Monday, May 29, 2017

Hypnotherapy Case Study - Nyctophobia (Fear of Darkness)



Dear Readers 

As promised in one of my previous posts, I am going to share one of my Hypnotherapy case studies in this post. This case study involves the treatment of Nyctophobia (Fear of darkness).

Introduction: Gayatri (Name changed due to privacy concerns) came to me with problem of Nyctophobia. She is 19 years old and studying Physiotherapy in a renowned college in Faridabad. When she came to me she was struggling with her fear. She used to get terrified whenever she was in a dark area. While she was in darkness, she always used to feel that someone is standing behind her with a stick in hand. She also used to feel that someone would just push her from behind. All these thoughts would make her tremble with fear. 

Client's Expectation from Therapy: Gayatri said that she was suffering from her fear and she wanted to be completely normal. She also said that she knows there is nothing in the darkness but still she could not control her fear. She wanted to live a normal life without any fear. 

My Aim as a Therapist: My aim obviously was to first find out the root cause of her fear. Every fear has a beginning some where in life. There is almost always an incident which gives rise to the fear. My aim was to find out if there was any such incident and then I wanted to do the healing on her so that the fear completely goes away from her mind. 

The Technique: I used progressive relaxation induction technique to induce hypnosis. During the therapy, I also used past life regression technique. 
With the help of past life regression, anyone in its memory, can go to any event in the past irrespective of whether that event lies in present life or any of the past lives.

Treatment Session 1: Gayatri came with her mother. I did a pre-hypnosis talk with her and understood her problem in detail. I also clarified her concerns about the Hypnotherapy session. 

I then started the Hypnotic induction to take her into a hypnotic state. I deepened her state with few other techniques. When I realized that she is in deep hypnotic trance and her sub conscious mind was completely ready to listen to me I started giving her instructions.

I told her " Your sub-conscious mind knows when the fear of darkness actually started. So, please ask your sub-conscious mind to take you exactly to the incident where this fear started. It knows the exact incident so tell your mind to take you there. When you start seeing any imagery, please start telling me what you are looking at. "

I waited for some time. Gayatri's eyes were closed at this time but I could still see her eyeballs moving as if she was looking at something. Suddenly she started saying something but the voice was very low because she was in a deep hypnotic state which is very relaxing. So I told her to say it in louder voice. 

After some time Gayatri said " I can see some trees."

I asked " What else can you see"

She told " I can see some people who are bit far away " She further added " I'm standing near a well and I'm draped in a saree."

I asked " How old are you ? " 

She said " Around 24 years old " 

This strengthened my belief that she was in one of her previous lives because in current life she is a student and 19 years old. 

To confirm I asked " Are you married ? "

She said " Yes." 

Now I was confirmed that she is in some other life. I kept on asking questions. 

I asked " What is happening there ? "

She replied " An old lady is standing in front of me and constantly abusing me "

I asked " Why is she abusing ? "

I could see from her expressions that she is trying to make out but she is not able to. So I did not pursue the question further. 

I asked " What else is happening ?"

She replied " The old lady is my mother-in-law. She is holding a stick in her hand and she is beating me with that stick." Now I knew why in her current life she feels that there is someone in the darkness holding a stick in the hand.

I asked " Okay. Keep telling me what is happening "

I could see expressions of tension on her face now because she was looking at some disturbing visuals. It is as if you are watching an emotional scene in a movie hall. I asked her to be patient. As soon as I gave this instruction, within few moments her face was back to normal again.

She kept on speaking further " My Mother-in-Law is now beating me with the stick. " 
She had expressions of pain while saying this. " I am crying but she is not stopping " 

After a brief pause she said " She has now pushed me from behind into the well. " She stopped saying anything and I could easily see expressions of fear on her face. This incident was vaguely stored in her sub conscious mind and that is why she used to feel in her current life that someone will push her from behind.

She again started speaking after a brief pause " I am now falling inside the well. " 

I asked after some time about what was happening.

She told " I have hit the bottom of the well. There is not much water in the well so I have bumped my head against the bottom of the well......My head is severely bleeding......My eyes are slowly getting closed and I'm dying now." After a pause, she spoke " I can see darkness all around me and it is very scary. I'm very scared now." This gave me a clear indication that this particular incident in this whole event started the fear in her. She brought this fear of darkness from one of her previous lives to her current life. She then told that she had died and people took her body out of the well. After this she could not remember anything.

This was a perfect opportunity for me to do healing on her sub conscious mind. With few hypnotic techniques I convinced her sub conscious mind that the fear that she was carrying in her mind belonged to one of her previous lives and there was no reason for her to fear from darkness in her current life. I took her back to her current life, out of hypnotized state, in a normal state. 

She was amazed to see that life and was quite happy with the whole experience and had a lot of faith that she will improve. 

Further Sessions: I asked Gayatri to come back after 1 week and she was in my office. I asked her experience. She was very positive and gave me a great feedback about her post session experience. She gave me many incidents where she was in darkness but did not feel any fear. In hypnotherapy the patient should always be given strengthening sessions so that the problem doesn't come back. This second session was given to further strengthen her belief that the fear is not going to come back. 

I gave her two more sessions in the intervals of 1 month. 

Post Treatment: She called me after 1 month of completing the treatment and told me that she was completely free from the fear that she was carrying in her mind since childhood. She was feeling great after the treatment. She also had fear of heights which was also gone completely after the treatment. 

Conclusion: This is how I treated Gayatri of her fear of darkness. Hypnotherapy can help in endless ways and this powerful tool must be explored and used further to help humanity. I consider this as a great tool in today's environment where people are facing countless emotional and psychological issues due to fast paced life.

If you want to approach me for Hypnotherapy treatment. You can email me at jyotishremedy@gmail.com The Hypnotherapy sessions can be given remotely as well through phone and Skype.

प्रिय पाठकों 

जैसा कि मैंने अपनी पिछली हिप्नोथेरपी की पोस्ट में लिखा था की मैं भविष्य की पोस्ट्स में हिप्नोथेरपी के कुछ सफल प्रयोगों के बारे में लिखूंगा | अपने उसी वादे को पूरा करते हुए इस पोस्ट में मैं हिप्नोथेरपी के अपने किये हुए एक सफल प्रयोग के बारे में लिखने जा रहा हूँ | इस प्रयोग में मैंने एक लड़की के अँधेरे और ऊंचाई के डर को ठीक किया था | 

परिचय: गायत्री (बदला हुआ नाम) मेरे पास अपने अँधेरे से डर लगने की समस्या को लेकर आयी थी | वह 19 साल की है और फरीदाबाद के एक प्रतिष्ठित कॉलेज से फिजियोथेरेपी का कोर्स कर रही है | जब वो मेरे पास आयी थी तब वो अपने डर के साथ संघर्ष कर रही थी | जब भी उसे किसी अँधेरी जगह पर जाना होता था तो वो बेहद डर जाती थी |  अँधेरे में उसे हमेशा ऐसा महसूस होता था जैसे कोई उसके पीछे हाथ में डंडा लिए खड़ा है और उसे ऐसा भी महसूस होता था जैसे कोई उसे पीछे से धक्का दे देगा | ये सब सोचते हुए वो डर से कांपने लगती थी |

गायत्री की हिप्नोथेरपी सत्र से अपेक्षा: गायत्री ने बताया की वो अपने डर से बेहद पीड़ित है और बिलकुल नॉर्मल होना चाहती है | उसने यह भी कहा कि उसे पता है की अँधेरे में कुछ नहीं है लेकिन फिर भी वह अपने डर पर नियंत्रण नहीं रख पाती |

एक थेरेपिस्ट के नाते मेरा उद्देश्य: मेरा प्रमुख उद्देश्य था गायत्री के डर की जड़ तक जाना |  हर डर के पीछे कोई न कोई ऐसी घटना होती है जिससे वह डर शुरू होता है | मैं उस वजह का पता लगाकर उस डर को ठीक करना चाहता था |

तरीक़ा: मैंने प्रोग्रेसिव रिलैक्सेशन तकनीक का प्रयोग किया गायत्री को हिप्नोटाइज़्ड अवस्था में ले जाने के लिए | इसके बाद कुछ और तकनीकों की मदद से मैं उसे और गहरी अवस्था में ले गया | मरीज़ को गहरी अवस्था में ले जाना आम तौर से ज़रूरी होता है इससे मरीज़ को बहुत जल्दी फायदा होता है | गहरी अवस्था में ले जाने के बाद मैंने पास्ट लाइफ रिग्रेशन तकनीक का प्रयोग किया | पास्ट लाइफ रिग्रेशन की मदद से कोई भी अपने इस जन्म की या पिछले किसी भी जन्म की पुरानी किसी भी घटना तक पहुंच कर उसे हूबहू देख सकता है |

पहला सत्र: गायत्री अपनी माँ के साथ मेरे पास आयी | मैंने उससे बहुत विस्तार से बात की उसकी डर की समस्या के बारे में | इसके अलावा मैंने हिप्नोथेरपी के बारे में उसके सभी सवालों का जवाब भी दिया |

इसके बाद मैं उसे एक हल्की हिप्नोटाइज़्ड अवस्था में ले गया और उसके बाद इस अवस्था को मैंने और गहरा किया | जब मुझे लगा की वो एक गहरी हिप्नोटाइज़्ड अवस्था में पहुंच गयी है और उसका अवचेतन मन पूरी तरह से मेरी बात सुनने के लिए तैयार है तब मैंने उसे हिप्नोटिक निर्देश देने शुरू किये | 

मैंने उसे कहा " तुम्हारा अवचेतन मन जानता है कि ये अँधेरे का डर कब से शुरू हुआ था | इसलिए अपने अवचेतन मन से कहो कि तुम्हे उस घटना तक ले जाए जहाँ से तुम्हारा ये अँधेरे का डर शुरू हुआ था | तुम्हारे अवचेतन मन को बहुत अच्छे से उस घटना का पता है जहाँ से ये डर शुरू हुआ था | जैसे ही तुम्हे कुछ दिखना शुरू हो जाए तो मुझे बताना शुरू कर देना | "

मैंने कुछ देर इंतज़ार किया | गायत्री की आँखें बंद थी लेकिन मैं उसकी आँखों की पुतलियों को हिलते हुए देख पा रहा था | इससे मुझे पता चल रहा था कि उसे कुछ दिख रहा है | अचानक उसने कुछ बोलना शुरू किया लेकिन बहुत गहरी हिप्नोटिक अवस्था में होने की वजह से आवाज़ बहुत ही धीमी थी | इसलिए मैंने गायत्री को थोड़ी तेज़ आवाज़ में बोलने को कहा | 

कुछ समय बाद गायत्री ने कहा " मुझे कुछ पेड़ दिख रहे हैं | "

मैंने पूछा " और क्या दिख रहा है | "

उसने कहा " मुझे दूर खड़े कुछ लोग दिख रहे हैं  |" उसने और बताया " मैं कुँए के पास खड़ी हूँ और मैंने साड़ी पहनी हुई है | "

मैंने पूछा " तुम कितने साल की हो ? "

उसने कहा " लगभग 24 साल की | "

अब मुझे लगने लगा था कि वो किसी पिछले जन्म में पहुंच गयी है क्योंकि इस सत्र के समय वह 19 साल की थी और विद्यार्थी थी |

अपने विश्वास को और पक्का करने के लिए मैंने उससे पूछा " क्या तुम्हारी शादी हो चुकी है ? "

उसने जवाब दिया " हाँ "

अब मुझे पूरा विश्वास हो गया था कि वो अपने पिछले किसी जन्म में पहुँच चुकी है | मैंने प्रश्न पूछना जारी रखा | 

मैंने पूछा " वहां क्या हो रहा है | "

उसने कहा " एक बूढ़ी औरत मेरे सामने खड़ी हुई है और लगातार मुझे गालियां दिए जा रही है | "

मैंने पूछा " वो गालियां क्यों दे रही है  |"


मैं उसके चेहरे के हाव-भाव से यह पता लगा पा रहा था कि वह यह जानने की कोशिश कर रही है कि वह बूढ़ी औरत उसे गाली क्यों दे रही है लेकिन उसे समझ नहीं आ पा रहा है इसलिए मैंने इस प्रश्न को और लंबा नहीं खींचा और अगले प्रश्न पर बढ़ गया 

मैंने पूछा " और क्या हो रहा है | " उसने जवाब दिया " वह बूढ़ी औरत मेरी सास है | उसने अपने हाथ में एक डंडा पकड़ा हुआ है और उस डंडे से वह मुझे मार रही है | "

मैंने कहा " और बताओ वहां क्या हो रहा है | " मैं उसके चेहरे के हाव भाव से टेंशन साफ देख पा रहा था क्योंकि उस समय वह उस गहरी हिप्नोटाइज अवस्था में कुछ बहुत भावुक दृश्य देख रही थी |  यह ऐसा ही है जैसा कि आप एक सिनेमा हॉल में बैठकर एक भावुक दृश्य देख रहे हो | मैंने उसे शांत रहने का निर्देश दिया | इस हिप्नोटिक निर्देश को सुनते ही थोड़ी ही देर में उसका चेहरा फिर से नॉर्मल हो गया 


उसने आगे कहा " मेरी सास मुझे डंडे से पीट रही है | " ऐसा कहते हुए उसके चेहरे पर दर्द के भाव साफ साफ दिख रहे थे | 

उसने कहा " मैं बहुत रो रही हूं लेकिन वह फिर भी रुक नहीं रही है और मुझे मारे ही जा रही है | "

कुछ देर रुकने के बाद उसने कहा " अब उसने मुझे पीछे से धक्का दिया है और मैं कुएं में गिर रही हूं | " इसके बाद उसने बोलना बंद कर दिया | मैं उसके चेहरे पर डर के भाव देख पा रहा था |

कुछ समय बाद मैंने पूछा कि अब आगे क्या हो रहा था | उसने कहा " मैं कुएं के तल पर जाकर टकराई हूं | कुएं में ज्यादा पानी नहीं है इस वजह से मेरा सिर कुएं के तल पर जाकर जोर से टकराया है | मेरे सिर से बहुत ज्यादा खून बह रहा है और मेरा सिर फट चुका है | मेरी आंखें धीरे धीरे बंद हो रही हैं और मैं मर रही हूं | "


थोड़ी देर रुक कर उसने फिर कहा " अब मुझे अपने आस पास सब जगह अंधेरा ही अंधेरा दिख रहा है और मुझे इस अँधेरे से बहुत डर लग रहा है  |" यह सुनने के बाद मुझे पता चल गया यही वह क्षण था जहां से उसका डर शुरू हुआ था | और इसी डर को वह अपनी वर्तमान जन्म तक ले कर आई थी | जिसकी वजह से उसका वर्तमान जन्म भी प्रभावित हो रहा था | इसके बाद उसने बताया कि उसकी मृत्यु हो गई और लोगों ने उसके शरीर को कुँए से बाहर निकाला | इसके आगे उसे कुछ याद नहीं था | यही वह क्षण था जब मुझे गायत्री की हीलिंग शुरू करनी थी | मैंने कुछ हिप्नोटिक निर्देशों के मदद से उसके अवचेतन मन को समझाया कि यह डर उसके किसी पिछले जन्म से शुरु हुआ था और उसके वर्तमान जन्म में उस डर का कोई स्थान नहीं है | वह डर उसे उसी जन्म में छोड़ कर और अपने वर्तमान जन्म में वापस आना है | उसके वर्तमान जीवन में अंधेरे से डरने का कोई भी वजह नहीं है |  इसके बाद मैं उसे हिप्नोटिक अवस्था से बाहर ले आया | बाहर आने के बाद वह बहुत खुश थी और उसे बहुत ज्यादा आशा थी कि वह भविष्य में बिल्कुल ठीक होने वाली है |


अन्य सत्र: मैंने गायत्री को एक हफ्ते बाद दोबारा दूसरे सत्र के लिए आने को कहा और वह मेरे ऑफिस में थी | मैंने उससे सत्र के बाद के एक हफ्ते के बारे में उसका अनुभव पूछा | वह बहुत ही खुश थी और बहुत सकारात्मक थी और उसने पहले सत्र के बाद से लेकर अगले 1 हफ्ते के बीच का अनुभव बहुत ही अच्छा बताया | उसने मुझे ऐसी कई घटनाएं बताइ जहां पर वह अंधेरे में गई थी लेकिन फिर भी उसे कोई डर महसूस नहीं हुआ | हिप्नोथैरेपी में मरीज को हमेशा ऐसे कई और सत्र देने चाहिए जिससे कि उसकी जो हीलिंग की गई है वह और मजबूत हो जाए और मरीज की समस्या वापस दोबारा ना आए | दूसरा सत्र उसे इसलिए दिया गया ताकि उसके विश्वास को और पक्का किया जा सके और उसका डर वापस ना आए |


इस सत्र के बाद मैंने एक महीने के अंतराल पर उसे दो सत्र और दिए | हिप्नोथैरेपी चिकित्सा खत्म होने के 1 महीने बाद उसने मुझे फोन किया और बताया कि उसका डर पूरे तरीके से खत्म हो चुका है | वह डर जिसके साथ वह बचपन से जीती आई थी अब वह डर पूरी तरीके से खत्म हो गया था | उसने मुझे बताया कि उसे ऊंचाई वाले स्थानों से भी डर लगता था और हिप्नोथेरपी चिकित्सा के बाद वह डर भी जाता रहा है | 


निष्कर्ष: इस तरह से मैंने गायत्री के अंधेरे के डर को ठीक किया  हिप्नोथैरेपी एक कमाल की तकनीक है जिसे ज्यादा से ज्यादा प्रयोग किया जाना चाहिए | ताकि लोगों को ज्यादा से ज्यादा फायदा हो सके | आज के जमाने में मैं हिप्नोथैरेपी को एक वरदान की तरह समझता हूं क्योंकि आजकल के जमाने में लोग बहुत सारी मानसिक समस्याओं से गुजर रहे हैं | 


अगर आप हिप्नोथैरेपी चिकित्सा के लिए मुझ से मिलना चाहते हैं तो मुझे ईमेल कीजिए jyotishremedy@gmail.com पर |  हिप्नोथैरेपी के सत्र दूर बैठे बैठे फोन और Skype के द्वारा भी दिए जा सकते हैं अगर व्यक्ति खुद ना आ सके तब भी |


##########################################################

If you liked this article and this blog then please leave a review on Google by clicking on this link and on Facebook by clicking on this link 

अगर आपको ये लेख और ये ब्लॉग पसंद आया तो अपने विचार गूगल पर व्यक्त करें इस लिंक पर क्लिक करके और फेसबुक पर व्यक्त करें इस लिंक पर क्लिक करके ।

##########################################################
 
Gaurav Malhotra

About the Author:

Gaurav Malhotra is a B Tech in Computer Engineering from National Institute of Technology (NIT, Kurukshetra) and a passionate follower of Astrology. He has widely traveled across the world and helped people with his skills. You can contact him on his email jyotishremedy@gmail.com. You can also read more about him on his page.

2 comments:

  1. Thanks, I feel happy for Gayatri :)

    ReplyDelete
  2. Really great Sir... Permanent solution

    ReplyDelete

I get huge no. of comments everyday and it is not possible for me to reply to each and every comment due to scarcity of time. I will try my best to reply at least a few comments everyday.

ShareThis