Sunday, May 14, 2017

Hypnotherapy - Myths and Misconceptions


Dear Readers 

I am going to start a series on Hypnotherapy from this post. I hope readers will be benefited from these posts. 
In this particular post, I am introducing Hypnotherapy and the myths and misconceptions associated with it. 


What is Hypnotherapy: Hypnotherapy uses induction techniques to induce hypnotized state in a person. It then uses suggestions/instructions to make a change in a person's thoughts, attitudes, feelings etc. 
The problem may not get resolved in just one sitting. It may take multiple sittings for the problems to be resolved.

Stages of Hypnotherapy:

1) Pre-Hypnosis Talk and Preparing the Patient for Hypnotherapy Sessions:

During this stage, hypnotherapist talks to the patient in detail and notes down the fine details which help in preparing a custom hypnotic script for the patient. This script is used in stage no. 4 below. 
All doubts regarding hypnotherapy are clarified during this stage.


2) Hypnotic Induction:

Hypnotic induction is inducing the hypnotic state in the patient. Many techniques like eye fixation technique, the hand and arm levitation technique etc. are used to induce light hypnosis in the patient. 

3) Deepening of Hypnosis:

Once the patient goes in light hypnotic state, the hypnotic state is deepened with the help of various techniques like progressive relaxation, counting, visual imagery etc.

4) Utilization of Hypnotic Suggestions:

Once the patient reaches in a deep hypnotic stage, the custom script which was created in stage 1 above is utilized to bring a positive change in the patient's negative thought pattern, negative attitude, negative feelings or any other problem. 

5) Post Hypnotic Suggestions:

It is common practice to offer post-hypnotic suggestions before the termination
of the hypnotic session. Post-hypnotic suggestions are given to counter problem behaviors,  negative  emotions,  dysfunctional  cognitions,  and  negative  self-affirmations.
 
 
Where Can Hypnotherapy Help:

The list is endless. In short, it can be said that Hypnotherapy can help in any mind related (and many physical ailments as well) problem. Some examples are given below:

Phobias, Anxiety, OCD
Sleep disorders, Amnesia
Depression, Stress
Grief and Loss
Addictions like smoking, drinking and drugs
Confidence building, 
Weight loss and Weight management
Motivation, lack of concentration and memory building
Nail biting
Public speaking, Fear of flying
Irritable Bowel Syndrome
Exam Anxiety
Sexual Problems........and the list goes on.  

So it can be clearly seen that Hypnotherapy is a great tool to help in many issues.


Myths associated with Hypnotherapy and Hypnosis: 

1) Only certain types of people can be hypnotized: The reality is anyone can be hypnotized

2) Anyone who is hypnotized is weak-minded: That's false. Being hypnotized depends on the will of the person to be hypnotized. 

3) One can be hypnotized to do something against one's will: This is the biggest misconception which most of the people have. This is completely false and no one can be hypnotized against one's will. One is completely in senses and aware about his/her surroundings so one can not be made to something against one's will. This has even been scientifically proved. 

4) One can get stuck in the hypnosis: This is another big misconception which has been further spread by few films like "Kudrat". This is false. Even if one is hypnotized and the hypnotherapist goes away, the hypnotized person will come out of the hypnotized state within few minutes. 

My experiences with Hypnotherapy: I have been successfully using hypnotherapy for various problems of the people since last several years. I have got amazing results while treating people with Hypnotherapy. In fact in some cases, only 1 or 2 session were sufficient to completely cure the condition. This is a very powerful technique which is still unexplored in India. 

I will share my case studies in my future posts. I will also share some general hypnotherapy scripts which readers can listen in their free time and reap great benefits.

प्रिय पाठकों 

इस पोस्ट के द्वारा मैं हिप्नोथेरेपी के ऊपर एक श्रंखला शुरू करने जा रहा हूँ | मैं आशा करता हूँ कि पाठकों को इन पोस्ट्स से फायदा होगा | 
इस पोस्ट में मैं हिप्नोथेरपी और इससे जुड़ी हुई कल्पनाओं के बारे में बताऊंगा | 

क्या है हिप्नोथेरपी: कुछ निर्देशों के द्वारा व्यक्ति को हिप्नोटाइज़्ड अवस्था में ले जाया जाता है | जब व्यक्ति हिप्नोटाइज़्ड अवस्था में पहुंच जाता है उसके बाद व्यक्ति की समस्या के अनुसार उसे कुछ निर्देश दिए जाते हैं जिससे उसकी समस्या का निदान होना शुरू हो जाता है | ज़रूरी  नहीं की एक ही बार में समस्या का निदान हो जाए | कई बार इसमें कई सिटिंग्स लगती हैं |

हिप्नोथेरेपी की अवस्थाएं: 

1) हिप्नोसिस से पहले मरीज़ से बात करना और मरीज़ को हिप्नोथेरेपी के लिए तैयार करना: इस अवस्था में हिप्नोथेरपिस्ट मरीज़ से गहराई में बात करता है, उसकी समस्याओं को सुनकर एक आलेख तैयार करता है जो नीचे दी गयी चौथी अवस्था में प्रयोग किया जाता है | इसके अलावा मरीज़ के सारे संदेहों का निष्पादन किया जाता है | 

2) हिप्नोटिक प्रवेशण: इस अवस्था में मरीज़ को हिप्नोटाइज़ड अवस्था में ले जाया जाता है | इस अवस्था में ले जाने के लिए कई तकनीकों का इस्तेमाल किया जाता है जिससे मरीज़ एक हल्की हिप्नोटाइज़ड अवस्था में में चला जाता है |

3) हिप्नोसिस को गहराना: एक बार जब मरीज़ हल्की हिप्नोटाइज़ड अवस्था पहुंच जाता है तो उसके बाद कई तकनीकों की मदद से इस हल्की हिप्नोटाइज़ड अवस्था को और गहराया जाता है |
 
4) हिप्नोटिक निर्देशों का उपयोग करना: एक बार जब मरीज़ एक गहरी हिप्नोटाइज़ड अवस्था में पहुंच जाता है उसके बाद जो आलेख पहली अवस्था में मरीज़ के साथ बात करके तैयार किया गया था उसका उपयोग किया जाता है ताकि मरीज़ की गलत सोच, उसकी गलत आदतों या उसके स्वभाव में एक सकारात्मक बदलाव लाया जा सके |

5) हिप्नोसिस की अंतिम अवस्था के निर्देश: आमतौर पर हिप्नोसिस की अंतिम अवस्था में कई निर्देश दिए जाते  हैं मरीज़ की स्थिति में एक सकारात्मक बदलाव लाने के लिए जिन्हे पोस्ट हिप्नोटिक सजेशन्स कहा जाता है |

हिप्नोथेरपी कहाँ मदद कर सकती है: हिप्नोथेरेपी एक बेहद चमत्कारिक तरीका है किसी भी मानसिक और बहुत सी शारीरिक व्याधियों को ठीक करने का | कुछ उदाहरण नीचे दिए जा रहे हैं जिन्हे हिप्नोथेरपी के द्वारा सही किया जा सकता है | लेकिन ये लिस्ट सिर्फ नीचे दी हुई बीमारियों तक ही सीमित नहीं है बल्कि और भी कई बीमारियों और मानसिक व्याधियों में इसका प्रयोग किया जा सकता है | 

डर लगना, अत्यधिक चिंता, ओo सीo डीo
नींद न आना, अन्य नींद से सम्बंधित व्याधियां 
अवसाद, टेंशन 
बहुत दुखी रहना
बुरी लत जैसे शराब, सिगरेट, ड्रग्स इत्यादि 
आत्म विश्वास बढ़ाना 
वज़न कम करना या बढ़ाना 
याद्दाश्त और एकाग्रता बढ़ाना 
दांत काटना
समूह में बोलना, हवाई सफर का डर
आईo बीo एसo 
परीक्षाओं से लगने वाला डर
यौन समस्याएँ इत्यादि | 

इसके अलावा और भी बहुत सारी समस्याएं हैं जहाँ पर हिप्नोथेरपी बहुत प्रभावी सिद्ध होती है | 

हिप्नोथेरपी से जुड़ी हुई कुछ कपोल कल्पनाएं: 

1) केवल कुछ प्रकार के लोग ही हिप्नोटाइज़ हो पाते हैं:- गलत | तथ्य यह है की कोई भी हिप्नोटाइज़ हो सकता है | 

2) केवल कमज़ोर मन वाले लोग ही हिप्नोटाइज़ हो सकते हैं:- गलत | कोई भी ऐसा इंसान जो हिप्नोटाइज़ होने का इच्छुक हो वह हिप्नोटाइज़ हो सकता है | 

3) हिप्नोटाइज़ करवाकर किसी से उसकी मर्ज़ी के बिना कुछ भी करवाया जा सकता है:- गलत | हिप्नोथेरपी के मामले में यह सबसे बड़ी ग़लतफ़हमी है | ये पूरी तरह से गलत है और किसी को भी उसकी मर्ज़ी के बगैर हिप्नोटाइज़ नहीं किया जा सकता है | हिप्नोटाइज़ड अवस्था में भी व्यक्ति अपने होश में होता है और उसे आस पास के परिवेश का पूरा ज्ञान होता है | इस बात को वैज्ञानिक तरीके से भी सिद्ध किया जा चुका है | 

4) हिप्नोटाइज़्ड अवस्था में जाकर कोई फंस भी सकता है:- गलत | यह भी एक और बड़ी ग़लतफ़हमी है जिसे "कुदरत" जैसी फिल्मों ने और भी ज़्यादा फैलाया है | अगर कोई हिप्नोटाइज़्ड है और उस समय अगर हिप्नोथेरपिस्ट वहां से चला भी जाए तो कुछ ही मिनटों में व्यक्ति हिनोटाइज़्ड अवस्था से बाहर निकल आता है | 

हिप्नोथेरेपी के साथ मेरे अनुभव: मैं पिछले कई सालों से हिप्नोथेरपी लोगों की कई समस्याओं के लिए प्रयोग करता रहा हूँ और मुझे इसके चमत्कारिक प्रभाव देखने को मिले हैं | यहाँ तक की कुछ मामलों में तो केवल 1 से 2 सिटिंग्स में ही मरीज़ की ऐसी समस्याएँ पूरी तरह से ठीक हो गयी जिनसे वह सालों से जूझ रहा था | यह एक बेहद प्रभावी तरीक़ा है लेकिन भारत में अभी भी इसका प्रचार प्रसार बहुत कम हुआ है |

मैं अपनी भविष्य की कुछ पोस्ट्स में हिप्नोथेरपी के सफल प्रयोगों के बारे में लिखूंगा | इसके अलावा मैं कुछ जनरल हिप्नोथेरपी के आलेख अपनी आवाज़ में रिकॉर्ड करके भी अपलोड करूँगा जिसे पाठक सुनकर लाभान्वित हो सकते हैं |

Gaurav Malhotra

About the Author:

Gaurav Malhotra is a B Tech in Computer Engineering from National Institute of Technology (NIT, Kurukshetra) and a passionate follower of Astrology. He has widely traveled across the world and helped people with his skills. You can contact him on his email jyotishremedy@gmail.com. You can also read more about him on his page. His Facebook page can be reached here.



5 comments:

  1. Dear sir great work.

    ReplyDelete
  2. Commendable work.
    May the almighty always bless you.

    Raashmi

    ReplyDelete
  3. Gaurav Ji, Thanks and God Bless You :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thanks Ravindra Ji. God bless you too.

      Delete

I get huge no. of comments everyday and it is not possible for me to reply to each and every comment due to scarcity of time. I will try my best to reply at least a few comments everyday.

ShareThis