धर्म की रक्षा के लिए दैत्यवीरों का हनन करने वाले हैं
742  विषमः          जिनके समान कोई नहीं है
743  शून्यः            जो समस्त विशेषों से रहित होने के कारण शून्य के समान हैं
744  घृताशी          जिनकी आशिष घृत यानी विगलित हैं
745  अचलः          जो किसी भी तरह से विचलित नहीं होते
746  चलः             जो वायुरूप से चलते हैं


 
amānī mānadō mānyō lōkasvāmī trilōkadhṛt |
sumedhā medhajō dhanyaḥ satyamedhā dharādharaḥ || 80 ||  


747  amaanee      Without false vanity
748  maanadah   One who causes, by His maya, false identification with the body
749  maanyah       One who is to be honoured
750  lokasvaamee Lord of the universe
751  trilokadhrik    One who is the support of all the three worlds
752  sumedhaa     One who has pure intelligence
753  medhajah      Born out of sacrifices
754  dhanyah        Fortunate
755  satyamedhah    One whose intelligence never fails
756  dharaadharah    The sole support of the earth


747  अमानी       जिन्हे अनात्म वस्तुओं में आत्माभिमान नहीं है
748  मानदः        जो भक्तों को आदर मान देते हैं
749  मान्यः         जो सबके माननीय पूजनीय हैं
750  लोकस्वामी  चौदहों लोकों के स्वामी हैं
751  त्रिलोकधृक्  तीनों लोकों को धारण करने वाले हैं
752  सुमेधा         जिनकी मेधा अर्थात प्रज्ञा सुन्दर है
753  मेधजः         मेध अर्थात यज्ञ में उत्पन्न होने वाले हैं
754  धन्यः           कृतार्थ हैं
755  सत्यमेधः      जिनकी मेधा सत्य है
756  धराधरः       जो अपने सम्पूर्ण अंशों से पृथ्वी को धारण करते हैं


 
tejōvṛṣō dyutidharaḥ sarvaśastrabhṛtāṁ varaḥ |
pragrahō nigrahō vyagrō naikaśṛṅgō gadāgrajaḥ || 81 ||


757  tejovrisho        One who showers radiance
758  dyutidharah    One who bears an effulgent form
759  sarva-shastra-bhritaam-varah  The best among those who wield weapons
760  pragrahah       Receiver of worship
761  nigrahah         The killer
762  vyagrah          One who is ever engaged in fulfilling the devotee's desires
763  naikashringah One who has many horns
764  gadaagrajah   One who is invoked through mantra


757  तेजोवृषः    आदित्यरूप से सदा तेज की वर्षा करते हैं
758  द्युतिधरः   द्युति को धारण करने वाले हैं
759  सर्वशस्त्रभृतां वरः  समस्त शस्त्रधारियों में श्रेष्ठ
760  प्रग्रहः        भक्तों द्वारा समर्पित किये हुए पुष्पादि ग्रहण करने वाले हैं
761  निग्रहः       अपने अधीन करके सबका निग्रह करते हैं
762  व्यग्रः         जिनका नाश नहीं होता
763  नैकशृंगः     चार सींगवाले हैं
764  गदाग्रजः    मंत्र से पहले ही प्रकट होते हैं


 
caturmūrtiścaturbāhuścaturvyūhaścaturgatiḥ |
caturātmā caturbhāvaścaturvedavidekapāt || 82 ||  


765  chaturmoortih    Four-formed
766  chaturbaahuh    Four-handed
767  chaturvyoohah  One who expresses Himself as the dynamic centre in the four vyoohas
768  chaturgatih        The ultimate goal of all four varnas and asramas
769  chaturaatmaa    Clear-minded
770  chaturbhaavas   The source of the four
771  chatur-vedavid   Knower of all four vedas
772  ekapaat              One-footed (BG 10.42)


765  चतुर्मूर्तिः     जिनकी चार मूर्तियां हैं
766  चतुर्बाहुः     जिनकी चार भुजाएं हैं
767  चतुर्व्यूहः     जिनके चार व्यूह हैं
768  चतुर्गतिः     जिनके चार आश्रम और चार वर्णों की गति है
769  चतुरात्मा     राग द्वेष से रहित जिनका मन चतुर है
770  चतुर्भावः     जिनसे धर्म,अर्थ,काम और मोक्ष पैदा होते हैं
771  चतुर्वेदविद्  चारों वेदों को जानने वाले
772  एकपात्      जिनका एक पाद है


 
samāvartō nivṛttātmā durjayō duratikramaḥ |
durlabhō durgamō durgō durāvāsō durārihā || 83 ||  


773  samaavartah    The efficient turner
774  nivrittaatmaa    One whose mind is turned away from sense indulgence
775  durjayah           The invincible
776  duratikramah    One who is difficult to be disobeyed
777  durlabhah         One who can be obtained with great efforts
778  durgamah         One who is realised with great effort
779  durgah              Not easy to storm into
780  duraavaasah    Not easy to lodge
781  duraarihaa       Slayer of the asuras


773  समावर्तः     संसार चक्र को भली प्रकार घुमाने वाले हैं
774  निवृत्तात्मा   जिनका मन विषयों से निवृत्त है
775  दुर्जयः        जो किसी से जीते नहीं जा सकते
776  दुरतिक्रमः   जिनकी आज्ञा का उल्लंघन सूर्यादि भी नहीं कर सकते
777  दुर्लभः        दुर्लभ भक्ति से प्राप्त होने वाले हैं
778  दुर्गमः         कठिनता से जाने जाते हैं
779  दुर्गः           कई विघ्नों से आहत हुए पुरुषों द्वारा कठिनता से प्राप्त किये जाते हैं
780  दुरावासः     जिन्हे बड़ी कठिनता से चित्त में बसाया जाता है
781  दुरारिहा      दुष्ट मार्ग में चलने वालों को मारते हैं


 
śubhāṅgō lōkasāraṅgaḥ sutantustantuvardhanaḥ |
indrakarmā mahākarmā kṛtakarmā kṛtāgamaḥ || 84 ||  


782  shubhaangah    One with enchanting limbs
783  lokasaarangah  One who understands the universe
784  sutantuh            Beautifully expanded
785 tantu-vardhanah One who sustains the continuity of the drive for the family
786  indrakarmaa      One who always performs gloriously auspicious actions
787  mahaakarmaa   One who accomplishes great acts
788  kritakarmaa       One who has fulfilled his acts
789  kritaagamah      Author of the Vedas


782  शुभांगः       सुन्दर अंगों से ध्यान किये जाते हैं
783  लोकसारंगः  लोकों के सार हैं
784  सुतन्तुः        जिनका तंतु - यह विस्तृत जगत सुन्दर हैं
785  तन्तुवर्धनः    उसी तंतु को बढ़ाते या काटते हैं
786  इन्द्रकर्मा     जिनका कर्म इंद्र के कर्म के समान ही है
787  महाकर्मा     जिनके कर्म महान हैं
788  कृतकर्मा     जिन्होंने धर्म रूप कर्म किया है
789  कृतागमः     जिन्होंने वेदरूप आगम बनाया है


 
udbhavaḥ sundaraḥ sundō ratnanābhaḥ sulōcanaḥ |
arkō vājasanaḥ śṛṅgī jayantaḥ sarvavijjayī || 85 ||


790  udbhavah         The ultimate source
791  sundarah          Of unrivalled beauty
792  sundah             Of great mercy
793  ratna-naabhah Of beautiful navel
794  sulochanah      One who has the most enchanting eyes
795  arkah               One who is in the form of the sun
796  vaajasanah      The giver of food
797  shringee           The horned one
798  jayantah           The conqueror of all enemies
799  sarvavij-jayee   One who is at once omniscient and victorious


790  उद्भवः       जिनका जन्म नहीं होता
791  सुन्दरः       विश्व से बढ़कर सौभाग्यशाली
792  सुन्दः         शुभ उंदन (आर्द्रभाव) करते हैं
793  रत्ननाभः     जिनकी नाभि रत्न के समान सुन्दर है
794  सुलोचनः    जिनके लोचन सुन्दर हैं
795  अर्कः         ब्रह्मा आदि पूजनीयों के भी पूजनीय हैं
796  वाजसनः    याचकों को वाज(अन्न) देते हैं
797  शृंगी          प्रलय समुद्र में सींगवाले मत्स्यविशेष का रूप धारण करने वाले हैं
798  जयन्तः      शत्रुओं को अतिशय से जीतने वाले हैं
799  सर्वविज्जयी जो सर्ववित हैं और जयी हैं 


 
suvarṇabindurakṣōbhyaḥ sarvavāgīśvareśvaraḥ |
mahāhradō mahāgartō mahābhūtō mahānidhiḥ || 86 ||  


800  suvarna-binduh    With limbs radiant like gold
801  akshobhyah         One who is ever unruffled
802  sarva-vaageeshvareshvarah    Lord of the Lord of speech
803  mahaahradah      One who is like a great refreshing swimming pool
804  mahaagartah       The great chasm
805  mahaabhootah    The great being
806  mahaanidhih       The great abode


800  सुवर्णबिन्दुः       जिनके अवयव सुवर्ण के समान हैं
801  अक्षोभ्यः           जो राग द्वेषादि और देवशत्रुओं से क्षोभित नहीं होते
802  सर्ववागीश्वरेश्वरः  ब्रह्मादि समस्त वागीश्वरों के भी इश्वर हैं
803  महाहृदः           एक बड़े सरोवर समान हैं
804  महागर्तः           जिनकी माया गर्त (गड्ढे) के समान दुस्तर है
805  महाभूतः           तीनों काल से अनवच्छिन्न (विभाग रहित) स्वरुप हैं
806  महानिधिः         जो महान हैं और निधि भी हैं


 
kumudaḥ kundaraḥ kundaḥ parjanyaḥ pāvanōnilaḥ
amṛtāśōmṛtavapuḥ sarvajñaḥ sarvatōmukhaḥ || 87 ||


807  kumudah      One who gladdens the earth
808  kundarah      The one who lifted the earth
809  kundah         One who is as attractive as Kunda flowers
810  parjanyah     He who is similar to rain-bearing clouds
811  paavanah     One who ever purifies
812  anilah           One who never slips
813  amritaashah One whose desires are never fruitless
814  amritavapuh He whose form is immortal
815  sarvajna       Omniscient
816  sarvato-mukhah    One who has His face turned everywhere


807  कुमुदः       कु (पृथ्वी) को उसका भार उतारते हुए मोदित करते हैं 
808  कुन्दरः      कुंद पुष्प के समान शुद्ध फल देते हैं
809  कुन्दः        कुंद के समान सुन्दर अंगवाले हैं
810  पर्जन्यः      पर्जन्य (मेघ) के समान कामनाओं को वर्षा करने वाले हैं
811  पावनः       स्मरणमात्र से पवित्र करने वाले हैं
812  अनिलः      जो इल (प्रेरणा करने वाला) से रहित हैं
813  अमृतांशः   अमृत का भोग करने वाले हैं
814  अमृतवपुः   जिनका शरीर मरण से रहित है
815  सर्वज्ञः        जो सब कुछ जानते हैं
816  सर्वतोमुखः  सब ओर नेत्र, शिर और मुख वाले हैं  


 
sulabhaḥ suvrataḥ siddhaḥ śatrujicchatrutāpanaḥ |
nyagrōdhōdumbarōśvatthaścāṇūrāndhraniṣūdanaḥ || 88 ||


817  sulabhah            One who is readily available
818  suvratah             One who has taken the most auspicious forms
819  siddhah              One who is perfection
820  shatrujit              One who is ever victorious over His hosts of enemies
821  shatrutaapanah  The scorcher of enemies
822  nyagrodhah        The one who veils Himself with Maya
823  udumbarah         Nourishment of all living creatures
824  ashvattas           Tree of life
825  chaanooraandhra-nishoodanah    The slayer of Canura


817  सुलभः               केवल समर्पित भक्ति से सुखपूर्वक मिल जाने वाले हैं
818  सुव्रतः                जो सुन्दर व्रत(भोजन) करते हैं
819  सिद्धः                जिनकी सिद्धि दूसरे के अधीन नहीं है
820  शत्रुजित्             देवताओं के शत्रुओं को जीतने वाले हैं
821  शत्रुतापनः          देवताओं के शत्रुओं को तपानेवाले हैं
822  न्यग्रोधः              जो नीचे की ओर उगते हैं और सबके ऊपर विराजमान हैं
823  उदुम्बरः            अम्बर से भी ऊपर हैं
824  अश्वत्थः              श्व अर्थात कल भी रहनेवाला नहीं है
825  चाणूरान्ध्रनिषूदनः चाणूर नामक अन्ध्र जाति के वीर को मारने वाले हैं


 
sahasrārciḥ saptajihvaḥ saptaidhāḥ saptavāhanaḥ |
amūrtiranaghōcintyō bhayakṛdbhayanāśanaḥ || 89 ||


826  sahasraarchih    He who has thousands of rays
827 saptajihvah       He who expresses himself as the seven tongues of fire (Types of agni)
828  saptaidhaah       The seven effulgences in the flames
829  saptavaahanah  One who has a vehicle of seven horses (sun)
830  amoortih             Formless
831  anaghah             Sinless
832  acintyo                Inconceivable
833  bhayakrit            Giver of fear
834  bhayanaashanah Destroyer of fear


826  सहस्रार्चिः     जिनकी सहस्र अर्चियाँ (किरणें) हैं
827  सप्तजिह्वः     उनकी अग्निरूपी सात जिह्वाएँ हैं
828  सप्तैधाः        जिनकी सात ऐधाएँ हैं अर्थात दीप्तियाँ हैं
829  सप्तवाहनः    सात घोड़े(सूर्यरूप) जिनके वाहन हैं
830  अमूर्तिः         जो मूर्तिहीन हैं 
831  अनघः          जिनमे अघ(दुःख) या पाप नहीं है
832  अचिन्त्यः       सब प्रमाणों के अविषय हैं
833  भयकृत्        भक्तों का भय काटने वाले हैं
834  भयनाशनः    धर्म का पालन करने वालों का भय नष्ट करने वाले हैं


 
aṇurbṛhatkṛśaḥ sthūlō guṇabhṛnnirguṇō mahān |
adhṛtassvadhṛtasvāsyaḥ prāgvaṁśō vaṁśavardhanaḥ || 90 ||  


835  anuh           The subtlest
836  brihat          The greatest
837  krishah       Delicate, lean
838  sthoolah     One who is the fattest
839  gunabhrit    One who supports
840  nirgunah     Without any properties
841  mahaan      The mighty
842  adhritah      Without support
843  svadhritah   Self-supported
844  svaasyah    One who has an effulgent face
845  praagvamshah         One who has the most ancient ancestry
846  vamshavardhanah    He who multiplies His family of descendents


835  अणुः     जो अत्यंत सूक्ष्म हैं
836  बृहत्     जो महान से भी अत्यंत महान हैं
837  कृशः     जो अस्थूल हैं
838  स्थूलः     जो सर्वात्मक हैं
839  गुणभृत्   जो सत्व, रज और तम गुणों के अधिष्ठाता हैं
840  निर्गुणः    जिनमे गुणों का अभाव है
841  महान्     जो अंग, शब्द, शरीर और स्पर्श से रहित हैं और महान हैं
842  अधृतः    जो किसी से भी धारण नहीं किये जाते
843  स्वधृतः   जो स्वयं अपने आपसे ही धारण किये जाते हैं
844  स्वास्यः   जिनका ताम्रवर्ण मुख अत्यंत सुन्दर है
845  प्राग्वंशः   जिनका वंश सबसे पहले हुआ है
846  वंशवर्धनः अपने वंशरूप प्रपंच को बढ़ाने अथवा नष्ट करने वाले हैं


 
bhārabhṛt kathitō yōgī yōgīśaḥ sarvakāmadaḥ |
āśramaḥ śramaṇaḥ, kṣāmaḥ suparṇō vāyuvāhanaḥ || 91 ||  


847  bhaarabhrit         One who carries the load of the universe
848  kathitah               One who is glorified in all scriptures
849  yogee                  One who can be realised through yoga
850  yogeeshah           The king of yogis
851  sarvakaamadah   One who fulfils all desires of true devotees
852  aashramah           Haven
853  shramanah           One who persecutes the worldly people
854  kshaamah            One who destroys everything
855  suparnah              The golden leaf (Vedas) BG 15.1
856  vaayuvaahanah    The mover of the winds


847  भारभृत्       अनंतादिरूप से पृथ्वी का भार उठाने वाले हैं
848  कथितः        सम्पूर्ण वेदों में जिनका कथन है 

849  योगी           योग ज्ञान को कहते हैं उसी से प्राप्त होने वाले हैं
850  योगीशः       जो अंतरायरहित हैं
851  सर्वकामदः   जो सब कामनाएं देते हैं
852  आश्रमः        जो समस्त भटकते हुए पुरुषों के लिए आश्रम के समान हैं
853  श्रमणः         जो समस्त अविवेकियों को संतप्त करते हैं
854  क्षामः          जो सम्पूर्ण प्रजा को क्षाम अर्थात क्षीण करते हैं
855  सुपर्णः         जो संसारवृक्षरूप हैं और जिनके छंद रूप सुन्दर पत्ते हैं
856  वायुवाहनः    जिनके भय से वायु चलती है


 
dhanurdharō dhanurvedō daṅḍō damayitā damaḥ |
aparājitassarvasahō niyantā niyamō yamaḥ || 92 ||  


857  dhanurdharah    The wielder of the bow
858  dhanurvedah     One who declared the science of archery
859  dandah              One who punishes the wicked
860  damayitaa         The controller
861  damah               Beautitude in the self
862  aparaajitah        One who cannot be defeated
863  sarvasahah       One who carries the entire Universe
864  aniyantaa          One who has no controller
865  niyamah            One who is not under anyone's laws
866  ayamah             One who knows no death


857  धनुर्धरः      जिन्होंने राम के रूप में महान धनुष धारण किया था
858  धनुर्वेदः      जो दशरथकुमार धनुर्वेद जानते हैं
859  दण्डः        जो दमन करनेवालों के लिए दंड हैं 

860  दमयिता    जो यम और राजा के रूप में प्रजा का दमन करते हैं
861  दमः          दण्डकार्य और उसका फल दम
862  अपराजितः जो शत्रुओं से पराजित नहीं होते 

863  सर्वसहः     समस्त कर्मों में समर्थ हैं
864  अनियन्ता   सबको अपने अपने कार्य में नियुक्त करते हैं
865  नियमः       जिनके लिए कोई नियम नहीं है
866  अयमः       जिनके लिए कोई यम अर्थात मृत्यु नहीं है


 
sattvavān sāttvikaḥ satyaḥ satyadharmaparāyaṇaḥ |
abhiprāyaḥ priyārhōrhaḥ priyakṛt pritivardhanaḥ || 93 ||


867  sattvavaan         One who is full of exploits and courage
868  saattvikah          One who is full of sattvic qualities
869  satyah                Truth
870 satya-dharma-paraayanah One who is the very abode of truth and dharma
871  abhipraayah       One who is faced by all seekers marching to the infinite
872  priyaarhah          One who deserves all our love
873  arhah                  One who deserves to be worshiped
874  priyakrit              One who is ever-obliging in fulfilling our wishes
875  preetivardhanah One who increases joy in the devotee's heart


867  सत्त्ववान्             जिनमे शूरता-पराक्रम आदि सत्व हैं
868  सात्त्विकः            जिनमे सत्वगुण प्रधानता से स्थित है
869  सत्यः                 सभी चीनों में साधू हैं
870  सत्यधर्मपरायणः   जो सत्य हैं और धर्मपरायण भी हैं  
871  अभिप्रायः           प्रलय के समय संसार जिनके सम्मुख जाता है   
872  प्रियार्हः              जो प्रिय ईष्ट वस्तु निवेदन करने योग्य है
873  अर्हः                 जो पूजा के साधनों से पूजनीय हैं
874  प्रियकृत्            जो स्तुतिआदि के द्वारा भजने वालों का प्रिय करते हैं
875  प्रीतिवर्धनः         जो भजने वालों की प्रीति भी बढ़ाते हैं


 
vihāyasagatirjyōtiḥ surucirhutabhugvibhuḥ |
ravirvirōcanaḥ sūryaḥ savitā ravilōcanaḥ || 94 ||


876  vihaayasa-gatih    One who travels in space
877  jyotih                     Self-effulgent
878  suruchih                Whose desire manifests as the universe
879  hutabhuk               One who enjoys all that is offered in yajna
880  vibhuh                   All-pervading
881  ravi                       One who dries up everything
882  virochanah           One who shines in different forms
883  sooryah                The one source from where everything is born
884  savitaa                 The one who brings forth the Universe from Himself
885  ravilochanah        One whose eye is the sun


876  विहायसगतिः   जिनकी गति अर्थात आश्रय आकाश है    
877  ज्योतिः           जो स्वयं ही प्रकाशित होते हैं
878  सुरुचिः           जिनकी रुचि सुन्दर है
879  हुतभुक्          जो यज्ञ की आहुतियों को भोगते हैं
880  विभुः              जो सर्वत्र वर्तमान हैं और तीनों लोकों के प्रभु हैं
881  रविः               जो रसों को ग्रहण करते हैं
882  विरोचनः          जो विविध प्रकार से सुशोभित होते हैं
883  सूर्यः               जो श्री(शोभा) को जन्म देते हैं
884  सविता            सम्पूर्ण जगत का प्रसव(उत्पत्ति) करने वाले हैं 

885  रविलोचनः       रवि जिनका लोचन अर्थात नेत्र हैं

 
anantō hutabhugbhōktā sukhadō naikajōgrajaḥ |
anirviṇṇaḥ sadāmarṣī lōkādhiṣṭhānamadbhutaḥ || 95 ||  


886  anantah      Endless
887  hutabhuk    One who accepts oblations
888  bhoktaaA    One who enjoys
889  sukhadah   Giver of bliss to those who are liberated
890  naikajah      One who is born many times
891  agrajah       The first-born
892  anirvinnah   One who feels no disappointment
893  sadaamarshee           One who forgives the trespasses of His devotees
894  lokaadhishthaanam    The substratum of the universe
895  adbhutah                    Wonderful


886  अनन्तः       जिनमे नित्य, सर्वगत और देशकालपरिच्छेद का अभाव है 
887  हुतभुक्      जो हवन किये हुए को भोगते हैं
888  भोक्ता        जो जगत का पालन करते हैं
889  सुखदः        जो भक्तों को मोक्षरूप सुख देते हैं
890  नैकजः        जो धर्मरक्षा के लिए बारबार जन्म लेते हैं
891  अग्रजः        जो सबसे आगे उत्पन्न होता है
892  अनिर्विण्णः  जिन्हे सर्वकामनाएँ प्राप्त होनेकारण अप्राप्ति का खेद नहीं है
893  सदामर्षी     साधुओं को अपने सम्मुख क्षमा करते हैं
894  लोकाधिष्ठानम्  जिनके आश्रय से तीनों लोक स्थित हैं
895  अद्भुतः          जो अपने स्वरुप, शक्ति, व्यापार और कार्य में अद्भुत है


 
sanātsanātanatamaḥ kapilaḥ kapiravyayaḥ |
svastidaḥ svastikṛt svasti svastibhuk svastidakṣiṇaḥ || 96 ||  


896  sanaat                    The beginningless and endless factor
897  sanaatanatamah    The most ancient
898  kapilah                   The great sage Kapila
899  kapih                      One who drinks water
900  avyayah                 The one in whom the universe merges
901  svastidah               Giver of Svasti
902  svastikrit                One who robs all auspiciousness
903  svasti                     One who is the source of all auspiciouness
904  svastibhuk             One who constantly enjoys auspiciousness
905  svastidakshinah     Distributor of auspiciousness


896  सनात्                काल भी जिनका एक विकल्प ही है
897  सनातनतमः        जो ब्रह्मादि सनतानों से भी अत्यंत सनातन हैं
898  कपिलः              बडवानलरूप में जिनका वर्ण कपिल है    
899  कपिः                 जो सूर्यरूप में जल को अपनी किरणों से पीते हैं
900  अव्ययः              प्रलयकाल में जगत में विलीन होते हैं
901  स्वस्तिदः            भक्तों को स्वस्ति अर्थात मंगल देते हैं
902  स्वस्तिकृत्          जो स्वस्ति ही करते हैं
903  स्वस्ति               जो परमानन्दस्वरूप हैं
904  स्वस्तिभुक्         जो स्वस्ति भोगते हैं और भक्तों की स्वस्ति की रक्षा करते हैं
905  स्वस्तिदक्षिणः      जो स्वस्ति करने में समर्थ हैं


 
araudraḥ kunḍalī cakrī vikramyūrjitaśāsanaḥ |
śabdātigaḥ śabdasahaḥ śiśiraḥ śarvarīkaraḥ || 97 ||  


906  araudrah    One who has no negative emotions or urges
907  kundalee    One who wears shark earrings
908  chakree      Holder of the chakra
909  vikramee    The most daring
910  oorjita-shaasanah    One who commands with His hand
911  shabdaatigah           One who transcends all words
912 shabdasahah One who allows Himself to be invoked by Vedic declarations
913  shishirah       The cold season, winter
914  sharvaree-karah      Creator of darkness


906  अरौद्रः     कर्म, राग और कोप जिनमे ये तीनों रौद्र नहीं हैं
907  कुण्डली   सूर्यमण्डल के समान कुण्डल धारण किये हुए हैं
908  चक्री        सम्पूर्ण लोकों की रक्षा के लिए मनस्तत्त्वरूप सुदर्शन चक्र धारण किया है
909  विक्रमी     जिनका डग तथा शूरवीरता समस्त पुरुषों से विलक्षण है
910  ऊर्जितशासनः  जिनका श्रुति-स्मृतिस्वरूप शासन अत्यंत उत्कृष्ट है 

911  शब्दातिगः       जो शब्द से कहे नहीं जा सकते
912  शब्दसहः        समस्त वेद तात्पर्यरूप से जिनका वर्णन करते हैं
913  शिशिरः          जो तापत्रय से तपे हुओं के लिए विश्राम का स्थान हैं
914  शर्वरीकरः       ज्ञानी-अज्ञानी दोनों की शर्वरीयों (रात्रि) के करने वाले हैं


 
akrūraḥ peśalō dakṣō dakṣiṇaḥ, kṣamiṇāṁ varaḥ |
vidvattamō vītabhayaḥ puṇyaśravaṇakīrtanaḥ || 98 ||  


915  akroorah                  Never cruel
916  peshalah                 One who is supremely soft
917  dakshah                  Prompt
918  dakshinah               The most liberal
919 kshaminaam-varah One who has the greatest amount of patience with sinners
920  vidvattamah            One who has the greatest wisdom
921  veetabhayah           One with no fear
922  punya-shravana-keertanah  The hearing of whose glory causes holiness to grow


915  अक्रूरः        जिनमे क्रूरता नहीं है
916  पेशलः        जो कर्म, मन, वाणी और शरीर से सुन्दर हैं 

917  दक्षः           बढ़ा-चढ़ा, शक्तिमान तथा शीघ्र कार्य करने वाला ये तीनों दक्ष जिनमे है
918  दक्षिणः       जो सब ओर जाते हैं और सबको मारते हैं
919  क्षमिणांवरः  जो क्षमा करने वाले योगियों आदि में श्रेष्ठ हैं
920  विद्वत्तमः     जिन्हे सब प्रकार का ज्ञान है और किसी को नहीं है 

921  वीतभयः     जिनका संसारिकरूप भय बीत(निवृत्त हो) गया है
922  पुण्यश्रवणकीर्तनः  जिनका श्रवण और कीर्तन पुण्यकारक है


 
uttāraṇō duṣkṛtihā puṇyō duḥsvapnanāśanaḥ |
vīrahā rakṣaṇassaṁtō jīvanaḥ paryavasthitaḥ || 99 ||  


923  uttaaranah      One who lifts us out of the ocean of change
924  dushkritihaa    Destroyer of bad actions
925  punyah            Supremely pure
926  duh-svapna-naashanah    One who destroys all bad dreams
927  veerahaa         One who ends the passage from womb to womb
928  rakshanah       Protector of the universe
929  santah             One who is expressed through saintly men
930  jeevanah         The life spark in all creatures
931  paryavasthitah One who dwells everywhere


923  उत्तारणः        संसार सागर से पार उतारने वाले हैं
924  दुष्कृतिहा       पापनाम की दुष्क्रितयों का हनन करने वाले हैं
925  पुण्यः            अपनी स्मृतिरूप वाणी से सबको पुण्य का उपदेश देने वाले हैं
926  दुःस्वप्ननाशनः  दुःस्वप्नों को नष्ट करने वाले हैं
927  वीरहा            संसारियों को मुक्ति देकर उनकी गतियों का हनन करने वाले हैं
928  रक्षणः            तीनों लोकों की रक्षा करने वाले हैं
929  सन्तः             सन्मार्ग पर चलने वाले संतरूप हैं
930  जीवनः           प्राणरूप से समस्त प्रजा को जीवित रखने वाले हैं
931  पर्यवस्थितः      विश्व को सब ओर से व्याप्त करके स्थित है 


 
anantarūpōnantaśrīrjitamanyurbhayāpahaḥ |
caturaśrō gabhīrātmā vidiśō vyādiśō diśaḥ || 100 ||


932  anantaroopah     One of infinite forms
933  anantashreeh     Full of infinite glories
934  jitamanyuh         One who has no anger
935  bhayapahah       One who destroys all fears
936  chaturashrah      One who deals squarely
937  gabheeraatmaa  Too deep to be fathomed
938  vidishah              One who is unique in His giving
939  vyaadishah         One who is unique in His commanding power
940  dishah                 One who advises and gives knowledge


932  अनन्तरूपः   जिनके रूप अनंत हैं
933  अनन्तश्रीः      जिनकी श्री अपरिमित है
934  जितमन्युः      जिन्होंने मन्यु अर्थात क्रोध को जीता है
935  भयापहः       पुरुषों का संस्कारजन्य भय नष्ट करने वाले हैं
936  चतुरश्रः        न्याययुक्त 

937  गभीरात्मा     जिनका मन गंभीर है
938  विदिशः        जो विविध प्रकार के फल देते हैं
939  व्यादिशः      इन्द्रादि को विविध प्रकार की आज्ञा देने वाले हैं
940  दिशः           सबको उनके कर्मों का फल देने वाले हैं


 
anādirbhūrbhuvō lakṣmīssuvīrō rucirāṅgadaḥ |
jananō janajanmādirbhīmō bhīmaparākramaḥ || 101 ||  


941  anaadih           One who is the first cause
942  bhoor-bhuvo    The substratum of the earth
943  lakshmeeh       The glory of the universe
944  suveerah         One who moves through various ways
945  ruchiraangadah            One who wears resplendent shoulder caps
946  jananah                        He who delivers all living creatures
947  jana-janmaadir             The cause of the birth of all creatures
948  bheemah                      Terrible form
949  bheema-paraakramah  One whose prowess is fearful to His enemies


941  अनादिः           जिनका कोई आदि नहीं है
942  भूर्भूवः             भूमि के भी आधार है
943  लक्ष्मीः             पृथ्वी की लक्ष्मी अर्थात शोभा हैं
944  सुवीरः             जो विविध प्रकार से सुन्दर स्फुरण करते हैं
945  रुचिरांगदः       जिनकी अंगद(भुजबन्द) कल्याणस्वरूप हैं
946  जननः             जंतुओं को उत्पन्न करने वाले हैं
947  जनजन्मादिः     जन्म लेनेवाले जीव की उत्पत्ति के कारण हैं
948  भीमः              भय के कारण हैं
949  भीमपराक्रमः    जिनका पराक्रम असुरों के भय का कारण होता है


 
ādhāranilayōdhātā puṣpahāsaḥ prajāgaraḥ |
ūrdhvagassatpathācāraḥ prāṇadaḥ praṇavaḥ paṇaḥ || 102 ||  


950  aadhaaranilayah    The fundamental sustainer
951  adhaataa                Above whom there is no other to command
952  pushpahaasah       He who shines like an opening flower
953  prajaagarah           Ever-awakened
954  oordhvagah           One who is on top of everything
955  satpathaachaarah One who walks the path of truth
956  praanadah             Giver of life
957  pranavah               Omkara

958  panah                    The supreme universal manager

950  आधारनिलयः   पृथ्वी आदि पंचभूत आधारों के भी आधार है
951  अधाता            जिनका कोई धाता(बनाने वाला) नहीं है
952  पुष्पहासः         पुष्पों के हास (खिलने)के समान जिनका प्रपंचरूप से विकास होता है
953  प्रजागरः           प्रकर्षरूप से जागने वाले हैं
954  ऊर्ध्वगः           सबसे ऊपर हैं
955  सत्पथाचारः      जो सत्पथ का आचरण करते हैं
956  प्राणदः            जो मरे हुओं को जीवित कर सकते हैं
957  प्रणवः             जिनके वाचक ॐ कार का नाम प्रणव है 

958  पणः               जो व्यवहार करने वाले हैं

 
pramāṇaṁ prāṇanilayaḥ prāṇabhṛt prāṇajīvanaḥ |
tattvaṁ tattvavidekātmā janmamṛtyujarātigaḥ || 103 ||


959  pramaanam           He whose form is the Vedas
960  praananilayah       He in whom all prana is established

961  praanibhrit             He who rules over all pranas
962  praanajeevanah    He who maintains the life-breath in all living creatures
963  tattvam                  The reality
964  tattvavit                 One who has realised the reality
965  ekaatmaa              The one self
966 janma-mrityu-jaraatigah One who knows no birth, death or old age in Himself


959  प्रमाणम्             जो स्वयं प्रमारूप हैं
960  प्राणनिलयः         जिनमे प्राण अर्थात इन्द्रियां लीन होती है
961  प्राणभृत्             जो अन्नरूप से प्राणों का पोषण करते हैं
962  प्राणजीवनः         प्राण नामक वायु से प्राणियों को जीवित रखते हैं 

963  तत्त्वम्                तथ्य, अमृत, सत्य ये सब शब्द जिनके वाचक हैं 
964  तत्त्वविद्             तत्व अर्थात स्वरुप को यथावत जानने वाले हैं
965  एकात्मा              जो एक आत्मा हैं
966  जन्ममृत्युजरातिगः जो न जन्म लेते हैं न मरते हैं


 
bhūrbhuvaḥsvastarustāraḥ savitā prapitāmahaḥ |
yajñō yajñapatiryajvā yajñāṅgō yajñavāhanaḥ || 104 ||  


967  bhoor-bhuvah svas-taruh  The tree of the three worlds (bhoo=terrestrial, svah=celestial and bhuvah=the world in between)
968  taarah                One who helps all to cross over
969  savitaa               The father of all
970  prapitaamahah  The father of the father of beings (Brahma)
971  yajnah               One whose very nature is yajna
972  yajnapatih         The Lord of all yajnas
973  yajvaa               The one who performs yajna
974  yajnaangah       One whose limbs are the things employed in yajna
975  yajnavaahanah One who fulfils yajnas in complete


967  भूर्भुवःस्वस्तरुः   भू,भुवः और स्वः जिनका सार है उनका होमादि करके प्रजा तरती है
968  तारः                संसार सागर से तारने वाले हैं
969  सविताः            सम्पूर्ण लोक के उत्पन्न करने वाले हैं
970  प्रपितामहः        पितामह ब्रह्मा के भी पिता है
971  यज्ञः                यज्ञरूप हैं
972  यज्ञपतिः           यज्ञों के स्वामी हैं 
973  यज्वा               जो यजमान रूप से स्थित हैं
974  यज्ञांगः             यज्ञ जिनके अंग हैं
975  यज्ञवाहनः         फल हेतु यज्ञों का वहन करने वाले हैं


 
yajñabhṛdyajñakṛdyajñī yajñabhugyajñasādhanaḥ |
yajñāntakṛdyajñaguhyamannamannāda eva ca || 105 ||  


976  yajnabhrid            The ruler of the yajanas
977  yajnakrit               One who performs yajna
978  yajnee                  Enjoyer of yajnas
979  yajnabhuk            Receiver of all that is offered
980  yajnasaadhanah  One who fulfils all yajnas
981  yajnaantakrit        One who performs the concluding act of the yajna
982  yajnaguhyam       The person to be realised by yajna
983  annam                 One who is food
984  annaadah            One who eats the food


976  यज्ञभृद्        यज्ञ को धारण कर उसकी रक्षा करने वाले हैं
977  यज्ञकृत्       जगत के आरम्भ और अंत में यज्ञ करते हैं
978  यज्ञी            अपने आराधनात्मक यज्ञों के शेषी हैं
979  यज्ञभुक्       यज्ञ को भोगने वाले हैं
980  यज्ञसाधनः    यज्ञ जिनकी प्राप्ति का साधन है
981  यज्ञान्तकृत्   यज्ञ के फल की प्राप्ति कराने वाले हैं 

982  यज्ञगुह्यम्     यज्ञ द्वारा प्राप्त होने वाले
983  अन्नम्         भूतों से खाये जाते हैं
984  अन्नादः       अन्न को खाने वाले हैं


 
ātmayōniḥ svayaṁjātō vaikhānaḥ sāmagāyanaḥ |
devakīnandanaḥ sraṣṭā kṣitīśaḥ pāpanāśanaḥ || 106 ||  


985  aatmayonih          The uncaused cause
986  svayamjaatah       Self-born
987  vaikhaanah           The one who cut through the earth
988  saamagaayanah   One who sings the sama songs; one who loves hearing saama chants;
989  devakee-nandanah  Son of Devaki
990  srashtaa                   Creator
991  kshiteeshah             The Lord of the earth
992  paapa-naashanah    Destroyer of sin


985  आत्मयोनिः       आत्मा ही योनि है इसलिए वे आत्मयोनि है
986  स्वयंजातः         निमित्त कारण भी वही हैं
987  वैखानः            जिन्होंने वराह रूप धारण करके पृथ्वी को खोदा था
988  सामगायनः       सामगान करने वाले है
989  देवकीनन्दनः    देवकी के पुत्र
990  स्रष्टा               सम्पूर्ण लोकों के रचयिता हैं
991  क्षितीशः          क्षिति अर्थात पृथ्वी के ईश (स्वामी) हैं
992  पापनाशनः      पापों का नाश करने वाले हैं


 
śaṅkhabhṛnnandakī cakrī śārṅgadhanvā gadādharaḥ |
rathāṅgapāṇirakṣōbhyaḥ sarvapraharaṇāyudhaḥ || 107 ||  


993   samkha-bhrit          One who has the divine Pancajanya
994   nandakee               One who holds the Nandaka sword

995   chakree                  Carrier of Sudarsana
996   shaarnga-dhanvaa One who aims His shaarnga bow
997   gadaadharah          Carrier of Kaumodaki club

998  rathaanga-paanih  One who has the wheel of a chariot as His weapon; One with the strings of the chariot in his hands;
999   akshobhyah           One who cannot be annoyed by anyone
1000 sarva-praharanaayudhah  He who has all implements for all kinds of assault and fight


993    शंखभृत्           जिन्होंने पांचजन्य नामक शंख धारण किया हुआ है
994    नन्दकी            जिनके पास विद्यामय नामक खडग है
995    चक्री               जिनकी आज्ञा से संसारचक्र चल रहा है
996    शार्ङ्गधन्वा        जिन्होंने शारंग नामक धनुष धारण किया है
997    गदाधरः           जिन्होंने कौमोदकी नामक गदा धारण किया हुआ है
998    रथांगपाणिः      जिनके हाथ में रथांग अर्थात चक्र है
999    अक्षोभ्यः          जिन्हे क्षोभित नहीं किया जा सकता
1000  सर्वप्रहरणायुधः प्रहार करने वाली सभी वस्तुएं जिनके आयुध हैं


 
vanamālī gadī śārṅgī śaṅkhī cakrī ca nandakī |
śrīmān nārāyaṇō viṣṇurvāsudevōbhirakṣatu || 108 ||(Chant this shloka 3 times)


Protect us Oh Lord Narayana
Who wears the forest garland,
Who has the mace, conch, sword and the wheel.
And who is called Vishnu and the Vasudeva. 


हे भगवान् नारायण हमारी रक्षा कीजिये 
वही विष्णु भगवान् जिन्होंने वनमाला पहनी है 
जिन्होंने गदा, शंख, खडग और चक्र धारण किया हुआ है 
वही विष्णु हैं और वही वासुदेव हैं

                                  Phala Shruti

                                     फल श्रुति





Vasudevaitīdaṁ kīrtanīyasya keśavasya mahātmanaḥ |
nāmnāṁ sahasraṁ divyānāmaśeṣeṇa prakīrtitam || 1 ||


Thus was told,
All the holy thousand names,
Of Kesava who is great. 


 भीष्म बोले 

इस प्रकार विष्णु जी के सहस्र नाम होते हैं

 
ya idaṁ śṛṇuyānnityaṁ yaścāpi parikīrtayet |
nāśubhaṁ prāpnuyāt kiñcit sōmutreha ca mānavaḥ || 2 ||


He who hears or sings,
It all without fail,
In all days of the year,
Will never get in to bad,
In this life and after. 


जो सदा नियमित होकर इसका पाठ सुनता है या जपता है
उसे जीवन में और मृत्यु के बाद भी कभी अशुभता नहीं देखनी पड़ती

 
vedāntagō brāhmaṇaḥ syāt kṣatriyō vijayī bhavet |
vaiśyō dhanasamṛddhaḥ syāt śūdrassukhamavāpnuyāt || 3 ||


The Brahmin will get knowledge,
The kshatriya will get victory,
The vaisya will get wealth,
The shudra will get pleasures,
By reading these. 


सहस्रनाम का श्रवण करने से 
ब्राह्मण विद्या पाता है, 
क्षत्रिय विजय पाता है, वैश्य धन पाता है और 
शूद्र सुख पाता है। 

 
dharmārthī prāpnuyāddharmam arthārthī cārthamāpnuyāt |
kāmānavāpnuyāt kāmī prajārthī cāpnuyāt prajām || 4 ||


He who seeks Dharma,
He who seeks wealth,
He who seeks pleasures,
He who seeks children,
Will all without fail,
Get what they want. 


सहस्रनाम का पाठ करने से 
जिसे धर्म चाहिए उसे धर्म मिलता है,
जिसे धन चाहिए उसे धन मिलता है,
जिसे सुख चाहिए उसे सुख मिलता है,
जिसे संतान चाहिए उसे संतान मिलती है।


 
 
 
bhaktimān yaḥ sadōtthāya śucistadgatamānasaḥ |
sahasraṁ vāsudevasya nāmnāmetat prakīrtayet || 5 ||
yaśaḥ prāpnōti vipulaṁ yāti prādhānyameva ca |
acalāṁ śriyamāpnōti śreyaḥ prāpnōtyanuttamam || 6 ||
na bhayaṁ kvacidāpnōti vīryaṁ tejaśca viṁdati |
bhavatyarōgō dyutimān balarūpaguṇānvitaḥ || 7 ||
rōgārtō mucyate rōgādbaddhō mucyeta bandhanāt |
bhayānmucyeta bhītastu mucyetāpanna āpadaḥ || 8 ||


He who sings the thousand names of Vasudeva,
With utmost devotion,
After he rises in the morn,
With a mind tied in Him always,
Will get fame without fail,
Will be first in what he does,
Will get riches that last,
Would attain salvation from these bonds,
Will never be afraid of anything,
Will be bubbling with vim and valour,
Will not get any ills,
Will be handsome forever,
Will have all the virtues in this wide world,
And he who is ill will get cured,
He who is bound will be free,
He who is afraid, will get rid of fear,
He who is in danger, will be safe. 


जो वासुदेव अर्थात विष्णु के 1000 नामों का भजन रोज़ सुबह करता है 
और जिसका मन सहस्रनाम करते हुए लगातार भगवान् विष्णु में लगा रहता है 
उसे प्रसिद्धि मिलती है, वह हर जगह सबसे आगे रहता है, वह धनवान बनता है 
उसे मोक्ष मिलता है, उसे किसी का डर नहीं रहेगा, उसकी कीर्ति पताका फहराने लगेगी
वह बीमार नहीं पड़ेगा, वह हमेशा ही स्वस्थ और सुन्दर दिखेगा, 
उसके पास सब भौतिक सुविधाएं रहेंगी, जो बीमार है वह स्वस्थ हो जायेगा 
जो बंधन में है वो स्वतंत्र हो जायेगा, जो भय में है उसका भय दूर होगा 
और जो खतरे में है वो सुरक्षित हो जायेगा।

 
durgāṇyatitaratyāśu puruṣaḥ puruṣōttamam |
stuvannāmasahasreṇa nityaṁ bhaktisamanvitaḥ || 9 ||


He who chants these holy thousand names,
With devotion to Purushottama,
Will cross the miseries,
That cannot be crossed
Without fail. 


जो पुरुषोत्तम में पूरी श्रद्धा रखकर सहस्रनाम का पाठ करता है,
वह अत्यंत दुष्कर दुखों को भी पार कर जाएगा।

 
vāsudevāśrayō martyō vāsudevaparāyaṇaḥ |
sarvapāpaviśuddhātmā yāti brahma sanātanam || 10 ||


The man who nears Vasudeva,
The man who takes Him as shelter,
Would get rid of all sins,
And become purer than the pure,
And will reach Brahmam,
Which existed forever. 


जो व्यक्ति वासुदेव जी की शरण में आता है और उनके निकट रहता है,
उसके सभी पाप धुल जाते हैं, वह अत्यंत शुद्ध हो जाता है 
और परमब्रह्म तक पहुंच जाता है।


 
na vāsudevabhaktānāmaśubhaṁ vidyate kvacit |
janmamṛtyujarāvyādhibhayaṁ naivōpajāyate || 11 ||


The devotees of Vasudeva the great,
Never fall into days that are difficult,
And never forever suffer,
Of birth, death, old age and fear. 


वासुदेव के भक्तों पर कभी भी मुश्किल दिन नहीं आते 
और वे कभी भी जीवन,मृत्यु, वृद्धावस्था और भय के दुखों को नहीं झेलते।

 
imaṁ stavamadhīyānaḥ śraddhābhaktisamanvitaḥ |
yujyetātmāsukhakṣāmtiśrīdhṛtismṛtikīrtibhiḥ || 12 ||


He who sings these names with devotion,
And with Bhakthi,
Will get pleasure the great,
Patience to allure,
Wealth to attract,
Bravery and memory to excel. 


जो इन नामों को पूरी श्रद्धा और भक्ति के साथ जाता है
वह परम सुख पाता है, धैर्य, स्मृति और कीर्ति पाता है।


 
na krōdhō na ca mātsaryaṁ na lōbhō nāśubhā matiḥ |
bhavanti kṛtapuṇyānāṁ bhaktānāṁ puruṣōttame || 13 ||


The devotee of the Lord Purushottama,
Has neither anger nor fear,
Nor avarice and nor bad thoughts. 


पुरुषोत्तम भगवान् के भक्तों को क्रोध, लोभ और अशुभ बुद्धि नहीं होती।

 
dyaussacandrārkanakṣatrā khaṁ diśō bhūrmahōdadhiḥ |
vāsudevasya vīryeṇa vidhṛtāni mahātmanaḥ || 14 ||


All this world of sun and stars,
Moon and sky, Sea and the directions,
Are but borne by valour the great,
Of the great god Vasudeva. 


चन्द्रमा, सूर्य और नक्षत्रों के सहित आकाश, दिशाएँ तथा समुद्र ये सब वासुदेव जी के वीर्य 
से ही धारण किये गए हैं।

 
sasurāsuragandharvaṁ sayakṣōragarākṣasam |
jagadvaśe vartatedaṁ kṛṣṇasya sacarācaram || 15 ||


All this world,
Which moves and moves not,
And which has devas, rakshasas and Gandharwas,
And also asuras and nagas,
Is with Lord Krishna without fail. 


देवता, असुर, गन्धर्व, यक्ष, सर्प और राक्षसों के सहित यह सम्पूर्ण जगत श्रीकृष्ण के ही वशवर्ती हैं।

 
indriyāṇi manō buddhiḥ sattvaṁ tejō balaṁ dhṛtiḥ |
vāsudevātmakānyāhuḥ, kṣetraṁ kṣetrajña eva ca || 16 ||


The learned ones say,
That all the limbs,
Mind, wisdom, and thought,
And also strength, bravery, body and the soul,
Are full of Vasudeva.  


इन्द्रियां, मन, बुद्धि, अंतःकरण, तेज, बल, क्षेत्र और क्षेत्रज्ञ इन सबको वासुदेवरूप ही कहा है।

 
sarvāgamānāmācāraḥ prathamaṁ parikalypate |
ācāraprabhavō dharmō dharmasya prabhuracyutaḥ || 17 ||


Rule of life was first born
And from it came Dharma,
And from it came Achyutha the Lord. 


सब शास्त्रों में सबसे पहले आचार ही की कल्पना होती है, आचार से ही धर्म होता है, और धर्म के प्रभु श्रीअच्युत ही हैं।

 
ṛṣayaḥ pitarō devā mahābhūtāni dhātavaḥ |
jaṅgamājaṅgamaṁ cedaṁ jagannārāyaṇōdbhavam || 18 ||


All the sages,
All the ancestors,
All the devas,
All the five elements,
All the pleasures,
All the luck,
All that moves,
All that does not move,
All came only,
From the great Narayana.  


ऋषि, पितर, देवता, महाभूत, धातुएँ और ये चराचर जगत नारायण से ही उत्पन्न हुए हैं।

 
yōgō jñānaṁ tathā sāṁkhyaṁ vidyāḥ śilpādikarma ca |
vedāśśāstrāṇi vijñānametatsarvaṁ janārdanāt || 19 ||


The art of Yoga
And the science of Sankhya.
The treasure of knowledge.
The divine art of sculpture.
And all Vedas and sciences,
All these came from Janardhana. 


योग, ज्ञान तथा सांख्यादि विद्याएँ, शिल्पादि कर्म एवं वेद, शास्त्र और विज्ञान ये सब शृजनार्दन से ही हुए हैं।

 
ekō viṣṇurmahadbhūtaṁ pṛthagbhūtānyanekaśaḥ |
trīn–lōkānvyāpya bhūtātmā bhuṅkte viśvabhugavyayaḥ || 20 ||


Vishnu is many,
But He is one,
And he divides himself,
And exists in all beings,
That is in three worlds,
And rules all of them,
Without death and decay. 


एकमात्र विष्णुभगवान ही महत्स्वरूप हैं, वह सर्वभूतात्मा विश्वभोक्ता अविनाशी प्रभु ही तीनों लोकों को व्याप्तकर नाना भूतों को तरह तरह से भोगते हैं।

 
imaṁ stavaṁ bhagavatō viṣṇōrvyāsena kīrtitam |
paṭhedya icchetpuruṣaḥ śreyaḥ prāptuṁ sukhāni ca || 21 ||


He who desires fame and pleasure,
Should chant these verses, sung by Vyasa,
Of this great stotra of Vishnu without fail. 


जिस पुरुष को कल्याण और सुख पाने की इच्छा हो वह श्रीव्यास जी के कहे हुए भगवान् विष्णु के इस स्तोत्र का पाठ करे।

 
 
viśveśvaramajaṁ devaṁ jagataḥ prabhavāpyayam |
bhajanti ye puṣkarākṣaṁ na te yānti parābhavam || 22 ||
|| na tē yāṁti parābhavam ōṁ nama iti ||


He will never fail,
Who sings the praise of the Lord,
Of this universe,
Who does not have birth,
Who is always stable,
And who shines and sparkles,
And has lotus eyes.
Om Nama He will not fail. 


जो मनुष्य विश्वेश्वर, अजन्मा और संसार की उत्पत्ति तथा लय के स्थान देवदेव पुण्डरीकाक्ष को भजते हैं उनका कभी पराभव नहीं होता।

 
arjuna uvāca
padmapatra viśālākṣa padmanābha surōttama |
bhaktānāmanuraktānāṁ trātā bhava janārdana || 23 ||


Arjuna said:
Oh God Who has eyes,
Like the petals of lotus,
Oh God, Who has a lotus,
On his stomach,
Oh God, Who has eyes,
Seeing all things,
Oh God, Who is the Lord,
Of all devas,
Please be kind,
And be shelter,To all your devotees,
Who come to you with love.


अर्जुन ने कहा 
हे कमल की पंखुड़ियों के समान नेत्रों वाले भगवान् 
हे भगवान् जिनके उदर पर कमल पुष्प है
हे भगवान् जिनके नेत्र सर्वत्र देखने वाले हैं
हे भगवान् जो सभी देवों के देव हैं 
कृपया उन सभी भक्तों को जो आपकी शरण में बड़े प्रेम से आते हैं उनपर आप दया दृष्टि रखें।

 

śrī bhagavānuvāca
yō māṁ nāmasahasrēṇa stōtumicchati pāṁḍava |
sōhamēkēna ślōkēna stuta ēva na saṁśayaḥ || 24 ||
|| stuta ēva na saṁśaya ōṁ nama iti ||


The Lord said:
He who likes, Oh Arjuna,
To sing my praise,
Using these thousand names,
Should know Arjuna ,
That I would be satisfied,
By his singing of,
Even one stanza ,
Without any doubt.
Om Nama without any doubt. 


भगवान् ने कहा 
हे अर्जुन ! जो इस सहस्रनाम द्वारा मेरे गीत गाता है उसे यह पता होना चाहिए की मैं तो केवल इसके एक श्लोक से ही प्रसन्न हो जाता हूँ।


 
vyāsa uvāca
vāsanādvāsudēvasya vāsitaṁ tē jagatrayam |
sarvabhūtanivāsōsi vāsudēva namōstu tē || 25 ||
|| śrīvāsudēva namōstuta ōṁ nama iti ||


Vyasa said:
My salutations to you Vasudeva,
Because you who live in all the worlds,
Make these worlds as places ,
Where beings live,
And also Vasudeva,
You live in all beings,
As their soul.
Om Nama salutations to Vasudeva. 


व्यास जी ने कहा 
उन वासुदेव जी को जो सभी लोकों में रहते हैं, इन लोकों को जीवों के रहने योग्य बनाते हैं और वो जो सब जीवों में जीवात्मा बनकर रहते हैं उन्हें मेरा बारम्बार प्रणाम है।

 
pārvatyuvāca
kēnōpāyēna laghunā viṣṇōrnāmasahasrakam |
paṭhyatē paṁḍitairnityaṁ śrōtumicchāmyahaṁ prabhō || 26 ||


Parvathi said:
I am desirous to know oh Lord,
How the scholars of this world,
Will chant without fail,
These thousand names,
By a method that is easy and quick. 


पार्वती ने कहा 
हे प्रभु ! मैं यह जानने के लिए तत्पर हूँ की इस संसार के बुद्धिमान मनुष्य  सहस्रनामों को नित्य ही किस विधि से करेंगे जो आसान हो।

 
īśvara uvāca
rīrāma rāma rāmēti ramē rāmē manōramē |
sahasranāmatattulyaṁ rāmanāma varānanē || 27 || (Chant this shloka 3 times)
|| śrī rāmanāma varānana ōṁ nama iti ||


Lord Shiva said:
Hey beautiful one,
I play with Rama always,
By chanting Rama Rama and Rama,
Hey lady with a beautiful face,
Chanting of the name Rama ,
Is same as the thousand names.
Om Nama Rama Nama Rama. 


भगवान् ने कहा 
भगवान् राम का नाम ही इन सहस्र नामों के बराबर है

 
brahmōvāca
namōstvanaṁtāya sahasramūrtayē
sahasrapādākṣiśirōrubāhavē |
sahasranāmnē puruṣāya śāśvatē
sahasrakōṭiyugadhāriṇē namaḥ || 28 ||
|| sahasrakōṭiyugadhāriṇē nama ōṁ nama iti ||


Brahma said:
Salutations to thee oh lord,
Who runs the immeasurable time,
Of thousand crore yugas,
Who has no end,
Who has thousand names,
Who has thousand forms,
Who has thousand feet,
Who has thousand eyes,
Who has thousand heads,
Who has thousand arms,
And Who is always there.
Om Nama He who runs thousand crore yugas. 


ब्रह्माजी ने कहा 
उन प्रभु को प्रणाम है जिनका कोई अंत नहीं है 
जिनके सहस्र नाम हैं 
जिनके सहस्र रूप हैं 
जिनके सहस्र पैर हैं 
जिनके सहस्र नेत्र हैं 
जिनके सहस्र सिर हैं 
जिनकी सहस्र भुजाएं हैं 
और जो सदा हैं

 
sanjaya uvāca
yatra yōgēśvaraḥ kr̥ṣṇō yatra pārthō dhanurdharaḥ |
tatra śrīrvijayō bhūtirdhruvā nītirmatirmama || 29 ||


Sanjaya said:
Where Krisna, the king of Yogas,
And where the wielder of bow,
Arjuna is there,
There will exist all the good,
All the the victory,
All the fame ,
And all the justice.
In this world. 


संजय ने कहा 

जहाँ योगेश्वर कृष्ण और धनुर्धर अर्जुन हैं वहां सब शुभ हैं, वहां विजय है, वहां कीर्ति है और न्याय है।

 
 
 
śrībhagavānuvāca
ananyāściṁtayaṁtō māṁ yē janāḥ paryupāsatē |
tēṣāṁ nityābhiyuktānāṁ yōgakṣēmaṁ vahāmyaham || 30 ||
paritrāṇāya sādhūnāṁ vināśāya ca duṣkr̥tām |
dharmasaṁsthāpanārthāya saṁbhavāmi yugē yugē || 31 ||
ārtā viṣaṇṇāḥ śithilāśca bhītāḥ
ghōrēṣu ca vyādhiṣu vartamānāḥ |
saṁkīrtya nārāyaṇaśabdamātraṁ
vimuktaduḥkhāḥ sukhinō bhavaṁti || 32 ||


Sri Bhagavan said:
I would take care,
Of worries and cares of Him,
Who thinks and serves me ,
Without any other Thoughts,
To take care of Dharma,
To protect those who are good,
And to destroy all who are bad.
I will be born from time to time.
If he who is worried,
If he who is sad,
If he who is broken,
If he who is afraid,
If he who is severely ill,
If he who has heard tidings bad,
Sings Narayana and Narayana,
All his cares would be taken care of. 


भगवान् ने कहा 

जो बिना कुछ और सोचे सिर्फ मेरे बारे  है और मेरी सेवा करता है मैं उसकी सब चिंताएं मिटा देता हूँ। धर्म की रक्षा और अधर्म के नाश के लिए मैं जन्म लेता रहूँगा। अगर कोई उदास है, चिंतित है, दुखी है, भयभीत है, अत्यधिक बीमार है वह अगर नारायण नारायण का गीत गा ले तो मैं उसकी सारी समस्याओं का निराकरण कर दूंगा।

##########################################################

If you liked this article and this blog then please leave a review on Google by clicking on this link and on Facebook by clicking on this link 

अगर आपको ये लेख और ये ब्लॉग पसंद आया तो अपने विचार गूगल पर व्यक्त करें इस लिंक पर क्लिक करके और फेसबुक पर व्यक्त करें इस लिंक पर क्लिक करके ।

##########################################################
 

 Gaurav Malhotra

About the Author:

Gaurav Malhotra is a B Tech in Computer Engineering from National Institute of Technology (NIT, Kurukshetra) and a passionate follower of Astrology. He has widely traveled across the world and helped people with his skills. You can contact him on his email jyotishremedy@gmail.com. You can also read more about him on his page.

8 comments:

  1. Truly Commendable Gaurav ji

    What you have published today is not easy .... Its a looooot of research and hard work

    ReplyDelete
    Replies
    1. It was indeed lot of hard work and research. Thanks for recognizing my effort :)

      Delete
  2. Namaste Guruji

    Thanku for such a wonderful blog

    U r really a divine soul always

    Working on the welfare of we people

    ReplyDelete
    Replies
    1. Many thanks for your kind and encouraging words.

      Delete

I get huge no. of comments everyday and it is not possible for me to reply to each and every comment due to scarcity of time. I will try my best to reply at least a few comments everyday.

ShareThis