Saturday, July 15, 2017

Lunar Eclipse on 7-8 August 2017 (7-8 August ko Chandra Grahan)

I would like to inform the readers about the upcoming lunar eclipse on 7th and 8th August 2017. Lunar Eclipse will be seen from most of Asia, Australia, Europe and Africa (Please see the image above). It will be seen in India as well so it has importance for Indians. (Android users who are watching this post through my app (Astro Junction App) on their smartphones, should click on the title of the post above to see the complete post.)

The partial lunar eclipse in India starts at 22:52 on 7th August 2017 and ends at 24:48 (Indian Standard Time) on 8th August 2017. 

If you live in a country where eclipse will be visible then you should not waste this valuable time. One should keep reciting a mantra which one wants to 'siddh' for as much as one can while the eclipse is on. Eclipse is one of the best times to 'siddh' a mantra. For example if you are facing financial issues, then recite either this mantra or this mantra; if you are facing child related problems you can recite Santan Gopal Mantra; if you are facing problems related to evil energy like black magic, depression, ghosts etc. then recite Vandurga mantra and so on.

Precautions for Pregnant Ladies: 

1) Do not see the eclipse.
2) Do not go out while the eclipse is on. Try to stay indoors. 
3) Keep reciting Santan Gopal Mantra during the eclipse.  
4) Take bath before and after the eclipse.
5) Avoid sleeping while the eclipse is on. 

One should take bath before and after eclipse.  

General Do's and Don'ts During Eclipse:

1) God's idol should not be touched during sootak and during eclipse. 
2) Eating food unnecessarily. Bodily fluids are on the low during eclipse and metabolism becomes weak. So one should avoid eating as far as possible during eclipse. This rule does not apply for patients, children and pregnant ladies.
3) One should avoid intercourse during eclipse. If the lady conceives, the child may have birth defects or other issues. 
4) One should also avoid sleeping, cutting nails and applying oil on the body.
5) Kusha grass should be kept in wet foods like curd, chutney, milk, pickle etc. to avoid contamination. 
      

मैं पाठकों को 7 और 8 अगस्त को होने वाले चन्द्र ग्रहण की जानकारी देना चाहूँगा । चन्द्र ग्रहण ऐशिआ के कई हिस्सों, ऑस्ट्रेलिया, यूरोप और अफ्रीका में दिखाई देगा। यह चन्द्र ग्रहण भारत में भी दिखाई देगा इसलिए भारतीयों के लिए इसका महत्व है । यह भारत में आंशिक रूप से दिखाई देगा ।

भारत में आंशिक चन्द्र ग्रहण 7 अगस्त को रात को 10:52 बजे से शुरू होगा और रात को 12:48 पर ख़त्म हो जाएगा । क्योंकि रोमन कैलेंडर में 12 बजे के बाद तारीख बदल जाती है इसलिए हम कह सकते हैं की 8 अगस्त को ग्रहण समाप्त होगा। 

अगर आप किसी ऐसे देश में रहते हैं जहाँ चन्द्र ग्रहण दिखाई देगा तो फिर इसका अधिक से अधिक लाभ उठाइये । ग्रहण का समय मन्त्रों को सिद्ध करने के लिए बहुत अच्छा होता है इसलिए अधिक से अधिक जप कीजिये और लाभ पाइए ।
उदाहरण के लिए अगर आपको आर्थिक समस्याएं हैं तो ग्रहण के समय धन लाभ मन्त्र या फिर इस मंत्र को जपिए; अगर आपको बच्चों से सम्बंधित समस्या आ रही है तो संतान गोपाल मंत्र जपिए; अगर आपको अत्यधिक तनाव रहता है या फिर कोई नकारात्मक शक्ति जैसे भूत प्रेत या काले जादू का प्रभाव है तो फिर वनदुर्गा मंत्र जपिए इत्यादि इत्यादि ।

गर्भवती स्त्रियों के लिए ग्रहण के समय सावधानियां:

1) ग्रहण को न देखें । 
2) अगर हो सके तो ग्रहण के समय घर के अंदर ही रहें । बाहर न जाएँ । 
3) जब ग्रहण लगा हो तो लगातार संतान गोपाल मंत्र का जप करती रहें । 
4) ग्रहण लगने से पहले स्नान करें और ग्रहण समाप्त होने के बाद फिर से स्नान करें । 
5) ग्रहण के समय न सोएं । 

ग्रहण से पहले सभी को नहाना चाहिए और ग्रहण समाप्त होने के बाद भी। बीमार, बुज़ुर्ग और बच्चों पर यह नियम लागू नहीं होता।

ग्रहण के समय निषेध बातें :

1) भगवान् की मूर्ति को नहीं छूना चाहिए। 
2) अनावश्यक खाना नहीं चाहिए। शरीर का पाचन तंत्र इस समय कमज़ोर हो जाता है इसलिए जितना हो सके कुछ खाना नहीं चाहिए। बीमार, बुज़ुर्ग और बच्चों पर यह नियम लागू नहीं होता।
3) ग्रहण के समय सम्भोग नहीं करना चाहिए। अगर इस समय स्त्री को गर्भ ठहर जाए तो होने वाले बच्चे में या तो विकार होंगे या फिर बच्चा रोगी पैदा हो सकता है। 
4) ग्रहण काल में जहाँ तक संभव हो सोना नहीं चाहिए, नाखून नहीं काटने चाहिए और शरीर पर तेल नहीं लगाना चाहिए। 
5) तरल खाद्य चीज़ों में कुशा घास के तिनके डाल देने चाहिए अन्यथा इन वस्तुओं में विकार उत्पन्न हो जाता है और वे खाने लायक नहीं रहती। दही, चटनी, अचार, दूध इत्यादि जैसी तरल चीज़ों में डाल देना चाहिए। सूखी वस्तुओं में डालने की आवश्यकता नहीं है।

##########################################################

If you liked this article and this blog then please leave a review on Google by clicking on this link and on Facebook by clicking on this link 

अगर आपको ये लेख और ये ब्लॉग पसंद आया तो अपने विचार गूगल पर व्यक्त करें इस लिंक पर क्लिक करके और फेसबुक पर व्यक्त करें इस लिंक पर क्लिक करके ।

##########################################################


Gaurav Malhotra

About the Author:

Gaurav Malhotra is a B Tech in Computer Engineering from National Institute of Technology (NIT, Kurukshetra) and a passionate follower of Astrology. He has widely traveled across the world and helped people with his skills. You can contact him on his email jyotishremedy@gmail.com. You can also read more about him on his page. His Facebook page can be reached here.

3 comments:

  1. what are the rules for sutak sir

    ReplyDelete
  2. As the eclipse ends at 12:48 am, do we have to take head bath then or can we do it the next morning??

    ReplyDelete

I get huge no. of comments everyday and it is not possible for me to reply to each and every comment due to scarcity of time. I will try my best to reply at least a few comments everyday.

ShareThis