Monday, April 28, 2014

What Are Evil Spirits And How to Save Yourself From Them (Buri (Pret) Aatmaayen Kya Hoti Hain Aur Unse Kaise Bachaa Jaaye)


In my previous post I wrote about evil eye continuing the similar flow I am going to write about evil spirits in this post. Android users who are watching this post through my app (Astro Junction App) on their smartphones, should click on the title of the post above to see the complete post.)

What are Evil Spirits: They are known with many names likes demon, bhoot, ghost, evil soul, pret etc. Many of us do not believe in the evil spirits but as I said in my previous post that something is a superstition for us only till the time we have not experienced it ourselves. I have seen so much of it that I do not have even 1 percent of doubt on this. 

Let us understand what is an evil spirit. 
To understand it, first let us understand what a soul is.  Soul is an immortal part of a human being. When we say someone has died, it actually means that the body of the person has died. The soul transfers from the dead body to a new body in the womb of a mother. Soul takes its memories, sanskars from the previous life to the next life. This is the reason that we see some 'born' singers, born dancers, child prodigies etc. They take their sanskars from the previous life and the sanskars have lot of influence on the soul and they persist in the current life as well. If a person has many wants and desires and he/she dies an untimely death, the soul may not get the next body and may roam around for some time. It may enter into a body to complete its wishes and desires. At this time we may call it as evil spirit. But spirits are not always evil, they may help a person as well. Some evil tantriks also trap spirits sometimes to achieve their evil objectives.

What planet in Horoscope show evil spirits: 

Planets which show evil spirit influence are almost the same as given in this post.
One important combination is when badhakesh is associated with 6th lord, it may indicate evil influence. 
Another combination is when Chandrama and Rahu are together or Rahu or Ketu is in Cancer sign and Mars has an aspect on lagna then such a person becomes prone to evil spirits. 

Types of Evil Spirits and Symptoms of Getting Affected by Them: Various types of evil spirits have been defined in the older scriptures. Some of them are masculine spirits and some are feminine. Some of them are Bhoot, Yaksha, Pret, Pishaach, Shakini, Chudail etc. I will explain some symptoms of getting affected by each of these evil forces 

Affected by Bhoot: Person affected by the masculine force Bhoot talks like a retarded person. He gets exceptional power and can beat many people alone. His eyes remain red and his body shivers most of the time. 

Affected by Yaksha: Person affected by masculine force Yaksha suddenly starts taking interest in red color. He talks slowly and walks fast. Most of the time he talks with eye gestures.

Affected by Pishacha: Person affected by masculine force Pishacha doesn't feel shy even in getting naked in front of others. He gets weak and uses abusive words. He remains dirty and eats a lot. He emits bad smell from his body. He wants to be alone and sometimes cries. 

Affected by Shakini: Mostly ladies are affected by Shakini. Person affected by feminine force Shakini suffers from pain all over the body and in the eyes. Sometimes she faints. She screams and cries most of the time. Her body shivers.

Affected by Pret: Person affected by Pret keeps on crying and screaming. He keeps on running here and there, listens to no one, uses abusive words. He doesn't eat much and breathes heavily and one can hear sound while he breathes. 

Affected by Chudail: Person affected by Chudail suddenly starts gaining weight, always keep on smiling and wants to eat meat always. 

These were few types of evil spirits and the specific symptoms associated with them. I will now cover general symptoms of getting affected by an evil spirit.

What are the symptoms of a person affected with evil spirits: 

  • A person who is affected with evil spirit (also called 'possessed') may show abnormal behavior. 
  • He may be suffering with fever
  • His voice may get changed and sometimes it seems someone else is speaking inside him. 
  • His behavior may suddenly turn cruel
  • He may become abusive suddenly
  • He may get an incurable disease
  • Severe headache and body ache
  • Sudden abnormal increase in appetite
  • Frequent Bad dreams
  • Abnormal sleep patterns
  • Feeling of touch even when no one is there
  • Suddenly turning away from all spiritual practices
  • Foul smell in mouth all the time. 
  • Hearing of strange voices
There may be many other symptoms but I am not explaining all of them here. It is not necessary that the affected person will show all the above symptoms. He may even show some of the above symptoms.

Precautions to avoid getting affected by evil spirits: There are many precautions that can be taken in order to avoid getting affected by evil spirits.

1) Do not go to a crossroad immediately after having milk or any white colored sweet. Spirits prevail at crossroads and at dirty places. Moon rules over Milk and white color and crossroad is ruled by Rahu, both are enemies of each other so if a person goes to a crossroad after consuming Moon's objects he/she is liable to get affected by evil spirits. 

2) Menstruating ladies are prone to get affected by evil spirits. Because Moon and Mars are weak at the time of menstrual cycle. They should avoid going to crossroad during afternoon (around 12PM).

3) Evil spirits are on their high during occasions like marriage. 

4) They influence the frame of the main door of the house at 12PM during the day and 12AM during night so no one should stand between the main door at the said time.

5) Evil spirits also reside near well  and ponds. Water bodies are ruled by Moon who is Rahu's enemy that is why evil spirits reside at such places. 

6) When Saturn is situated in Poorvabhadrapad, Uttarabhadrapad, Jyeshtha, Anuradha, Swati or Bharani nakshatra and the house construction is started on a Saturday, such a house is haunted by evil spirits. 


Remedies for evil spirits: There are hundreds of remedies for getting rid of evil spirits. I will explain only few. I will keep on writing more remedies in my future posts. 

1) Burn Guggul, Loban and Camphor together and spread the smoke in all corners of house/office everyday.

2) There are some mantras are recitations which are very very useful and effective against even the strongest of evil spirit attacks. Those are the recitation of Hanuman Chalisa, Bajrang Baan, Durga Saptashati, Mahamrityunjay mantra and Gayatri mantra. Recitation should be done with complete dedication and pure heart. Mahamrityunjay havan is also quite effective.

3) The 15 digit yantra should be worn.

4) If a child is affected by evil influence, burn few peacock feathers and keep the ash of the feathers safe. Apply the tilak of this ash on the forehead of the child and give a pinch to him/her to eat.

5) Wearing a 10 mukhi or 1 mukhi rudraksha is very effective. 

6) There are hundreds of shabar mantras which help in getting rid of evil spirits.  I have given one of them in this post.

I would only say at last that we all remember God as a positive energy in the universe, similarly negative energy also exists in the universe. Those who have personally experienced the negative energy, believe in it whereas for others it is just a superstition. The only way to avoid getting affected by negative energy is to increase positive energy in oneself with the help of spirituality. 



अपनी पिछली पोस्ट में मैंने बुरी नज़र के बारे में लिखा था, उसी लीक पर चलते हुए इस पोस्ट में मैं बुरी आत्माओं या प्रेत आत्माओं के बारे में लिखने जा रहा हूँ। 

बुरी / प्रेत आत्माएँ क्या हैं ?: प्रेत आत्माओं को कई नामों से जाना जाता है जैसे भूत , प्रेत , पिशाच , जिन , डाकिनी , चुड़ैल , शाकिनी इत्यादि।  हम में से कई लोग भूत प्रेतों पर विश्वास नहीं करते हैं।  लेकिन जैसा कि मैंने अपनी पिछली पोस्ट में भी कहा था कि कोई चीज़ आपके लिए सिर्फ तब तक अंधविश्वास है जब तक वो आपके साथ घटित नहीं हुई है।  मैंने इससे सम्बन्धित इतना कुछ देखा पढ़ा और महसूस किया है कि मुझे इसमें रत्ती भर भी अविश्वास नहीं है। 

आइए अब समझते हैं कि प्रेत आत्माएँ क्या होतीं हैं।  लेकिन प्रेत आत्मा को समझने से पहले हमें यह समझना ज़रूरी है कि आत्मा क्या होती है।  आत्मा इन्सान का वो हिस्सा है जो कभी नष्ट नहीं होता।  जब हम ऐसा कहते हैं कि फ़लाना व्यक्ति मर गया तो इसका मतलब होता है कि उस व्यक्ति का शरीर मर गया है। उसकी आत्मा उस मृत शरीर से निकल कर एक माँ के पेट में पल रहे भ्रूण में जा कर स्थापित हो जाती है। वह आत्मा अपने साथ अपने पिछले जन्म की सारी स्मृतियाँ और संस्कार अपने अगले जन्म में लेकर जाती है।  यही कारण है जिसकी वजह से हम कई असाधारण बाल प्रतिभाएँ देखते हैं जो कि अपने बचपन से ही किसी एक हुनर या कला में बहुत प्रवीण होती हैं।  ऐसी आत्माओं में अपने पिछले जन्म की स्मृतियाँ बहुत गहरी होती हैं जिसका प्रभाव उनके वर्तमान जीवन के संस्कार व स्वभाव पर भी पड़ता है। अगर कोई व्यक्ति बहुत गहरी इच्छा लेकर अकाल मृत्यु को प्राप्त हो जाए तो कई बार उसकी आत्मा को अगला शरीर नहीं मिलता और वो भटकने लगती हैं।  ऐसे समय में वह आत्मा अपनी इच्छाओं को पूरा करने के लिए किसी व्यक्ति को माध्यम बना सकती हैं और उसके शरीर में प्रवेश कर सकती हैं।  ऐसे समय में हम इसे प्रेत आत्मा कहते हैं।  लेकिन प्रेत आत्माएँ हमेशा बुरी नहीं होतीं।  कई बार वह सहायता भी करती हैं।  कुछ दुष्ट तांत्रिक इन प्रेत आत्माओं को कैद करके उन्हें अपने बुरे उद्देश्यों को पूरा करने में इस्तेमाल करते हैं। 

कुंडली में कौन से ग्रह प्रेत आत्माओं को दर्शाते हैं ?: मैंने अपनी पिछली पोस्ट में जो ग्रह बुरी नज़र के लिए बताए थे लगभग वही सभी ग्रह प्रेत आत्माओं को भी दर्शाते हैं।  एक महत्वपूर्ण योग होता है जब बाधकेश षष्ठेश के साथ बैठता है।  यह प्रेत आत्मा के असर की तरफ इशारा करता है।  एक और महत्वपूर्ण योग बनता है जब चन्द्रमा और राहू इकठ्ठे बैठते हैं या फिर राहू या केतू में से कोई एक कर्क राशि में बैठा हो और मंगल की दृष्टि लग्न पर हो तब भी व्यक्ति प्रेत आत्माओं से ग्रस्त हो सकता है। 

प्रेत आत्माओं के प्रकार और उनसे ग्रस्त होने के लक्षण: हमारे पुराने ग्रंथों में कई प्रकार की प्रेत आत्माओं को परिभाषित किया गया है।  जिनमें से कई पुरुष स्वाभाव की हैं और कई नारी स्वभाव की।  प्रेत आत्माओं के कुछ प्रकार हैं : भूत , यक्ष , प्रेत , पिशाच , शाकिनी , चुड़ैल इत्यादि।  अब मैं इनसे ग्रस्त व्यक्ति के लक्षणों के बारे में बताता हूँ । 

भूत ग्रस्त व्यक्ति: भूत एक पौरुष शक्ति होती है और इससे ग्रस्त व्यक्ति किसी पागल व्यक्ति की तरह बात करता है । उसमे असाधारण शक्ति आ जाती है और एक साथ कई लोगों को धूल चटा सकता है । उसका शरीर कांपता रहता है और आँखें लाल रहती हैं । 

यक्षग्रस्त व्यक्ति: इस पौरुष शक्ति से ग्रस्त व्यक्ति की अचानक ही लाल रंग में बहुत रूचि हो जाती है । वह धीरे धीरे बोलता है और बहुत तेज़ चलता है । ज्यादातर समय वह आँखों के इशारों से बात करता है । 

पिशाचग्रस्त व्यक्ति: इस पौरुष शक्ति से ग्रस्त व्यक्ति किसी के भी सामने नग्न होने से हिचकता नहीं है । वह गालियां देता है और कमज़ोर हो जाता है । वह गन्दा रहता है , बहुत खाता है और उसके शरीर से दुर्गन्ध आती है । वह अकेला रहना चाहता है और कई बार अचानक रोता भी है । 

शाकिनीग्रस्त व्यक्ति: आमतौर पर शाकिनी से महिलायें ग्रस्त होती हैं । इस नारी शक्ति से प्रभावित व्यक्ति के सारे शरीर में और आँखों में दर्द होता है । कई बार वह बेहोश भी हो जाता है। वह ज्यादातर समय चिल्लाता और रोता रहता है । उसका शरीर कांपता रहता है । 

प्रेतग्रस्त व्यक्ति: प्रेत से ग्रस्त व्यक्ति रोता और चिल्लाता रहता है और यहाँ वहां भागता रहता है । वह किसी की बात नहीं सुनता और गालियां देता रहता है । वह ज्यादा खाता नहीं है और गहरे सांस लेता है और उसके साँसों में से एक आवाज़ भी आती है । 

चुड़ैल ग्रस्त व्यक्ति: चुड़ैल से ग्रस्त व्यक्ति के शरीर का भार अचानक बढ़ने लगता है वह हमेशा मुस्कुराता रहता है । वह हमेशा मांस खाना चाहता है चाहे वह व्यक्ति शाकाहारी हो तब भी ।

यह कुछ लक्षण थे खासतौर से इन बुरी शक्तियों से ग्रस्त होने के। अब मैं कुछ आम लक्षण बताता हूँ बुरी ताकतों से ग्रस्त हुए व्यक्ति के । 

बुरी आत्माओं से ग्रस्त व्यक्ति के लक्षण क्या होते हैं: 

  • बुरी आत्मा से ग्रस्त ब्यक्ति का स्वभाव अचानक बदल सकता है । 
  • वह तेज़ बुखार से ग्रस्त रह सकता है ।
  • उसकी आवाज़ बदल सकती है और कई बार ऐसा लगता है जैसे उसके अंदर से कोई और बोल रहा है ।
  • उसका स्वभाव अचानक ही बहुत क्रूर हो सकता है । 
  • वह अचानक ही काफी गालियां देना शुरू कर सकता है ।
  • उसे असाध्य बिमारी हो सकती है । जिसका कोई इलाज न समझ आ रहा हो या संभव हो।
  • उसे तेज़ सर दर्द और बदन दर्द रह सकता है ।
  • भूख में अचानक असाधारण बढ़ोत्तरी हो सकती है । 
  • बुरे सपने आते हैं । 
  • नींद ठीक से नहीं आती या बहुत देर तक सोता है । 
  • कई बार ऐसा लगता है की किसी ने छुआ है जबकि आस पास कोई भी नहीं होता है ।
  • भगवान की पूजा और भक्ति से अचानक दूर हो जाता है ।
  • मुँह में से हर समय दुर्गन्ध आती है ।
  • अजीब अजीब आवाज़ें सुनती रहती हैं । 
इसके अलावा कई और लक्षण भी होता हैं लेकिन सभी को यहाँ बताना संभव नहीं है । ऐसा ज़रूरी नहीं की प्रभावित व्यक्ति में ऊपर दिए सभी लक्षण नज़र आएं उनमे से कुछ लक्षण भी नज़र आ सकते हैं।

बुरी आत्माओं से बचने के लिए कुछ सावधानियां: बुरी आत्माओं के प्रभाव से बचने के लिए कई सावधानियां हैं जो नीचे दी गयी हैं । 

1) दूध या सफेद रंग की मिठाई खाने के तुरंत बाद चौराहे पर न जाएँ । चौराहे और गन्दी जगहों पर बुरी आत्माओं का वास होता है । दूध और सफ़ेद रंग पर चन्द्रमा का आधिपत्य होता है और चौराहे पर राहू का । दोनों एक दुसरे के कट्टर दुश्मन हैं इसलिए अगर ये चीज़ें खा पीकर कोई चौराहे पर जाता है तो चन्द्रमा दूषित होने की वजह से बुरी आत्माओं से प्रभावित होने का खतरा रहता है । 

2) मासिक धर्म के दौरान महिलाओं का बुरी आत्माओं से ग्रस्त होना का खतरा ज्यादा होता है। क्योंकि इस अवस्था में चन्द्रमा और मंगल कमज़ोर होते हैं । ऐसी महिलाओं को अगर संभव हो तो चौराहे पर जाने से बचना चाहिए मासिक धर्म के दौरान । 

3) बुरी आत्माएं शुभ अवसर जैसे की शादी पर काफी सक्रिय होती हैं ।

4) मुख्य दरवाज़े की चौखट पर दोपहर 12 बजे और रात 12 बजे बुरी आत्माओं का वास होता है इसलिए दरवाज़े के बीच में इस समय पर न खड़े हों ।

5) कुँए और बावड़ियों के आस पास भी बुरी आत्माओं का वास होता है क्योंकि जल राशि पर चन्द्रमा का आधिपत्य है जो राहु का शत्रु है । इसलिए देर रात अकेले ऐसी जगहों पर जाने से बचना चाहिए ।

6) जब शनि पूर्व भाद्रपद, उत्तरा भाद्रपद, ज्येष्ठा, अनुराधा, स्वाति या भरणी नक्षत्र में हो और शनिवार के दिन मकान बनाना आरम्भ कर दिया जाए तो ऐसे मकान में बुरी आत्माओं का वास होता है ।

यह कुछ सावधानियां थी बुरी आत्माओ के प्रभाव से बचने के लिए ।
  

बुरी आत्माओं से छुटकारा पाने के कुछ उपाय: प्रेत आत्माओं से छुटकारा पाने के सैंकड़ों तरीके हमारे पुराने ग्रंथों में दिए गए हैं । मैं उनमे से कुछ तरीके नीचे लिखने जा रहा हूँ । भविष्य में और उपाय अपनी पोस्ट्स में लिखता रहूंगा । 

1) गुग्गुल, लोबान और कपूर लीजिये और उन्हें इकठा जलाकर उनका धुंआ घर या ऑफिस के हर कोने में फैला दीजिये । इसे रोज़ करना चाहिए इससे कोई नकारात्मक प्रभाव घर या ऑफिस में नहीं रहता । 

2) कुछ ऐसे जप हैं जो बड़े से बड़े नकारात्मक प्रभाव के विरुद्ध भी अत्यधिक प्रभावी हैं और वो हैं हनुमान चालीसा, बजरंग बाण, दुर्गा सप्तशती, महामृत्युंजय मंत्र और गायत्री मंत्र । जप पूरी श्रद्धा और सच्चे मन से किया जाना चाहिए । महामृत्युंजय हवन भी काफी प्रभावी होता है । 

3) 15 का यन्त्र पहनना चाहिए । 

4) अगर कोई बच्चा बुरी आत्मा से प्रभावित हो तो कुछ मोरपंख जलाकर उनकी राख सुरक्षित रख लें । रोज़ यह राख थोड़ी सी चटा देने से और इस राख का माथे पर तिलक लगाने से बच्चा ठीक हो जाएगा ।

5) 10 मुखी और एकमुखी रुद्राक्ष बहुत प्रभावी होते हैं । 

6) बुरी आत्माओ से छुटकारा पाने के लिए सैंकड़ों शाबर मंत्र भी है जिनमे से एक मैंने अपने ब्लॉग पर भी दिया है आप इसे इस लिंक पर क्लिक करके पढ़ सकते हैं ।

अंत में मैं यह कहना चाहूँगा की जैसे भगवान के रूप में हम मानते हैं की एक सकारात्मक शक्ति होती है उसी तरह से नकारात्मक शक्तियां भी होती हैं । कुछ लोगों ने उन्हें अनुभव किया है इसलिए वो उन पर विशवास करते हैं जबकि कई लोगों के लिए वो सिर्फ अंधविश्वास हैं ।



Gaurav Malhotra

About the Author:

Gaurav Malhotra is a B Tech in Computer Engineering from National Institute of Technology (NIT, Kurukshetra) and a passionate follower of Astrology. He has widely traveled across the world and helped people with his skills. You can contact him on his email jyotishremedy@gmail.com. You can also read more about him on his page. His Facebook page is this.

16 comments:

  1. Gauravji
    namaskar
    1.kal surya grahan he to kya koi special recitation, puja ya restriction ke baare me batayenge plz
    2. Jinke kundali me shani, rahu ya ketu malefic ho unke lie koi khaas pratikaar for eg . Mere kundli me rahu aur chandra ek saath ashtam ghar me he so any special tip for me....

    ReplyDelete
    Replies
    1. Kal Bharat mein surya grahan nahi hai isliye iska bharat ke logon par koi effect nahi hai

      Delete
  2. Very informative article. Thanks a lot Gaurav Ji for guiding me throughout my troubled time.
    Karan Chand

    ReplyDelete
  3. pl let me know ways to increase Hb count mine is quite low.Any spl remedy/mantra?
    I would like 2 know why mothers 2b have craving for chalk etc?my mom must have had that as till today i crave for calcium tablets(innumerable) & ways 2 make children repulsive 2wards chalk ...

    ReplyDelete
  4. Guru g parnaam..
    Main apke artical lagatar padta aa raha hu..pichle kuch time se main apni life ko set ni kar pa raha..3 4 saal se job karna chahta hu but kahi baat ni banti.government job bhi try kar raha hu but kuch hath ni lag raha.kya ap muje kuch guide kar sakte ho.meri dob 13-08-1984,time 1:30am,palce ambala(haryana) hai.aapka bhot aabhari rahuga...

    ReplyDelete
    Replies
    1. Mujhe email kijiye jyotishremedy@gmail.com

      Delete
  5. How we can know if any spirit in a home ? Sometime me and my friends feel something in our Flat. Many times happen unbelievable things with us. how we be sure ?

    ReplyDelete
  6. Thanks, i m forward to get your reply.

    ReplyDelete
  7. My original voice is changed since 8 years back.previously I cud sing.Suddenly it is whispering.then till now.voice changed.what is the remedy?

    ReplyDelete
  8. Sir meri pregnancy main muje Bahut pareshani thi. Bus meri beti bach gayi. Sir next time ke liye koi precautions de.pl.pl

    ReplyDelete
    Replies
    1. Aap agli baar garbh gauri rudraksha aur garbh raksha yantra dharan kijiye

      http://www.theastrojunction.com/2014/02/yantra-for-frequent-miscarriages-and-to.html

      Delete
  9. Sir mai aap ka Bahot bada fan hu ,,,
    Sir ,,,
    Pure India me 30 crore log share bajar se Jude huye hai ,,, sir please koi esa mantra / yantra / remedies bataye jis se share bajar me profit ho ,,, me Bahot debt me hu please sir ,,,

    ReplyDelete
  10. Gaurav ji, 19 September tak mera mangal weak he aur shani ki mahadasha aur antardasha chal rahi he, mujhe kuch smells ayi raat ko do teen baar aur kisi ne bataya ki koi evil spirit he mangal weak hone ke kaaran. Aise mein kya katna chahiye

    ReplyDelete
    Replies
    1. Mujhe email kijiye jyotishremedy@gmail.com par

      Delete

I get huge no. of comments everyday and it is not possible for me to reply to each and every comment due to scarcity of time. I will try my best to reply at least a few comments everyday.

ShareThis